Thursday, July 15, 2021

जीईईसीएल ने कोविड के दौरान भी दिखाई अपनी क्षमता, कर्ज में कमी और अर्जित किया बेहतर लाभ

पूरी तरह से एकीकृत, कोल बेड मीथेन (सीबीएम) कंपनी ग्रेट ईस्टर्न एनर्जी कॉरपोरेशन लिमिटेड (जीईईसीएल) ने 31 मार्च 2021 को समाप्त 12 महीनों के लिए अपने पूर्ण वर्ष के परिणामों की घोषणा की है।

 

वित्त वर्ष 2021 के लिए संक्षिप्त वित्तीय हाईलाइट्स

 

FY 2021

FY 2020

Revenue

Rs.1,951.46m

Rs.2,569.40m

EBITDA

Rs.1,012.83m

Rs.1,484.94m

PAT / pre MTM / DTE*

Rs.178.82m

Rs.495.45m

Cash Profit

Rs.480.82m

Rs.826.46m

Net Debt

Rs. 3,851.40

Rs. 4,225.61

Net Debt : Equity Ratio

0.58

0.65

 

* MTM (Mark to Market) is on account of the restatement of the foreign currency loans; DTE (Deferred Tax Expense) is on account of difference in depreciation rates used forfinancial accounts and tax accounts and other expenses like exchange fluctuation / MTM

- कोविड- 19 के रूप में अब तक के सबसे बड़े वैश्विक स्वास्थ्य संकट के बीच वित्तीय वर्ष 2021 में वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाएं भी प्रभावित हुई, इस तरह यह एक अभूतपूर्व वर्ष था।

- 11 नवंबर 2020 को घोषित 30 सितंबर, 2020 तक के छमाही परिणामों के अनुसार कोविड-19 महामारी का बिक्री पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा, जो भारत में बाद में हुए राष्ट्रीय लॉकडाउन द्वारा और भी मुश्किल हो गया था। हालांकि, इस प्रभाव को कम करने के लिए, कंपनी ने लागत को अनुकूलित करने और दक्षता बढ़ाने के लिए उचित उपाय किए हैं।

- कोविड-19 महामारी के आर्थिक प्रभाव से बिक्री की मात्रा प्रभावित हुई, पर आश्वस्त रूप से, कंपनी लाभदायक बनी रही। उत्साहजनक रूप से, गैस उत्पादन पूरे साल के औसत 15.20 एमएमएससीएफडी से बढ़कर जून 2021 में औसतन 15.88 एमएमएससीएफडी हो गया है, जिसमें चाॅक्ड प्रोडक्शन भी शामिल है।

- कंपनी अपनी ऋण कूपन दर को अनुकूलित करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है और वित्त वर्ष 2021 में इसे 10.32 प्रतिशत से घटाकर चालू वित्त वर्ष 2022 में 9.58 प्रतिशत करने में सक्षम है। इसके कारण, वित्तीय वर्ष 2022 में 37.50 एम रुपए की वार्षिक बचत होगी।

- कंपनी लाभदायक है और इसने नकद उत्पादक की अपनी स्थिति को बरकरार रखा है और अपने सभी वित्तीय दायित्वों को समय पर पूरा करने के लिए पर्याप्त तरलता बना रखी है।

- रानीगंज (दक्षिण) ब्लॉक में शेल गैस और सीबीएम भंडार और संसाधन (जैसा कि पहले 15 नवंबर, 2018 को घोषित किया गया था)--

- 6.13 टीसीएफ (सर्वोत्तम अनुमान)/9.25 टीसीएफ (उच्च अनुमान) का ओजीआईपी

- 3पी प्लस 3सी प्लस 3यू 2,988.40 बीसीएफ (2.99 टीसीएफ) है

- बिना छूट वाला मूल्य 13.78 बिलियन डाॅलर

-  4.31 अरब डॉलर का रियायती मूल्य

- कंपनी ने अपने शेल अन्वेषण कार्यक्रम को शुरू करने के लिए पर्यावरण मंजूरी प्राप्त कर ली थी और इस वर्ष के अंत में अपेक्षित अंतिम अनुमोदन प्राप्त करने की प्रक्रिया जारी है। कंपनी शेल कार्यक्रम शुरू करने के लिए विभिन्न विक्रेताओं के साथ जुड़ रही है। कोर कुओं से प्राप्त और विश्लेषण किए गए परिणामों के अधीन, कंपनी का इरादा अच्छी संख्या में पायलट प्रोडक्शन वेल्स को ड्रिल करने का है।

