Thursday, May 6, 2021

मुनाफे में आया लेनदेन क्लब, वित्त वर्ष 22 में 1,200 करोड़ रुपये के कर्ज वितरण लक्ष्य को पार करने पर नजर

मई 6, 2021: लेनदेन क्लब ने घोषणा करते हुए बताया कि उसने वित्त वर्ष 2020-21 में 500 करोड़ रुपये के लोन वितरण का आंकड़ा पार कर लिया है। कंपनी ने बताया है कि वह संबंधित वित्तीय वर्ष में मुनाफे की स्थिति में आने में सफल रही है। लेनदेन भारत की तेजी से बढ़ती पीटूपी (पीर टू पीर) कर्ज देने वाली कंपनी है।

 वित्त वर्ष 2020-21 में लेनदेन क्लब ने 600 करोड़ रुपये का कर्ज वितरित किया, जबकि वित्त वर्ष 19-20 में कंपनी ने 60 करोड़ रुपये और वित्त वर्ष 18-19 में कंपनी ने 13 करोड़ रुपये का कर्ज वितरित किया था। इस लिहाज से कंपनी ने सालाना आधार पर 1,000 % का ग्रोथ दर्ज किया है।  कंपनी का लक्ष्य अगले दो सालों में पांच गुणा ग्रोथ के साथ वित्त वर्ष 21-22 में 1,200 करोड़ रुपये के कर्ज वितरण का है।

 कंपनी ने 1,30,000 विशेष कर्जदारों और समग्र रूप से 3,60,000 लोन दिए हैं, जिसमें विशेष रूप से युवा वेतनभोगी पेशेवर शामिल हैं। कंपनी प्रति महीने 100 करोड़ रुपये के लक्ष्य के समीप पहुंच रही है। कंपनी ने प्रत्येक महीने 25,000 से 30,000 लोन आवेदनों की प्रॉसेसिंग की है और करीब 1500 लोन हर महीने वितरित किए हैं। भारती में पीटूपी कर्जदाताओं के पास करीब 15 लाख से अधिक कर्जदारों की संख्या है और 4.5 लाख कर्ज देने वाले लोग इस प्लेटफॉर्म पर मौजूद हैं।

कोविड-19 के बाद की स्थिति में कंपनी पीटूपी क्षेत्र को लेकर काफी आशावान है। फिलहाल कंपनी का लोन बुक सालाना 2 लाख का है, जिसमें औसत लोन की राशि 30,000 रुपये है। कंपनी मौजूदा वित्त वर्ष में मजबूत मांग और 1200 करोड़ रुपये के नए कर्ज वितरण पर नजरें जमाए हुए हैं। इस लिहाज से मौजूदा वित्त वर्ष के अंत तक कंपनी सालाना करीब 2500 करोड़ रुपये के वितरण के आंकड़ें को पार कर लेगी। हाल ही में यह पहली वैसी पीटूपी कंपनी बनने में सफल रही है, जिसने खुद को गूगल पे के साथ एकीकृत किया है। लेनदेन क्लब गूगल पे पर अब लाइव है और इसकी मदद से ग्राहक आसानी और सुविधाजनक तरीके से कर्ज ले और दे सकते हैं और साथ ही भुगतान भी कर सकते हैं। 

इसके अतिरिक्त कंपनी ने अपनी प्रमुख लेंडिंग प्लेटफॉर्म इंस्टामनी का विस्तार अब देशव्यापी कर दिया है। सात राज्यों से अपनी मौजूदगी को बढ़ाकर कंपनी ने अब अपनी मौजूदगी को देशव्यापी कर दिया है जहां 19,000 से अधिक पिन कोड वाले इलाकों के कर्जदार आसानी से लोन के लिए आवेदन करते हैं और तेजी से उसे प्राप्त भी कर सकते हैं। इससे टियर 3 शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के एक हिस्से को मदद मिलेगी, जहां बैंक की पहुंच नहीं है और लोगों को करीब 10,000 रुपये तक के छोटे कर्ज की जरूरत होती है। कंपनी का एनपीए इस क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियों के मुकाबले बेहद कम 3.95% है।

 इस मौके पर बोलते हुए लेनदेन क्लब के सह संस्थापक और सीईओ भविन पटेल ने कहा, शानदार वित्त वर्ष 21 के बाद हम इस वित्त वर्ष में बड़े ग्रोथ की उम्मीद कर रहे हैं। यह तेजी से विकसित हो रहे बैंकिंग सेक्टर की मिसाल है, जो ग्राहक केंद्रित भावना को प्राथमिक लक्ष्य मानकर चलता है। सितंबर 2020 में अर्थव्यवस्था को खोले जाने के बाद हमने खुदरा और कारोबारी दोनों ही क्षेत्रों में कर्ज मांग में इजाफा देखा। हम मानते हैं कि मौजूदा साल की पहली तिमाही में ग्रोथ मजबूत नहीं रहेगी लेकिन बाद की तीन तिमाहियों में इसमें बहुत तेजी से इजाफा होगा। अगले तीन सालों में कर्ज वृद्धि दर सबसे अधिकतम होगी और पीटूपी लेंडिंग इसमें एक अहम भूमिका में होगी।

 उन्होंने कहा, लेनदेन क्लब में हमारा प्राथमिक ध्यान प्रौद्योगिकी और भविष्य के संभावित ग्राहकों के मुताबिक उत्पादों और अल्गोरिद्म के निर्माण पर रहा है। कर्जदाताओं के मामले में हमारे पास एक अनोखा लोन मैचिंग अल्गोरिद्म है जो उन्हें बेहतर रिटर्न दिलाता है, वहीं कर्जदारों के मामले में हमारे पास सबसे बेहतर प्रदर्शन करने वाले कर्जदारों को चुनने का अल्गोरिद्म है।

 लेनदेन क्लब का लक्ष्य वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देना है और हाशिए पर रहने वाले, कम आय वाले समूहों और ऋण-ग्रस्त एमएसएमई की सेवा करना है। लॉकडाउन की वजह से देश के डिजिटल परिदृश्य में बदलाव हुआ है और डिजिटल बैंकिंग समाधानों के शुरुआत से ऑटोमेशन और एपीआई प्रक्रियाओं में तेजी आई है। लेनदेन क्लब निवेशकों को बेहतर निवेश विकल्प का मुहैया कराता है ताकि वह इस प्लेटफॉर्म के जरिए कर्ज दे सकें और अन्य निवेश विकल्पों के मुकाबले ज्यादा रिटर्न हासिल कर सकें।

 देश की शीर्ष कर्जदाता संस्थाओं में एक बनने की दिशा में काम करते हुए कंपनी वित्त वर्ष 23-24 तक मासिक आधार पर 500 करोड़ रुपये वितरण लक्ष्य को हासिल करने की उम्मीद कर रही है।

 

No comments:

Post a Comment

मंगलयान और चंद्रयान ने दिखाए बच्चों को अंतरिक्ष तक पहुंचने के सपने

-जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ तीन दिवसीय इसरो एग्जिबिशन का समापन - प्रिंसिपल मीट का हुआ आयोजन  जयपुर। जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय ...