Thursday, July 29, 2021

टैली प्राइम का नया वर्ज़न देगा कनेक्टेड ई-वे बिल का बेहतर अनुभव, पर्सनलाइज़्ड बिज़नेस रिपोर्टिंग को बनाएगा आसान

जयपुऱ, 29 जुलाई, 2021ः भारत में बिज़नेस मैनेजमेन्ट साॅफ्टवेयर उपलब्ध कराने वाली अग्रणी कंपनी टैली सोल्यूशन्स ने कनेक्टेड सर्विसेज़ के साथ ई-वे बिल जनरेशन के लिए सुविधाजनक वन-स्टाॅप समाधान- टैली प्राइम का नए वर्ज़न पेश किया है। इस समाधान के साथ बिज़नसेज़ माल की आवाजाही के लिए तुरंत और आसानी से ई-वे बिल जनरेट कर सकेंगे। इससे कई सिस्टम्स और इन सिस्टम्स में डेटा को मैनेज करने की ज़रूरत नहीं रहेगी। साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जा सकेगा कि पूरा वर्कफ्लो- जनरेशन, कैंसीलेशन, कम्प्लीशन और डीले आदि को सीधे साॅफ्टवेयर से मैनेज किया जा सके। इस तरह बिज़नसेज़ को ज़्यादा  सक्षम बनाया जा सकेगा और साथ ही कम्प्लायन्स की लागत भी कम होगी। 

यह साॅफ्टवेयर विभिन्न परिस्थितियों में होने वाली सभी गतिविधियों को टैªक कर व्यापक रिपोर्ट उपलब्ध कराता है, जो ई-वे बिल के लाईफसाइकल के दौरान जनरेट किए जाते हैं। लाॅन्च के अवसर पर तेजस गोयंका, मैनेजिंग डायरेक्टर, टैली सोल्यूशन्स ने कहा, ‘‘जीएसटी के रूप में कर व्यवस्था का एकीकरण होने के बाद, बिज़नसेज़ को आसान बनाने के लिए बहुत सी कोशिशें की गई हैं। इसके बावजूद, कई कारणों से ‘कम्प्लायन्स की लागत’ बढ़ रही है, जैसे मल्टीपल सिस्टम्स के साथ इंटरैक्ट करने की ज़रूरत। टैली प्राइम का नया वर्ज़न अपनी आसान कनेक्टेड क्षमता के साथ, कम्प्लायन्स को आसान बनाएगा तथा  देश भर में छोटे एवं मध्यम उद्यमों के लिए कम्प्लायन्स की लागत को कम करेगा, ताकि वे फिर से पूरे आत्मविश्वास कि साथ काम कर सकें। हमारी टीमों ने इस कनेक्टेड क्षमता के निर्माण के लिए कड़ी मेहनत की है जो कि पूरी तरह से सुरक्षित एवं प्राइवेट है।’’  

जीएसटी पोर्टल के अनुसार राजस्थान राज्य में वित्तीय वर्ष 20-21 के दौरान तकरीबन 2.9 करोड़ ई-वे बिल्स जनरेट किए गए, ऐसे में राजस्थान सबसे ज़्यादा ई-वे बिल्स जनरेट करने वाले कुछ राज्यों में से एक है। हालांकि, ज़्यादातर बिज़नसेज़ अभी भी इस काम को मैनुअली या एनआईसी पोर्टल के ज़रिए करते हैं जिससे पूरी प्रक्रिया बहुत जटिल हो जाती है। टैलीप्राइम के नए वर्ज़न के लाॅन्च के साथ टैली राज्य में छोटे एवं मध्यम कारोबारों के लिए 200 से अधिक वर्चुअल कार्यक्रमों का आयोजन करेगी, साथ ही स्थानीय एवं राज्य संघों के सहयोग से भी कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा, ताकि छोटे एवं मध्यम उद्यमों को ई-वे बिल जनरेशन एवं बिज़नेस संचालन में मदद की जा सके। पूरे राज्य में तकरीबन 70 सर्टिफाईड पार्टनर्स एवं कई एसोसिएट पार्टनर्स के साथ कंपनी हर शहर और हर ज़िले में ज़्यादा से ज़्यादा एसएमई तक पहुंचना चाहती है और उन्हें आॅटोमेशन में मदद करना चाहती है। 

इस नए वर्ज़न से टैली प्राइम की रिपोर्ट्स की क्षमता और अधिक बढ़ जाएगी, जिससे कस्टमर्स अपने बिज़नेस की ज़रूरत के अनुसार काम कर सकेंगे। ‘सेव माय व्यू’ फीचर के साथ यूज़र रिपोर्ट में बदले गए काॅन्फीगरेशन/ सैटिंग को सेव कर सकते हैं और जब चाहे इसका उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा, किसी भी समय, किसी भी स्थान पर ‘ब्राउज़र में टैली रिपोर्ट्स’ की सुलभता को बढ़ाने के लिए, इसमें सुधार लाया गया है, जो अब विभिन्न डिवाइसेज़ में बेहतर कंटेंट और विज़ुअल अनुभव प्रदान करता है।

No comments:

Post a Comment

जेकेके में दर्शकों ने शास्त्रीय व लोक संगीत की फ्यूजन प्रस्तुति का आनंद उठाया

जयपुर।  जवाहर कला केंद्र (जेकेके) में शुक्रवार शाम को मध्यवर्ती में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त फ़्यूज़न ‘कहरवा’ की प्रस्तुति ने दर्शकों क...