Friday, June 18, 2021

पॉलीकैब करेगी सिल्वन इनोवेशन लैब्स प्राइवेट लिमिटेड का अधिग्रहण

भारत, 18 जून, 2021- पॉलीकैब इंडिया लिमिटेड (पीआईएल) ने सिल्वन इनोवेशन लैब्स प्राइवेट लिमिटेड (सिल्वन) में 100 प्रतिशत हिस्सेदारी हासिल करने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। सिल्वन एक टैक्नोलाॅजी कंपनी है जो घरों, कार्यालयों, बैंकों, खुदरा दुकानों, होटलों और अन्य स्थानों के लिए अत्याधुनिक ऑटोमेशन साॅल्यूशंस प्रदान करती है। सिल्वन भारतीय आवासीय भवन बाजार में होम ऑटोमेशन के काॅन्सेप्ट में अग्रणी कंपनी है और कई प्रमुख रियल एस्टेट डेवलपर्स के साथ कंपनी का एक प्रमाणित ट्रैक रिकॉर्ड है। सिल्वन ने 8,000 से अधिक घरों और कार्यालयों में 100,000 से अधिक उपकरणों को सफलतापूर्वक स्थापित किया है। इसकी स्थापना 2008 में चार इलेक्ट्रॉनिक्स और एम्बेडेड सिस्टम डोमेन दिग्गजों द्वारा की गई थी, जिनके पास टेक्सास इंस्ट्रूमेंट्स और ल्यूसेंट टेक्नोलॉजीज जैसी प्रतिष्ठित कंपनियों में संयुक्त रूप से मिलाकर 120 वर्षों का अनुभव है। संस्थापकों के पास भारत के प्रमुख इंजीनियरिंग संस्थानों से उन्नत डिग्री है और उनमें से तीन अर्थात् डॉ. गिरिधर कृष्ण, मोहन गोपालकृष्ण और अजय गुप्ता अधिग्रहण के बाद भी पीआईएल के साथ रहेंगे। बैंगलोर में स्थित इस कंपनी के पास 17 पेटेंट (फाइल्ड और प्रोविजनल) हैं। सिल्वन के आईओटी आधारित ऑटोमेशन प्रोडक्ट्स और साॅल्यूशन पोर्टफोलियो में लाइटिंग मैनेजमेंट सिस्टम, रूम ऑटोमेशन, तापमान नियंत्रण डिवाइस, कॉन्टैक्टलेस कंट्रोल, कर्टेन कंट्रोल, सुरक्षा उपकरण आदि शामिल हैं। मूल्य वर्धित सेवाओं के लिए कंपनी के एप्लिकेशन और क्लाउड प्लेटफॉर्म (आईपीएसएम) भी हैं और इसमें एडब्ल्यूएस, गूगल क्लाउड, सैमसंग स्मार्ट थिंग्स और आईबीएम वाटसन जैसे विभिन्न थर्ड पार्टी क्लाउड प्लेटफॉर्म पर एकीकृत क्षमताएं हैं। वायरलेस कनेक्टेड डिवाइसों के साथ ‘स्मार्ट’ आईओटी सॉल्यूशंस तकनीकी प्रगति, बढ़ती कनेक्टिविटी और बदलती उपभोक्ता प्राथमिकताओं के कारण तेजी से अपनी पहुंच बना रहे हैं, जिससे यह उपभोक्ता इलेक्ट्रिकल्स स्पेस में सबसे तेजी से बढ़ते सेगमेंट में से एक बन गया है। सिल्वन के अधिग्रहण से निश्चित तौर पर हमारी रिसर्च और इनोवेशन तथा डेवलपमेंट संबंधी क्षमताओं को एक नई पहचान मिलेगी। इसकी वायरलेस रेट्रोफिट सिस्टम तकनीक पारंपरिक एफएमईजी को स्मार्ट उत्पादों में तेजी से अपग्रेड करने में सक्षम बनाती है। इसके अलावा, पीआईएल के विशाल वितरण नेटवर्क और मजबूत विनिर्माण क्षमताओं का लाभ सिल्वन के अत्यधिक कार्यात्मक आईओटी आधारित समाधानों को आगे बढ़ाने के लिए उठाया जाएगा। कंपनी ने वित्त वर्ष 19 में बिक्री में 90 मिलियन रुपये से अधिक की कमाई की। हालांकि कोविड महामारी ने व्यवसाय को अपनी वास्तविक क्षमता प्राप्त करने से काफी बाधित किया है, फिर भी कंपनी के पास 