- गेल (इंडिया) लिमिटेड ने 6 फरवरी, 2021 को जगदीशपुर - हल्दिया और बोकारो - धामरा पाइपलाइन को आंशिक रूप से चालू किया। कोलकाता में पाइपलाइन खंड को बिछाने पर आगे का काम चल रहा है और मीडिया रिपोर्टों के अनुसार अगस्त 2022 तक इसके पूरा होने की उम्मीद है। इस तरह कंपनी को कोलकाता के विशाल बाजार और विशाल पश्चिम बंगाल राज्य तक पहुंच बनाकर अपने ग्राहक आधार और बिक्री का विस्तार करने का अवसर प्रदान करेगा। इस पाइपलाइन का परिवहन शुल्क रु. 71.08/एमएमबीटीयू (डाॅलर 0.94/एमएमबीटीयू), जीएसटी 12 प्रतिशत सहित।

- मई 2021 के महीने में भारत का एलएनजी आयात पिछले वर्ष के इसी महीने की तुलना में अधिक था और मई 2021 तक चालू वर्ष के लिए संचयी आयात पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 24.86 प्रतिशत अधिक था। सार्वजनिक रूप से उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, भारत में एलएनजी की मौजूदा औसत लंबी अवधि की डिलीवरी 12.20 अमेरिकी डॉलर/एमएमबीटीयू है। उपरोक्त पाइपलाइन के माध्यम से इस गैस को पूर्वी क्षेत्र में ले जाने से ऊपर उल्लिखित अतिरिक्त परिवहन लागत और पूर्वी भारत में ग्राहकों को अन्य लागतों का भार भी उठाना पड़ेगा।

ग्रेट ईस्टर्न के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ प्रशांत मोदी ने कहा-

‘‘समीक्षा अवधि के दौरान विश्व अर्थव्यवस्था में सुस्ती का प्रभाव, वैश्विक कोविड-19 महामारी, और भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर में मंदी के बावजूद गैस की बिक्री की कीमतें, राजस्व और बिक्री की मात्रा काफी हद तक सक्षम बनी हुई हैं। बोर्ड इस बात पर प्रकाश डालना चाहता है कि कंपनी का व्यवसाय और बैलेंस शीट इन अप्रत्याशित घटनाओं के गंभीर प्रभाव को आराम से झेलने में सक्षम है।

‘‘महामारी के जवाब में, हमने उत्पादन को अनुकूलित करने, लागत में कटौती, दक्षता बढ़ाने की एक केंद्रित योजना लागू की है, और अतिरिक्त सुधारों को व्यवस्थित रूप से जारी रखा गया है।

‘‘उत्साहजनक रूप से, बैलेंस शीट से संबंधित वर्ष के पूरा होने के बाद, विश्व विकास दर अब पटरी पर लौट रही है और ऊर्जा की कीमतें, जो मार्च 2020 में नाटकीय रूप से गिर गईं, वर्तमान में यूएस डाॅलर 70 प्रति बैरल से ऊपर के स्तर पर हैं और इस तरह तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों के साथ पूर्व-महामारी स्तर पर लौट आई हैं।

‘‘गेल पाइपलाइन द्वारा पेश किए गए अवसरों के परिणामस्वरूप हम अपने मुख्य व्यवसाय के विकास में एक महत्वपूर्ण बिंदु पर हैं जो हमें अपने ग्राहक आधार और बिक्री की मात्रा का विस्तार करने और हमारे महत्वपूर्ण गैस भंडार का लाभ उठाने की अनुमति देगा। पूरा होने पर, गेल पाइपलाइन हमें कोलकाता के बड़े और अप्रयुक्त औद्योगिक बाजार और पश्चिम बंगाल जैसे विशाल राज्य में आगे आॅर्गेनिक ग्रोथ के रास्ते पर आगे बढ़ने का अवसर उपलब्ध कराएगा। हम अपने शेल एक्सप्लोरेशन और मूल्यांकन परियोजना को आगे बढ़ाने के लिए भी तत्पर हैं जो सभी अनुमोदनों के बाद ग्रेट ईस्टर्न के लिए एक और उत्कृष्ट आॅर्गेनिक ग्रोथ का अवसर होगा।

‘‘भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास में तेजी लाने के लिए सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों के साथ, भारत में हाइड्रोकार्बन की मांग बढ़ती रहेगी, जैसा कि एलएनजी के बढ़ते आयात से स्पष्ट है और ग्रेट ईस्टर्न द्वारा रखे गए स्वदेशी गैस भंडार का विकास भी इसमें सार्थक योगदान दे सकता है। जलवायु परिवर्तन की चिंताओं और उत्सर्जन को नियंत्रित करने की आवश्यकता को देखते हुए, ग्रेट ईस्टर्न को प्रोत्साहित किया जाता है कि गैस पर आधारित इसका कारोबार, जिसे तेजी से एनर्जी ट्रांजिशन फ्यूल के रूप में देखा जाता है, वैश्विक स्तर पर कम कार्बन/ कार्बन न्यूट्रज एनर्जी सप्लाई की दिशा में सहायता कर सकता है।

कंपनी के बारे में

भारत में एक पूरी तरह से एकीकृत गैस उत्पादन, विकास और अन्वेषण कंपनी। पश्चिम बंगाल में रानीगंज (दक्षिण) ब्लॉक से गैस का उत्पादन किया जा रहा है, जो ओरिजिनल गैस-इन-प्लेस के 9.25 टीसीएफ के साथ 210 वर्ग किमी में फैला है। कंपनी का दूसरा लाइसेंस तमिलनाडु में मन्नारगुडी ब्लॉक है, जो ओरिजिनल गैस-इन-प्लेस के 0.98 टीसीएफ के साथ 667 वर्ग किमी में फैला है।

चेयरमैन का वक्तव्य

हालांकि कोविड- 19 के मद्देनजर भारतीय अर्थव्यवस्था एक कठिन स्थिति का सामना कर रही है, फिर भी देश में कुछ मूलभूत ऐसी क्षमताएं हैं, जो इसे संकट से निपटने में मदद करेंगी।

अन्यथा निराशाजनक स्थिति के बीच, सरकार ने संकट को नए और साहसिक सुधारों को आगे बढ़ाने के अवसर में बदलने का प्रयास किया है, जिसके सकारात्मक परिणाम सामने आने चाहिए।

ग्रेट ईस्टर्न ने स्वच्छ ईंधन के उपयोग के माध्यम से प्रदूषण को कम करने के राष्ट्रीय प्रयास में अपनी ओर से महत्वपूर्ण योगदान दिया है। अपने स्वयं के संचालन में गैस का उपयोग करके और अपने ग्राहकों को गैस की आपूर्ति करके, ग्रेट ईस्टर्न ने कंपनी के परिचालन क्षेत्र में वायु गुणवत्ता और पर्यावरण फुटप्रिंट में सुधार करने में मदद की है। जलवायु परिवर्तन की चिंताओं और उत्सर्जन को नियंत्रित करने की आवश्यकता को देखते हुए, ग्रेट ईस्टर्न को प्रोत्साहित किया जाता है कि गैस पर आधारित इसका कारोबार, जिसे तेजी से एनर्जी ट्रांजिशन फ्यूल के रूप में देखा जाता है, वैश्विक स्तर पर कम कार्बन/ कार्बन न्यूट्रज एनर्जी सप्लाई की दिशा में सहायता कर सकता है।

कंपनी लगातार स्थानीय समुदाय के साथ जुड़ी हुई है और भोजन वितरित करके, चिकित्सा शिविर आयोजित करके, स्वास्थ्य पहल और खेल संबंधी गतिविधियों द्वारा उनके जीवन की गुणवत्ता में सुधार करती है, जिसकी व्यापक रूप से सराहना की गई है। कंपनी कोविड-19 के इस कठिन समय के दौरान मदद करने के लिए स्थानीय प्रशासन और समुदाय के साथ भी जुड़ रही है।

कंपनी की दूसरी संपत्ति, मन्नारगुडी ब्लॉक, तमिलनाडु राज्य में स्थित है, और 0.98 टीसीएफ ओरिजिनल गैस-इन-प्लेस के साथ 667 वर्ग किमी के क्षेत्र को कवर करती है। ब्लॉक वर्तमान में मध्यस्थता के अधीन सरकार के साथ है।

 

 

 

No comments:

Post a Comment

अजय पीरामल को ब्रिटेन की महारानी ने प्रदान किया मानद ब्रिटिश पुरस्कार

पीरामल ग्रुप के चेयरमैन अजय गोपीकिषन पीरामल को ब्रिटेन की महारानी ने मानद कमांडर ऑफ द ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर (सीबीई) से सम्मानित किया है...