Monday, May 10, 2021

50%पुलिसकर्मियों को लॉकडाउन के बाद वाणिज्यिक प्रतिष्ठारनों में चोरी-डकैती की घटनाएं बढ़ने का अनुमान - गोदरेज लॉक्सं हर घर सुरक्षित रिपोर्ट का खुलासा

मुंबई, 10 मई, 2021: जहां भारत कोरोनावायरस की दूसरी लहर से निपटने के लिए देश अपनी कमर कस रहा है, वहीं महाराष्‍ट्र, पंजाब, उड़ीसा, राजस्‍थान जैसे कई राज्‍यों में आंशिक या संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा हो चुकी है। इसके चलते, सभी नॉन-एसेंशियल कॉमर्शियल आउटलेट्स जैसे कि सड़क के किनारे की दुकानें, रिटेल स्‍टोर्स, मॉल्‍स, ऑफिसेज एवं अन्‍य व्‍यावसायिक प्रतिष्‍ठानों का बंद होना तय है। हालांकि, लॉकडाउन के बाद, स्थिति चिंताजनक होगी ऐसा लग रहा है क्योंकि ऐसे स्थानों में डकैती बढ़ सकती है। गोदरेज समूह की प्रतिष्ठित कंपनी, गोदरेज एंड बॉयस के बिजनेस, गोदरेज लॉक्‍स द्वारा भारत के पुलिस बलों की राय के आधार पर तैयार की गयी 'हर घर सुरक्षित रिपोर्ट 2020' के अनुसार, भारत भर के50% पुलिसबलका मानना है कि लॉकडाउन हटने के बाद वाणिज्यिक स्थानों में चोरी बढ़ सकती है। इस संभावित वृद्धि के पीछे एक कारण है - कोविड-19 महामारी के चलते पैदा हुई बेरोजगारी की समस्‍या। छोटी-मोटी चोरी, वाहन चोरी और व्‍यावसायिक प्रतिष्‍ठानों में सेंध जैसे मामले पहले से ही पुलिस के संज्ञान में आते रहे हैं।

 इनकॉग्निटो इनसाइट्स द्वारा यह शोध अध्‍ययन किया गया और गोदरेज लॉक्‍स के देशव्‍यापी जनजागरूकता अभियान, हर घर सुरक्षित के अंतर्गत इसे जारी किया गया, ताकि लोगों को घर की सुरक्षा के प्रति सजग किया जा सके। घर और वाणिज्यिक सुरक्षा, अपराध के स्तर पर कोविड-19 के प्रभाव और आवासीय एवं वाणिज्यिक स्थानों की असुरक्षा के बारे में भारत भर के 460 से अधिक पुलिस अधिकारियों का सर्वेक्षण किया गया था।

 वाणिज्यिक स्थानों के संबंध में, पुलिस का मानना है कि आधे से अधिक चोरी (54%) सड़क के किनारे की दुकानों या बाजार क्षेत्रों में स्थित दुकानों में होती है क्योंकि उनके पास पर्याप्त सुरक्षा उपाय नहीं होते हैं। पुलिस बताती है कि कार्यालयों (छोटे और बड़े कार्यालय) में चोरी और तोड़-फोड़ की घटनाएं 29% हैं, हालांकि संख्या में अपेक्षाकृत कम है।

 पुलिस ने माना कि चोरी आमतौर पर अन-ब्रांडेड ताले (32%) वाले व्यावसायिक स्थानों में होती है। हालांकि, 69% पुलिस इस बात से सहमत हैं कि व्यावसायिक प्रतिष्ठानों की तुलना में चोरों के लिए घर में तोड़-फोड़ करना आसान है।

 गोदरेज लॉक्‍स के कार्यकारी वाइस प्रेसिडेंट और बिजनेस हेड, गोदरेज लॉक्‍स, श्‍याम मोटवानी ने इस बारे में बताया, ''गोदरेज लॉक्‍स ब्रांड ने हमेशा से समाज में लोगों के बीच सुरक्षा एवं सुरक्षा उपायों को लेकर जागरूकता पैदा करने का प्रयास किया है। हमारा उद्देश्‍य सदैव से आवासीय एवं वाणिज्यिक प्रतिष्‍ठानों के सुरक्षा स्‍तरों को बढ़ाना है। हमारे द्वारा कराया गया शोध वाणिज्यिक प्रतिष्‍ठानों की सुरक्षा से जुड़े जरूरी खुलासे करता है। यह रिपोर्ट हमारे भरोसेमंद सुरक्षा संरक्षक, अर्थात पुलिस की राय पर आधारित है। इन निष्‍कर्षों का मुख्‍य उद्देश्‍य इस समस्‍या के प्रति लोगों का ध्‍यान आकृष्‍ट करना है। हमें उम्‍मीद है कि लोग मौजूदा स्थिति पर ध्‍यान देंगे और डकैतियों एवं सेंधमारियों जैसे खतरों से बचाव के लिए स्‍वयं को बेहतर तरीके से तैयार रखेंगे।''

 रिपोर्ट में उत्तर, दक्षिण, पूर्व और पश्चिम जैसे क्षेत्रों में वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों की सुरक्षा के बारे में अधिक जानकारी दी गई है। जब क्षेत्रों के बीच तुलना की जाती है, तो यह पता चलता है कि उत्तरी भारत में व्यावसायिक दुकानों को डकैतियों और चोरी का सबसे अधिक खतरा है, क्योंकि 61% पुलिस ऐसी घटनाओं को बढ़ते-बढ़ते लॉकडाउन के रूप में देखते हैं। दूसरी ओर, पूर्वी क्षेत्र में रिस्क-इन्स में केवल 27% पुलिस वृद्धि के बाद से कम जोखिम है। इसके अलावा, 53% पुलिस का मानना ​​है कि दक्षिणी क्षेत्र इन ब्रेक-इन में वृद्धि देखेंगे और 55% पुलिस का मानना ​​है कि पश्चिम में व्यावसायिक स्थानों पर पोस्ट-लॉकडाउन ब्रेक-इन बढ़ जाएगा।

 शहर के स्तर पर, 63% पुलिस का मानना ​​है कि मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, और चेन्नई जैसे महानगरों में पोस्ट-लॉकडाउन वाणिज्यिक अंतरिक्ष ब्रेक-इन बढ़ जाएगा। कम जोखिम में तुलनात्मक रूप से 42% पुलिस का मानना ​​है कि इन शहरों में पोस्ट-लॉकडाउन वाणिज्यिक अंतरिक्ष ब्रेक-इन में वृद्धि होगी। उपरोक्त निष्कर्षों से पता चलता है कि वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों के मालिकों को इन अभूतपूर्व समय के दौरान अपनी संपत्तियों की सुरक्षा के लिए ध्यान देने की आवश्यकता है।

No comments:

Post a Comment

मंगलयान और चंद्रयान ने दिखाए बच्चों को अंतरिक्ष तक पहुंचने के सपने

-जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ तीन दिवसीय इसरो एग्जिबिशन का समापन - प्रिंसिपल मीट का हुआ आयोजन  जयपुर। जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय ...