Friday, June 18, 2021

टाटा मोटर्स और टाटा पावर ने पुणे में अपने कार प्लांट में शुरू किया भारत का सबसे बड़ा सोलर कारपोर्ट

राष्ट्रीय, 18 जून, 2021:  पर्यावरण के अनुकूल विनिर्माण के टाटा समूह के सिद्धांत पर चलते हुए टाटा मोटर्स और टाटा पावर ने मिलकर भारत का सबसे बड़ा ग्रिड-सिंक्रोनाइज़्डबिहाइंड-द-मीटर कारपोर्ट शुरू किया है। पुणे के चिखली में टाटा मोटर्स के कार प्लांट में इस सोलर कारपोर्ट को बनाया गया है। टाटा पावर द्वारा तैनात किए गए इस 6.2 एमडब्ल्यूपी क्षमता के सोलर कारपोर्ट में सालाना 86.4 लाख केडब्ल्यूएच बिजली का निर्माण किया जाएगा और अनुमान है कि इससे हर साल 7000 टन  और इसके  पूरे जीवनकाल में 1.6 लाख टन कार्बन उत्सर्जन रोकने में मदद मिलेगी।

30,000 स्क्वायर मीटर्स क्षेत्र पर फैला हुआ यह कारपोर्ट हरित ऊर्जा का विनिर्माण करने के साथ-साथ प्लांट में बनकर तैयार कारों के लिए कवर्ड पार्किंग की तरह भी इस्तेमाल किया जाएगा।

 

2039 तक कार्बन उत्सर्जन को निवल शून्य तक नीचे लाने के लक्ष्य के हिस्से के रूप में टाटा मोटर्स ने 31 अगस्त 2020 को टाटा पावर के साथ बिजली खरीद करार (पीपीए) पर हस्ताक्षर किए। कोविड-19 की चुनौतियों के बावजूद टाटा मोटर्स और टाटा पावर दोनों ने इस विशाल कारपोर्ट सुविधा को मात्र 9.5 महीनों के रिकॉर्ड समय में सफलतापूर्वक विकसित किया है।
 
इस अवसर पर टाटा मोटर्स के पैसेंजर वेहिकल बिज़नेस यूनिट के प्रेसिडेंट श्री शैलेश चंद्रा ने बताया, "टाटा मोटर्स मेंहमने अपने ग्राहकों को गुणवत्तापूर्ण उत्पाद और चिरस्थायी समाधान प्रदान करते हुएपर्यावरण पर अपने प्रभाव को कम करने के लिए और अधिक सार्थक तरीकों के लिए प्रयास करके अपने व्यवसाय के हर पहलू में स्थिरता और मज़बूती लायी है। ऊर्जा संरक्षण की आवश्यकता के प्रति हम हमेशा सचेत रहे हैं और अपने सभी कामों के लिए 100% शुद्ध ऊर्जा स्रोत प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। पुणे में हमारे कार प्लांट में भारत के सबसे बड़े सोलर कारपोर्ट को तैनात करने के लिए टाटा पावर के साथ हमारी साझेदारी उस दिशा में बढ़ाया गया एक कदम है।"
 
टाटा पावर के सीईओ और एमडी डॉ प्रवीर सिन्हा ने कहा, "वन टाटा पहल के तहत टाटा मोटर्स के साथ मिलकर भारत का सबसे बड़ा सोलर कारपोर्ट शुरू करते हुए हमें गर्व महसूस हो रहा है। हमारी यह साझेदारी कार्बन उत्सर्जन को कम करने के सामूहिक प्रयासों को दर्शाती है और साथ ही नए और भविष्य पर केंद्रित हरित ऊर्जा समाधान भी प्रदान करती है। शुद्ध संसाधनों के उपयोग के नए तरीकें हम आगे भी खोजते रहेंगे और उन्हें हमारे साझेदारों और ग्राहकों को प्रस्तुत करते रहेंगे।"
 
आरई100 का एक हस्ताक्षरकर्ता होने के नातेटाटा मोटर्स 100% नवीकरणीय ऊर्जा का उपयोग करने के लिए प्रतिबद्ध है और अपने संचालन में उपयोग की जाने वाली अक्षय ऊर्जा के अनुपात में लगातार वृद्धि करके इस लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में उन्होंने कई कदम उठाए हैं। वित्तीय वर्ष 2020 मेंकंपनी ने 88.71 मिलियन केडब्ल्यूएच नवीकरणीय बिजली का निर्माण कियाजो उनकी कुल बिजली खपत का 21% (वित्तीय वर्ष 2019 में 16% से अधिक) है। इससे 72,739 मीट्रिक टन के बराबर कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) का उत्सर्जन रोकने में मदद मिली। 2030 तक 100 प्रतिशत नवीकरणीय ऊर्जा प्राप्त करने की अपनी आकांक्षा को पूरा करने के लिए अक्षय ऊर्जा के लिए किए जाने वाले प्रयासों को ज़्यादा कड़ा करने की उनकी योजना है।

 टाटा पावर ने आज तक कई बड़े सौर समाधान बनाए हैं। एक ही जगह पर दुनिया का सबसे बड़ा रूफटॉप - राधास्वामी सत्संग बीस (आरएसएसबी)अमृतसर -16 मेगा वैटकोचीन अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा - 2.67 मेगा वैटविश्व का सबसे बड़ा सौर ऊर्जा संचालित क्रिकेट स्टेडियम क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया - 820.8 केडब्ल्यूपीडेल बंगलौर में 120 केडब्ल्यू का सोलर वर्टिकल फार्म का अनूठा इंस्टॉलेशननेल्लोर में टाटा केमिकल्स में 1.4 मेगा वैट का फ्लोटिंग सोलर आदि कई बड़ी परियोजनाएं उन्होंने बनायी हैं।  इसके अलावाटाटा पावर देश भर में घरों के छतों पर सोलर इंस्टॉलेशन का एक व्यापक कार्यक्रम भी कर रहा है ताकि लोगों को सौर ऊर्जा के माध्यम से ऊर्जा बचत के लाभों के बारे में जागरूक किया जा सकें।

No comments:

Post a Comment

श्री कृष्ण बलराम मंदिर में नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव मनाया गया

जयपुर  |  हरे कृष्ण मूवमेंट जयपुर के जगतपुरा स्थित श्रीकृष्ण बलराम मंदिर में नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव मनाया गया। इस मौके पर मंदिर अध्यक्ष अमि...