Saturday, April 24, 2021

एनटीपीसी ने फ्लाई ऐश यूटिलाइजेशन पर नवीन विचारों के लिए स्पर्धा का आयोजन

जयपुर 24 अप्रैल 2021 – भारत की सबसे बड़ी ऊर्जा एकीकृत विद्युत कंपनी एनटीपीसी लिमिटेड ने फ्लाई ऐश के अभिनव उपयोग पर विचारों को आमंत्रित करने के लिए एक शानदार प्रतियोगिता की घोषणा की है। प्रतियोगिता का उद्देश्य पावर प्लांट्स में उत्पादित ऐश के 100 प्रतिशत उपयोग को बढ़ावा देने के हेतु  नए विचारों की जानकारी हासिल करना है।

प्रतियोगिता 20 अप्रैल 2021 को शुरू हुई है और 19 मई 2021 तक जारी रहेगी।

इस प्रतियोगिता के माध्यम से एनटीपीसी ने पर्यावरण संरक्षण के प्रति अपने विचारों का योगदान देने के लिए अपने कर्मचारियों और आम जनता दोनों को प्रोत्साहित करने के प्रति अपनी प्रतिबद्धता जताई है।

इस स्पर्धा के लिए एनटीपीसी ने कुल 12 लाख रुपए की पुरस्कार राशि घोषित की है, जिसमें प्रथम पुरस्कार विजेता को 5 लाख रुपए प्रदान किए जाएंगे।

सस्टेनेबल ऐश यूटिलाइजेशन एनटीपीसी की प्रमुख चिंताओं में से एक है। फ्लाई ऐश कोयले के साथ विद्युत उत्पादन का एक सह उत्पाद है। एनटीपीसी के बिजलीघरों पर निर्मित फ्लाई ऐश सीमेंट, कंक्रीट, कंक्रीट उत्पादों, सेलुलर कंक्रीट उत्पादों, ईंटों/ब्लॉक/टाइलों आदि के निर्माण में उपयोग के लिए आदर्श है। एंड-यूजर्स को ड्राई फ्लाई ऐश की आसान उपलब्धता की सुविधा के लिए कोयला आधारित स्टेशनों पर ड्राई फ्लाई ऐश की निकासी और भंडारण के लिए एक सुरक्षित प्रणाली स्थापित की गई है।

इसके अलावा, विद्युत उत्पादन के दौरान उत्पादित सह उत्पादों का 100 प्रतिशत उपयोग सुनिश्चित करने की दिशा में देश के सबसे बड़े विद्युत उत्पादक एनटीपीसी लिमिटेड ने फ्लाई ऐश की आपूर्ति करने के लिए देश भर के सीमेंट निर्माताओं के साथ सहयोग किया है। फ्लाई ऐश को किफायती और पर्यावरण के अनुकूल तरीके से परिवहन करने के लिए एनटीपीसी ने भारतीय रेलवे के व्यापक नेटवर्क का लाभ भी उठाया है।

65,825 मेगावाट की कुल स्थापित क्षमता के साथ, एनटीपीसी समूह में 26 नवीकरणीय परियोजनाओं सहित 70 पावर स्टेशन हैं। समूह के पास निर्माणाधीन 18 गीगावॉट क्षमता है, जिसमें 5 गीगावॉट नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाएं शामिल हैं। किफायती कीमतों पर पर्यावरण के अनुकूल ऊर्जा परियोजनाओं के माध्यम से विद्युत की निर्बाध आपूर्ति एनटीपीसी की पहचान रही है।

No comments:

Post a Comment

मंगलयान और चंद्रयान ने दिखाए बच्चों को अंतरिक्ष तक पहुंचने के सपने

-जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ तीन दिवसीय इसरो एग्जिबिशन का समापन - प्रिंसिपल मीट का हुआ आयोजन  जयपुर। जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय ...