Monday, June 21, 2021

फादर्स डे पर, एसबीआई लाइफ के#PapaHainNaडिजिटल फिल्मस में अपने प्रियजनों की रक्षा के लिए एक पिता के अनकहे संकल्पम को दिखाया गया

मुंबई, 21 जून, 2021: महामारी ने घर पर एक पिता की जिम्मेदारियों के साथ-साथ जिस तरह से वे अपने परिवार की रक्षा के वादे को पूरा करते हुए एक नई जीवन शैली को अपना रहे हैं के बारे में हमारे दृष्टिकोण को फिर से नया आकार दिया है। परिवार के साथ-साथ समाज के प्रति पिता द्वारा निभाई गई बड़ी भूमिका को स्वीकार करते हुए, इस फादर्स डे, एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस, जो देश के सबसे भरोसेमंद निजी जीवन बीमा कंपनियों में से एक है, ने एक मार्मिक डिजिटल फिल्म रिलीज की है। यह महामारी के बीच उभरती जिम्मेदारियों के प्रति एक पिता के भावनात्मक और सुरक्षात्मक पक्ष को दर्शाता है।

डिजिटल फिल्‍म का लिंक: https://www.youtube.com/watch?v=YZrClVZ39-g

वाटकंसल्ट द्वारा परिकल्पित, डिजिटल फिल्म अंत में एक भावनात्मक मोड़ के साथ एक पिता और एक छोटे बच्‍चे के बीच के बंधन को दिखाती है। पिता से बात करते हुए, छोटा बच्‍चा महामारी-जनित लॉकडाउन के कारण उत्पन्न चुनौतियों से निपटने में अपनी परेशानी को छिपाने की कोशिश कर रहा है। लेकिन पिता स्‍वाभाविक रूप से सहज हीउसछोटे बच्‍चे की परेशानी को समझ जाता है और हरसंभव मदद करता है। उनकी बातचीत में प्रदर्शित गर्मजोशी से यह विश्वास करना आसान हो जाता है कि यह एक पिता-पुत्र का रिश्ता है। हालांकि, फिल्म के अंत में यह पता चलता है कि वह आदमी उसका जन्‍मदाता पिता नहीं है। दरअसल, वह छोटा बच्‍चा उसकी घरेलू सहायिका का बच्चा है, जो सालों से अपने परिवार की देखभाल कर रहा है।

एसबीआई लाइफ के चीफ ऑफ ब्रांड, कॉरपोरेट कम्युनिकेशन एंड सीएसआर,श्री रवींद्र शर्माने कहा, “जबकि पुरुष अपनी जिंदगी के आंतरिक हिस्‍से के रूप में लगातार घरेलू जिम्मेदारियों को निभा रहे हैं, लेकिन महामारी और लॉकडाउन ने उनकी पारिवारिक जिम्‍मेदारियों से इतर की जिम्‍मेदारियों को भी उजागर किया है। हमारी फादर्स डे फिल्म, संक्षेप में, एक अंतर्दृष्टि है जिसे आज भारतीय घरों में व्यापक रूप से देखा जा रहा है, जिसमें परिवार बिना शर्त लोगों की मदद कर रहे हैं। एसबीआई लाइफ का #PapaHainNaअभियान उन पिताओं के लिए हैट टिप है जो सामाजिक परिवर्तन लाने में सक्रिय रूप से योगदान दे रहे हैं।

फिल्म इस बात पर प्रकाश डालती है कि महामारी के दौरान कैसेपिता न केवल घरेलू कामों में भाग लेकर रूढ़ियों को तोड़ रहे हैं, बल्कि अपने तत्काल के साथ-साथ विस्तारित परिवार की रक्षा करने के अपने वादे को भी पूरा कर रहे हैं।

वाटकंसल्‍ट की मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी, सुश्री हीरू डिंगरा ने कहा, “एसबीआई लाइफ की डिजिटल संपत्ति, #PapaHainNa, 2015 से एक पिता के प्यार की भावना का जश्न मना रही है। इस फादर्स डे पर, ब्रांड ने दिल को छू लेने वाली एक और परंपरा को जीवंत बनाए रखा है और वह है -रक्षा के लिए पिता की प्रतिबद्धता पर केंद्रित अभियान। पिताओं को सुपरहीरो कहा जाता है क्योंकि वे अनिवार्य रूप से दिन बचाते हैं। इसलिए, ब्रांडों ने पिता-बच्‍चे के संबंध की इस खूबसूरत अवधारणा का व्यापक रूप से लाभ उठाया है। हालाँकि, इस अभियान में और भी बहुत कुछ है। इसके अप्रत्याशित टर्न्‍स एवं ट्विस्ट्स को देखकर हमारे दर्शक दंग रह जायेंगे।''

No comments:

Post a Comment

जेकेके में महाकाव्य महाभारत पर आधारित नाटक 'उरूभंगम' का हुआ मंचन

जयपुर।  जवाहर कला केंद्र (जेकेके) के  रंगायन  में पाक्षिक नाट्य योजना के तहत रंग साधना थिएटर ग्रुप, जयपुर द्वारा शनिवार शाम को नाटक 'उरू...