Monday, June 21, 2021

सैशसेन रिंग के किंग- मार्क मार्कीज़ ने हासिल की एक और जीत

जर्मनी, 21 जून, 2021: करियर में लगातार 11वीं बार शानदार परफोर्मेन्स देते हुए, मार्क मार्कीज़ ने सैशसेन रिंग पर जीत हासिल की और अपनी आखिरी जीत के 581 दिनों के बाद पोडियम के सर्वश्रेष्ठ पायदान पर पहुंच गए हैं।

सैशसेन रिंग पर मार्क मार्कीज़ को कोई भी रूकावट जीत हासिल करने से रोक नहीं पाई, 10 बार जर्मन जीपी के ये विजेता हर कॉर्नर पर सफलता से आगे बढ़ते हुए कामयाबी के एक और मुक़ाम पर पहुंच गए। पहले लैप के अंत में, उन्होंने लीड ली और एलेक्स एस्परगारो के चैलेंज को डिफेंड किया। आठ बार विश्व चैम्पियन रह चुके मार्कीज़ ने बारिश की बूंदों के बीच लगातार अपनी गति बनाए रखी। रेस की आधी दूरी होने के बाद, मिग्वुल ओलिविरा मार्कीज़ के बहुत नज़दीक गए, ये  पुर्तगाली राइडर रेस लीडर के साथ सबसे तेज़ लैप्स ले रहे थे।

ओलिवेरिया राइडर के ज़बदस्त दबाव के बावजूद 2020 स्पेनिश ग्राण्ड प्रिक्स में चोट लगने के 336 दिनों बाद मार्कीज़ रेस कड़ी मेहनत करते हुए रेस के अंत तक पहुंचे और एक बार फिर से जीत का मुक़ाम हासिल किया। यह जर्मनी में उनकी लगातार 11वीं जीत है और सर्किट पर रेपसोल होण्डा टीम राइडर के लिए भी लगातार 11वीं जीत है, इस तरह 21 रेस वाली प्रतियोगिता का शानदार समापन हुआ। अपने 96 प्रीमियम क्लास पोडियम के साथ, वर्ग में 57वीं जीत के बाद मार्कीज़ सबसे अधिक प्रीमियम वर्ग पोडियम के लिए दोहान से आगे - कुल चौथे स्थान पर पहुंच गए हैं।

पोल एस्परगारो के लिए दिन की शुरूआत अच्छी हुई, ज़्यादातर सैशन में लीड लेने के बाद वार्म अप में उनकी रेपसोल होण्डा टीम आरसी213वी दूसरे स्थान पर गई। दुर्भाग्य से यह रेस एस्परगारो के लिए मुश्किल साबित हुई, शुरूआत में वे अपनी क्षमता के अनुसार अधिकतम परफोर्मेन्स नहीं दे पाए और आने वाले लैप्स में टाईट सैशसेन रिंग सर्किट पर ओवरटेक करने की कोशिश करते रहे। अपने चौथे सीज़न में एक और टॉप-टैन फिनिश करते हुए एस्परगारो ने 35 वर्ल्ड चैम्पियनशिप पॉइन्ट्स हासिल कर लिए और कुल 12वें स्थान पर रहे।

अगली रेस भी जल्द रही है, वर्ल्ड चैम्पियनशिप अपने नौंवे राउण्ड के लिए उत्तर में असेन, कैथेड्रल की ओर रूख करेगी। मार्कीज़ और एस्परगारो दोनों एक फिर से शानदार परफोर्मेन्स देने के लिए पूरे जोश में हैं और उत्साह के साथ मिड-सीज़न समर ब्रक की ओर बढ़ रहे हैं।

 

 

 

 

मार्क मार्कीज़ (पहली) सैशसेन रिंग पर 11वीं जीत

यह रेस मेरे करियर के सबसे महत्वपूर्ण, सबसे मुश्किल पलों में से एक थी। आज मैं जानता था कि मेरे लिए कुछ कर दिखाने का अच्छा मौका है। जब मैंने लाईन क्रॉस की, अपनी टीम के साथ वहां तक पहुंचना मेरे लिए बेहद भावनात्मक था, इतनी मुश्किल परिस्थिति के बाद हम पूरे जोश में थे। अकेले वापसी करना हमेशा मुश्किल होता है, आपको अपने साथ अच्छी टीम, अच्छे डॉक्टरों, फिज़ियो, की ज़रूरत होती है, होण्डा ने हमें पूरा सहयोग और सम्मान दिया है। एल्बर्टो पुइग, एमिलियो अल्ज़ामोरा और मेरे परिवार- सभी ने मुझे सहयोग दिया। अब हम सप्ताहान्त का आनंद ले रहे हैं। हम एक पेट्रोल स्टेशन की इंतज़ार में थे, अब हमें यह मिल गया है और हमारा फ्यूल टैंक एक बार फिर से भर चुका है। यह मेरे लिए, होण्डा के लिए, इंजीनियरों के लिए और टीम के लिए बेहद प्रेरणादायी है, हम भविष्य के लिए तैयार हैं। जब मैंने देखा कि चौथे- पांचवे लैप में मुझ पर बारिश की बूंदे गिरने लगीं, मैं समझ गया था कि यह रेस मेरी है। मैंने जोश के साथ आगे बढ़ना शुरू किया और फिर बारिश तेज़ होती गई, मैंने और कोशिश की और उसके बाद दूसरी रेस ओलिवेरिया के साथ शुरू हुई। वे भी पूरे जोश में थे, इस समय एकाग्रता बनाए रखना बहुत मुश्किल था, मेरे दिमाग में पिछले साल की यादें घूम रहीं थीं। लेकिन हमने कर दिखाया। आगे भी हम कर दिखाएंगे।

 

पोल एस्परगारो (10वें)

ईमानदारी से कहूं तो आज का दिन अच्छा नहीं था। मैंने अच्छी शुरूआत की, हमने खूब संघर्ष किया, कई बार मुझे ओवरटेक किया गया, आगे बढ़ना आसान नहीं था। तभी बारिश शुरू हो गई। मैं कई लोगों से पीछे छूट गया था, और उनसे आगे बढने के लिए तेज़ी नहीं ले पा रहा था। अगर आप सैशसेन रिंग पर जल्दी से ओवरटेक नहीं करते तो ऐसा ही होता है। मेरी रेस वैसी नहीं रहीं, जैसी मैं चाहता था, मैंने ऐसी उम्मीद नहीं की थी। लेकिन मार्क ने कर दिखाया, उनके लिए और रेपसोल होण्डा टीम के लिए मैं बेहद खुश हूं। इससे साफ है कि बाईक अच्छे से काम कर रही है और साथ ही हम और बेहतर परफोर्म कर सकते हैं। क्योंकि मैं पूरे सप्ताहान्त मार्क के बहुत करीब रहा हूं। यह मेरे लिए सुधार करने, कड़ी मेहनत करने और बेहतर परफोर्मेन्स देने की प्रेरणा है।

  

 

No comments:

Post a Comment

श्री कृष्ण बलराम मंदिर में नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव मनाया गया

जयपुर  |  हरे कृष्ण मूवमेंट जयपुर के जगतपुरा स्थित श्रीकृष्ण बलराम मंदिर में नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव मनाया गया। इस मौके पर मंदिर अध्यक्ष अमि...