1 बिलियन रुपये से अधिक के ऑर्डर पाइपलाइन में हंै। अधिग्रहण की लागत शेयरों के लिए लगभग 102 मिलियन रुपये और कुछ बकाया देनदारियों को पूरा करने के लिए अतिरिक्त धनराशि के रूप में लगभग 80 मिलियन रुपये है। सिल्वन पीआईएल के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी के रूप में काम करेगी। लेन-देन दोनों पक्षों द्वारा कुछ शर्तों को पूरा करने के अधीन है। पॉलीकैब के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर इंदर टी. जयसिंघानी ने कहा, ‘‘हमारी महत्वाकांक्षा एक अग्रणी उपभोक्ता केंद्रित कंपनी बनने की है। हमारी मजबूत गो-टू-मार्केट क्षमताएं और सिल्वन की डोमेन ताकत एक महत्वपूर्ण संयोजन प्रस्तुत करती है। यह हमारे आईओटी पोर्टफोलियो के लिए भी महत्वपूर्ण कदम है और नए युग के इनोवेटिव साॅल्यूशंस के साथ उपभोक्ताओं की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने की हमारी रणनीति के अनुरूप भी है। मेरा मानना है कि प्रोजेक्ट लीप के तहत हमारी एफएमईजी आकांक्षाओं को प्राप्त करने में भी सिल्वन महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।’’ पॉलीकैब इंडिया लिमिटेड के बारे में पीआईएल 89 अरब रुपये से अधिक राजस्व के साथ एक प्रमुख इलेक्ट्रिकल्स ब्रांड है। पीआईएल भारत में वायर्स और केबल्स की सबसे बड़ी निर्माता कंपनी और एफएमईजी क्षेत्र में सबसे तेजी से बढ़ने वाली कंपनी है। पीआईएल विभिन्न प्रकार के केबल, तार, बिजली के पंखे, एलईडी लाइटिंग और ल्यूमिनेयर, स्विच और स्विचगियर, सौर उत्पाद, पंप और कंड्यूट और एसेसरीज बनाती और बेचती है। पॉलीकैब अपने बी2सी व्यवसाय के माध्यम से विभिन्न उद्योगों के साथ-साथ खुदरा ग्राहकों, सार्वजनिक और निजी संस्थानों की विभिन्न जरूरतों को पूरा करता है। पीआईएल का देशभर में 4,100 से अधिक अधिकृत डीलरों और वितरकों का एक मजबूत वितरण नेटवर्क है जो 165,000 से अधिक खुदरा दुकानों की जरूरतों को पूरा करता है। व्यवसाय संचालन का प्रबंधन एक कॉर्पोरेट कार्यालय, 4 क्षेत्रीय कार्यालयों, भारत भर में 16 स्थानीय कार्यालयों और देश भर में स्थित 50 से अधिक गोदामों के माध्यम से किया जाता है। पीआईएल के पास गुजरात, महाराष्ट्र, उत्तराखंड और दमन में स्थित 23 विनिर्माण सुविधाएं हैं। पीआईएल विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय गुणवत्ता प्रमाणपत्रों का पालन करने के लिए अपनी निर्माण प्रक्रिया के इंटीग्रेशन और इनहाउस ‘आरएंडडी’ क्षमताओं के निर्माण पर जोर देती है। पीआईएल ने पिछले कुछ वर्षों में 55 से अधिक देशों को माल का निर्यात भी किया है।

No comments:

Post a Comment

“वाविन-वेक्टस” की संयुक्तरूप से प्रथम चैनल पार्टनर मीट जश्न के साथ संपन्न हुई

जयपुर। बिल्डिंग और इंफ्रास्ट्रक्चर इंडस्ट्री के ग्लोबल लीडर वाविन ने वॉटर स्टोरेज टैंक्स और पाइपिंग सिस्टम के क्षेत्र में देश की बहुप्रतिष्ठ...