Tuesday, May 18, 2021

एसबीआई की नई दिल्ली मुख्य शाखा ने खोले 13 हजार से अधिक एफसीआरए खाते

नई दिल्ली- 18 मई2021- देश के सबसे बड़े ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की नई दिल्ली मुख्य शाखा (एनडीएमबी) ने अब तक 13,729 विदेशी अंशदान (विनियमन) अधिनियम (एफसीआरए) खाते खोले हैं। इस शाखा को अक्टूबर 2020 में गृह मंत्रालय द्वारा एफसीआरए खाते खोलने के लिए नामित किया गया था।

कुल 22,598 सक्रिय एफसीआरए एसोसिएशंस में से 17,611 संस्थाओं (एनजीओ और एसोसिएशंस) ने एफसीआरए खाते खोलने के लिए एसबीआई से संपर्क किया है। बैंक पहले ही 78 फीसदी आवेदकों के खाते खोल चुका है। शेष खातों को भी उनकी लंबित दस्तावेज औपचारिकताएं पूरी होने के बाद शुरू कर दिया जाएगा।

एसबीआई ने गृह मंत्रालय और वित्तीय सेवा विभाग (डीएफ) के साथ समन्वय में एफसीआरए खाता खोलने और संचालित करने के लिए एक मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) भी तैयार की हैजो बैंक की वेबसाइट और गृह मंत्रालय की एक ई-गवर्नेंस पहल एफसीआरएऑनलाइन पर उपलब्ध है। इसके अलावा एसबीआई के एनडीएमबी ने एफसीआरए खाते खोलने के बारे में एफसीआरए संघों को तैयार करने और मार्गदर्शन करने के लिए 28 वेबिनार आयोजित किए।

सभी एसबीआई शाखाएं एफसीआरए एसोसिएशंस से खाता खोलने का आवेदन प्राप्त करने के लिए अधिकृत हैं। शाखाएं उन फॉर्मों और दस्तावेजों को ईमेल के माध्यम से एनडीएमबी को जमा करती हैं। कई मामलों में विभिन्न स्थानों पर हस्ताक्षरकर्ताओं को सक्षम करने के लिए कई शाखाओं में डाॅक्यूमेंटेशन कैंप आयोजित किया गया। एसबीआई की शाखाओं के मजबूत नेटवर्क के साथएफसीआरए संघों के पदाधिकारी एनडीएमबी का दौरा किए बिना अपनी निकटतम एसबीआई शाखा से अपने खाता खोलने संबंधी औपचारिकताओं की प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं।

स्थानीय एसबीआई शाखाओं के अलावाएफसीआरए के तहत सक्रिय एसोसिएशंसबैंक की नई दिल्ली मुख्य शाखा में क्रमशः 011-23374213143,390,392 और fcra.00691@sbi.co.in पर एफसीआरए सेल को कॉल या ईमेल कर सकते हैं।

विदेशी अंशदान (विनियमन) संशोधन विधेयक2020 को 20 सितंबर2020 को लोकसभा में पेश किया गया था। अधिनियम व्यक्तियोंसंघों और कंपनियों द्वारा विदेशी योगदान की स्वीकृति और उपयोग को नियंत्रित करता है। साथ ही इस विधेयक में एक नया प्रावधान जोड़ा गयाजिसके तहत सभी स्वयंसेवी संगठनों और एसोसिएशंस के लिए एक निर्दिष्ट बैंक खाते (एसबीआई की नई दिल्ली मुख्य शाखा) में विदेशी धन प्राप्त करना अनिवार्य बनाया गया है।

No comments:

Post a Comment

मंगलयान और चंद्रयान ने दिखाए बच्चों को अंतरिक्ष तक पहुंचने के सपने

-जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ तीन दिवसीय इसरो एग्जिबिशन का समापन - प्रिंसिपल मीट का हुआ आयोजन  जयपुर। जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय ...