Wednesday, May 5, 2021

महिन्द्रा समूह ने मुम्बई, ठाणे, पुणे, पिम्परी चिंचवड़, चाकन, नासिक और नागपुर में ऑक्सीजन की तेज आपूर्ति सुनिश्चित करने के उद्देश्य से 'ऑक्सीजन ऑन व्हील्स' शुरू किया

मुम्बई05 मई 2021: कोरोनावायरस महामारी के दूसरे लहर के बीच भारत ऑक्सीजन की आपूर्ति की भारी कमी से जूझ रहा है। महिन्द्रा समूह ने एक फ्री सेवा 'क्सीजन ऑन व्हील्स(ओ टू डबल्यूकी शुरुआत की हैजो ऑक्सीजन के उत्पादनकर्ताओं को अस्पताल और बहुत जरूरत वाले स्वास्थ्य केंद्रों से जोड़कर ऑक्सीजन की उपलब्धता को मजबूती प्रदान करेगा।

ओटूडब्ल्यू की शुरुआत मुम्बईठाणेपुणेपिम्परी चिंचवड़चकणनासिक और नागपुर में की गई है जहां वर्तमान में 100 महिन्द्रा वाहन ऑक्सीजन ढोने के काम में लगे हुए हैं। नागरिक प्रशासन और सरकारी विभागों से भी बातचीत जारी है ताकि इस मुफ्त सेवा को विस्तार देते हुए दूसरे शहरों में भी विशेषकर दिल्ली जहां ऑक्सीजन की भारी कमी है वहां भी इसे शुरू किया जा सके। पिछले 48 घंटों में इस सेवा को मिले जबरदस्त प्रतिक्रिया के बाद इस पहल के थोड़ा और विस्तार देते हुए सीधे मरीजों के घर तक ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति करने पर भी विचार किया जा रहा है।

ओटूडब्ल्यू का संचालन महिन्द्रा लॉगिस्टिक्सजो कि महिन्द्रा समूह की एक कम्पनी हैके द्वारा किया जाएगा जो इस परियोजना के लिए प्रशासन और स्थानीय सरकारों के साथ मिलकर काम कर रही है। अपने निपटान और एक एकीकृत कमान और नियंत्रण केंद्र पर वाहनों के एक बड़े बेड़े के साथमहिन्द्रा लॉजिस्टिक जीवन रक्षक ऑक्सीजन की सहज एवं अंतहीन आपूर्ति और इसे सुरक्षित और विश्वसनीय तरीके से अस्पतालों और स्वास्थ्य केंद्रों तक पहुंचाने के लिए कार्यरत है।

इस पहल के बारे में बात करते हुए महिन्द्रा समूह के प्रबंध निदेशक और मुख्‍य कार्यकारी अधिकारीअनीश शाह ने कहा कि "हम अपने संसाधनों और क्षमताओं का नये तरीके से उपयोग कर सामने आई हुई इस चुनौती का सामना करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। स्थानीय प्रशासनों के साथ मिलकर ऑक्सीजन ऑन व्हील्स तत्कालिक जरूरतों को पूरा करता है ताकि अमूल्य जीवन को बचाया जा सके और हमारे स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के ऊपर दबाव को कम किया जा सके।

महिन्द्रा समूह इस कोविड 19 के खिलाफ लड़ाई में सबसे आगे खड़ा रहा है। समूह का प्रयास एक व्यापक हिस्से को शामिल करने का है जिसमें सरकार के राहत प्रयासों के लिए धन एकत्रित करनाआईसीयू बेड प्रदान करनाआपातकालीन कैब सेवाक्वारंटीन केंद्रों, संसाधन विहीन लोगों को पैसे और सूखे राशन के द्वारा सहायता करनाऔर कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में सहायक होने वाली अतिआवश्यक सामग्रियों जैसे पीपीईफेस शील्डफेस मास्क और एरोसोल बक्सों को बनाने के लिए अपने उत्पादन तरीके और सुविधाओं को पुनः अभियंत्रित करना शामिल है।

इसके अलावा समूह ऑक्सीजन प्लान्ट्स और आइसोलेशन केंद्र स्थापित करने के लिए सरकार के साथ बहुत बारीकी से काम कर रही है। एम एंड एम के प्लांट्स और साथ ही साथ इसके आपूर्तिकर्ता भी किसी औद्योगिक कार्य के लिए ऑक्सीजन का प्रयोग नहीं कर रहे हैं। टेक महिंद्रा ने नर्सिंग अकादमी के स्टाफ और उन छात्रों की भी सहायता की है जो विभिन्न अस्पतालों में मदद कार्यों में लगे हुए हैं। वैक्सीनेशन भी समूह के लिए एक मुख्य प्राथमिकता रही हैजहां इसके सभी सहयोगियों और उनके परिवार जनों के 100वैक्सीनेशन पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है।

महिंद्रा लॉजिस्टिक्‍स के विषय में

महिंद्रा लॉजिस्टिक्स लिमिटेड (एमएलएल), 20.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाले महिंद्रा समूह के 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाले प्राइवेट इक्विटी डिविजनमहिंद्रा पार्टनर्स की पोर्टफोलियो कंपनी है। महिंद्रा लॉजिस्टिक्स एक अग्रणी थर्ड-पार्टी लॉजिस्टिक्स कंपनी हैजो विशेषीकृत एकीकृत आपूर्ति श्रृंखला एवं व्यक्ति परिवहन समाधान उपलब्ध कराती है। एक दशक से अधिक समय पहले स्थापितएमएलएल ऑटोमोबाइलइंजीनियरिंगउपभोक्ता वस्तुओं और ई-कॉमर्स सहित विभिन्न उद्योगों के 350 से अधिक कॉर्पोरेट ग्राहकों को सेवा उपलब्ध कराता है। कंपनी विभिन्न तरह की सेवाएं उपलब्ध कराती हैजैसे-वेयरहाउस मैनेजमेंटपरिवहनइन-फैक्ट्री लॉजिस्टिक्स और मूल्यवर्द्धित सेवाएं जैसे-पैकेजिंग एवं लेबलिंग।

अधिक जानकारी के लिए, www.mahindralogistics.com पर जाएं।

महिंद्रा के विषय में

महिन्द्रा समूह 19.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाला कंपनियों का संघ हैजो नये-नये मोबिलिटी समाधानों के जरिए और ग्रामीण समृद्धिशहरी रहन-सहन को बढ़ाते हुएनये व्यवसायों को प्रोत्साहन देकर और समुदायों की सहायता के जरिए लोगों को राइज अर्थात़ उत्थान करने में सक्षम बनाता है। इसका ट्रैक्टरउपयोगिता वाहनसूचना प्रौद्योगिकी और वैकेशन ओनरशिप में अग्रणी स्थान है और यह वॉल्युम की दृष्टि से दुनिया की सबसे बड़ी ट्रैक्टर कंपनी है। कृषि-व्यवसायएयरोस्पेसकल-पुर्जेपरामर्श सेवाओंप्रतिरक्षाऊर्जाऔद्योगिक सेवाओंलॉजिस्टिक्सजमीन-जायदादखुदराइस्पात और दोपहिये उद्योगों में महिन्द्रा की महत्वपूर्ण मौजूदगी है। इसका मुख्यालय भारत में है। 100 से अधिक देशों मेंमहिन्द्रा के 2,56,000 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं।

No comments:

Post a Comment

मंगलयान और चंद्रयान ने दिखाए बच्चों को अंतरिक्ष तक पहुंचने के सपने

-जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ तीन दिवसीय इसरो एग्जिबिशन का समापन - प्रिंसिपल मीट का हुआ आयोजन  जयपुर। जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय ...