Saturday, May 29, 2021

अंबुजा सीमेंट कैप्टिव जहाजों पर हरित ईंधन पेश करने वाली भारत की पहली कंपनी बनी

नेशनल29 मई 2021- अंबुजा सीमेंट ने अपने दो सीमेंट वाहक जहाजों - अंबुजा मुकुंद और अंबुजा वैभव में सोया अर्क-आधारित बायो-फ्यूल का उपयोग करने का समुद्री परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है।

इस तरह अंबुजा सीमेंट न केवल देश की तटीय शिपिंग लाइनों में कार्बन उत्सर्जन समाप्त करने की ओर बढ़ने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई हैबल्कि कंपनी ने अपनी दो रणनीतिक प्राथमिकताओं - इनोवेशन और सस्टेनबिलिटी पर भी अपना और अधिक ध्यान केंद्रित किया है। यह पहल भारत सरकार के कार्बन उत्सर्जन को समाप्त करने (डीकार्बोनाइजेशन) और देश के लिए कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने से संबंधित मिशन का भी समर्थन करती है।

समुद्री परीक्षण भारत के नौवहन महानिदेशालय (डीजीएस) और भारतीय नौवहन रजिस्टर (आईआरएस) के अनुमोदन से आयोजित किए गए थे। डीजीएस ने अंबुजा सीमेंट्स के शेष उन जहाजों पर भी बायो फ्यूल परीक्षणों को मंजूरी दी हैजो ज्यादातर भारतीय तटीय मार्गों पर तैनात हैं।

बायो-डीजल पर स्विच करने से शिपिंग लाइनों से कार्बन उत्सर्जन में 25 फीसदी की कमी आएगीऔर इस तरह यह कदम पेरिस समझौते के तहत की गई अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करने की भारत की क्षमता को भी मजबूत करेगा। इसके अलावासफल परीक्षणों के साथ अंबुजा सीमेंट्स ने वैश्विक शिपिंग उद्योग को डीकार्बोनाइज करने के देश के वादे को पूरा करने में भी अपनी ओर से योगदान किया है। यह प्रतिबद्धता इंटरनेशनल मेरीटाइम आॅर्गनाइजेशन (आईएमओ) नॉर्वे ग्रीनवॉयज 2050 परियोजना के तहत की गई थी। भारत उन 11 राष्ट्रों के एक छोटे समूह में से एक है जो पर्यावरण की दृष्टि से महत्वपूर्ण इस वैश्विक परियोजना का हिस्सा हैं।

कंपनी की इस उपलब्धि के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए लाफार्जहोल्सिम के सीईओ इंडिया और अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड के एमडी और सीईओ श्री नीरज अखौरी ने कहा, ‘‘यह न केवल अंबुजा सीमेंट के लिएबल्कि भारत के शिपिंग क्षेत्र के लिए भी एक ऐतिहासिक उपलब्धि है। हम कैप्टिव जहाजों पर ग्रीन फ्यूल पेश करने वाली पहली कंपनी बन गए हैंऔर इसके साथ ही यह उपलब्धि भारत की सबसे सस्टेनेबल सीमेंट कंपनी बनने के हमारे विजन को भी नए सिरे सेे रेखांकित करती है। हमारे जहाजों में ग्रीन फ्यूल शुरू करने के हमारे प्रयास जीएचजी उत्सर्जन में कमी की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान देंगे। इस तरह हम अपनी पेरेन्ट कंपनी लाफार्जहोल्सिम के नेट जीरो प्लेज 2030’ के सस्टेनबिलिटी विजन को हासिल करने में मदद करेगा।

अंबुजा सीमेंट ने लाफार्जहोल्सिम के नेट जीरो प्लापन और सस्टेनबिलिटी संबंधी रणनीति के अनुरूप कदम उठाए हैं। कंपनी के सस्टेनेबल डेवलपमेंट प्लान 2030’ में जलवायु और ऊर्जा पर फोकस करने के साथ-साथ एक सर्कुलर इकोनाॅमी का निर्माण करनेसंसाधनों और प्रकृति का संरक्षण करने और समुदायों के जीवन में सार्थक परिवर्तन लाने पर विशेष ध्यान दिया गया है। यह पहल दरअसल अंबुजा सीमेंट के भारत में सबसे नवीनसतत और प्रतिस्पर्धी बिल्डिंग सॉल्यूशंस कंपनी बनने के निरंतर प्रयासों का ही एक हिस्सा है।

No comments:

Post a Comment

मंगलयान और चंद्रयान ने दिखाए बच्चों को अंतरिक्ष तक पहुंचने के सपने

-जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ तीन दिवसीय इसरो एग्जिबिशन का समापन - प्रिंसिपल मीट का हुआ आयोजन  जयपुर। जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय ...