Wednesday, September 29, 2021

इंडियाशिफ्टफोकस के जालसाजों की नजर वर्ष 2021 के मध्य में वित्तीशय सेवाओं, ट्रैवल एवं लीजर व अन्य इंडस्ट्रीेज पर टिकी

 

मुंबई, 29 सितंबर, 2021 चूंकि दुनिया भर के व्‍यवसायों और उपभोक्‍ताओं पर जालसाजी के प्रयासों में लगातार बढ़ोत्‍तरी हुई है, ट्रांसयूनियन (NYSE: TRU) के सबसे नये तिमाही विश्‍लेषण में पाया गया कि भारत के जालसाज दोबारा वित्‍तीय सेवाओं, ट्रैवल, लीजर, कम्‍यूनिटीज (ऑनलाइन फोरम्‍स) एवं लॉजिस्टिक्‍स इंडस्‍ट्रीज पर अपनी नजर गड़ाए हुए हैं।

 

सभी उद्योगों में, 2021 की दूसरी तिमाही से 2020 की दूसरी तिमाही की तुलना में डिजिटल धोखाधड़ी के संदिग्ध प्रयासों[1] की दर में वैश्विक स्तर पर 16.5% की वृद्धि हुई। हालांकि, भारत से आने वाले लेनदेन के लिए इसी समय अवधि के दौरान डिजिटल धोखाधड़ी के प्रयासों का प्रतिशत 49.20% की दर से घट गया। Q2 2021 से Q2 2022 की तुलना करते समय, गेमिंग और यात्रा और अवकाश विश्व स्तर पर दो सबसे अधिक प्रभावित उद्योग थे, संदिग्ध डिजिटल धोखाधड़ी प्रयास दर, पिछले वर्ष में क्रमशः 393.0% और 155.9% बढ़ रही थी। इन समान समयावधियों की तुलना करने पर भारत में होने वाले लेन-देन के लिए, गेमिंग के लिए यह दर 53.97% और यात्रा और अवकाश के लिए 269.72%% बढ़ी।

 

ट्रांसयूनियन विभिन्न उद्योगों जैसे जुआ, गेमिंग, वित्तीय सेवाओं, स्वास्थ्य सेवा, बीमा, खुदरा और यात्रा और अवकाश, में व्यवसायों द्वारा रिपोर्ट किए गए डिजिटल धोखाधड़ी के प्रयासों की निगरानी करता है। निष्कर्ष अरबों लेन-देन और 40,000 से अधिक वेबसाइटों और ऐप्स से खुफिया जानकारी पर आधारित हैं, जो इसके प्रमुख पहचान प्रूफिंग, जोखिम-आधारित प्रमाणीकरण और धोखाधड़ी विश्लेषण समाधान

ट्रांसयूनियन ट्रूवैलिडेट - में शामिल हैं। इन वेबसाइटों और ऐप्स पर भारत सहित दुनिया भर के देशों से ट्रैफ़िक आ रहा है।

 

ट्रांसयूनियन के ग्‍लोबल फ्रॉड सॉल्‍यूशंस के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट, शाइ कोहेन ने कहा, '' धोखेबाजों के लिए हर कुछ महीनों में अपना ध्यान एक उद्योग से दूसरे उद्योग में स्थानांतरित करना काफी आम है। जालसाज ऐसे उद्योगों की तलाश करते हैं जो लेन-देन में अत्यधिक वृद्धि देख रहे हों। इस तिमाही में, जैसे-जैसे देशों ने अपने कोविड-19 लॉकडाउन से अधिक खोलना शुरू किया और यात्रा और अन्य अवकाश गतिविधियाँ अधिक मुख्यधारा बन गईं, धोखेबाजों ने स्पष्ट रूप से इस उद्योग को एक शीर्ष लक्ष्य बना दिया। समुदायों में वृद्धि और गेमिंग धोखाधड़ी को भी धोखेबाजों के फोकस में बदलाव के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है क्योंकि ये बढ़ते बाजार एक बड़ा लक्ष्य बन जाते हैं।''

 

धोखेबाजों के फोकस में अचानक बदलाव का एक उदाहरण वित्तीय सेवाओं में देखा जा सकता है। 2021 के पहले चार महीनों और 2020 के अंतिम चार महीनों की तुलना करने पर वैश्विक वित्तीय सेवाओं में ऑनलाइन धोखाधड़ी के प्रयास की दर में 149% की वृद्धि हुई थी। हालांकि, 2021 की दूसरी तिमाही और 2020 की दूसरी तिमाही की तुलना करते समय, संदिग्ध ऑनलाइन वित्तीय सेवा धोखाधड़ी के प्रयासों की दर अभी भी वैश्विक स्तर पर बढ़ी है, लेकिन वैश्विक स्तर पर 18.8% की बहुत कम दर पर। भारत से आने वाले लेन-देन के लिए उन दो अवधियों की तुलना करते समय उस दर में 15.35% की गिरावट आई है, जो वित्तीय सेवा उद्योग द्वारा अपनाए जा रहे मजबूत धोखाधड़ी नियंत्रण उपायों को दर्शाता है।

 

भारत में इंडस्‍ट्री के वर्ष-दर-वर्ष संदिग्‍ध डिजिटल फ्रॉड प्रयास की दर वर्ष 2021 की दूसरी तिमाही बढ़ी और घटी है

इंडस्‍ट्री

संदिग्‍ध जालसाजी प्रतिशत परिवर्तन

शीर्ष प्रकार की जालसाजी

सबसे अधिक प्रतिशत वृद्धि

ट्रैवल और लीजर

269.72%

क्रेडिट कार्ड जालसाजी

कम्‍यूनिटीज (ऑनलाइन डेटिंग, फोरम्‍स आदि)

267.88%

प्रोफाइल मिथ्‍या प्रस्‍तुति

लॉजिस्टिक्‍स

94.84%

शिपिंग जालसाजी

सबसे अधिक प्रतिशत गिरावट

टेलीकम्‍यूनिकेशंस

-96.64%

वास्‍तविक पहचान चोरी

रिटेल

-24.88%

अनुपयुक्‍त कंटेंट

गैंब्लिंग

-31.53%

पॉलिसी/लाइसेंस एग्रीमेंट उल्‍लंघन

 

 

श्री शाइ ने आगे बताया, '' महामारी त्वरित समुदाय (यानी ऑनलाइन डेटिंग) और ऑनलाइन खुदरा लेनदेन जिसमें रसद और धोखेबाजों की आवश्यकता होती है, ने इसे मान्यता दी है। भारत में अनलॉक के बाद, यात्रा और अवकाश तेजी से एक लक्ष्य बन गया है क्योंकि उद्योग ठीक हो गया है और धोखेबाज इस उद्योग में अधिक लेनदेन की वापसी के रूप में पूंजीकरण करना चाह रहे हैं, ”शाई ने कहा। "चूंकि धोखेबाज उपभोक्ताओं को लक्षित करना जारी रखते हैं, यह व्यवसायों पर निर्भर करता है कि वे अपने ग्राहकों को यह सुनिश्चित करने के लिए उचित स्तर की सुरक्षा सुनिश्चित करें कि शॉपिंग कार्ट परित्याग से बचने के लिए घर्षण-सही अनुभव होने के दौरान उनके लेनदेन सुरक्षित हैं।''

 

ट्रांसयूनियन की तिमाही डिजिटल जालसाजी विश्‍लेषण के बारे में अधिक जानकारी यहां प्राप्‍त की जा सकती है।  



[1]The percent or rate of suspected or risky fraudulent digital transaction attempts are based on those that TransUnion customers receiving TruValidate services have either denied or reviewed due to fraudulent indicators compared to all transactions it assessed for fraud.

No comments:

Post a Comment

आईसीआईसीआई डायरेक्ट ने लॉन्च किया आईसीआईसीआई डायरेक्ट आई लर्न

मुंबई - 1 जुलाई, 2022- विभिन्न वित्तीय सेवाओं के लिए एक डिजिटल प्लेटफॉर्म आईसीआईसीआई डायरेक्ट का संचालन करने वाली कंपनी आईसीआईसीआई सिक्योरिट...