Wednesday, April 14, 2021

मार्च 2021 में यूपीआई में 106 मिलियन मासिक लेनदेन के साथ भारतपे पहुंचा नए शिखर पर

जयपुर 14 अप्रैल 2021- भारत की सबसे तेजी से बढ़ती फिनटेक कंपनियों में से एक भारतपे ने आज घोषणा की कि उसने मार्च 2021 में यूपीआई क्यूआर भुगतान श्रेणी में 106 मिलियन मासिक लेनदेन के साथ एक नई ऊंचाई हासिल की है। 8.8 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी के साथ भारतपे ने यूपीआई पे2एम श्रेणी में अपनी नंबर 3 की पोजीशन को बरकरार रखा है। नवंबर, 2020 में गूगल पे को हटाकर कंपनी ने यह स्थान हासिल किया था। भारतपे ने मार्च 2021 में 830 मिलियन यूएस डाॅलर लेनदेन (यूएस डाॅलर 10 बिलियन वार्षिक) दर्ज किए थे।

पिछले 12 महीनों में भारतपे ने तेजी से कदम बढ़ाए हैं और यूपीआई पर्सन-टू-मर्चेन्ट (पी2एम) सेगमेंट में खुद को सबसे तेजी से अपनाई गई भुगतान प्रणालियों में से एक के रूप में स्थापित करने में सफलता हासिल की है। कंपनी ने अप्रैल 2020 से मार्च 2021 तक यूपीआई लेनदेन की मात्रा में 7 गुना की वृद्धि दर्ज की है। इसके अलावा, फरवरी से मार्च 2021 तक इसके यूपीआई भुगतान में 23.7 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

कंपनी की इस उपलब्धि पर टिप्पणी करते हुए, भारतपे के ग्रुप प्रेसिडेंट श्री सुहैल समीर ने कहा, ‘‘महामारी के बाद देश में डिजिटल भुगतान सिस्टम तेज रफ्तार से आगे बढ़ा है। वास्तव में, हमने देखा कि पिछले एक साल में हमारे सभी कारोबार कई गुना बढ़ गए हैं- हमने लगातार यूपीआई पे2एम में दूसरों को पीछे छोड़ते हुए सबसे बड़े बी2बी फिनटेक ऋणदाता का दर्जा हासिल कर लिया और हम भारत में नंबर 3 निजी पीओएस प्लेयर के रूप में उभरे हैं। यूपीआई पी2एम श्रेणी में हमारी वृद्धि टियर -1, 2 और शहरों और शहरों से परे डिजिटल भुगतान को अपनाने से बढ़ी है। , सुविधा और सुरक्षा के कारण ग्राहकों ने तेजी से डिजिटल भुगतान को अपनाया है और हमने अपने शीर्ष 30 शहरों से परे डिजिटल लेनदेन में भारी वृद्धि देखी। बढ़ी हुई मांग को पूरा करने के लिए, हमने पिछले 12 महीनों में 30 से 100 शहरों तक अपनी मौजूदगी का विस्तार किया है।’’

श्री समीर ने आगे कहा, ‘‘हम डिजिटल भुगतान के बारे में लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने और नए युग की फिनटेक सेवाओं और समस्त लोगांे तक क्रेडिट आॅफर्स को पहुंचाने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और इसलिए हमने वित्त वर्ष 2022 में 100 और शहरों में हमारी मौजूदगी को बढ़ाने का लक्ष्य तय किया है। हमारा उद्देश्य 2021 के अंत तक 6 मिलियन की हमारी मौजूदा सूची में 4 मिलियन और व्यापारियों को जोड़कर अपने मर्चेन्ट नेटवर्क का विस्तार करना है। 100 मिलियन से अधिक का लेनदेन दरअसल हमारे लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है और भारतपे के प्रति मर्चेन्ट कम्युनिटी के भरोसे को दर्शाता है। हमें विश्वास है कि हम मौजूदा और आगामी फिनटेक उत्पादों की अपनी श्रृंखला के साथ नए वित्तीय वर्ष में लाखों और व्यवसायों को सकारात्मक रूप से प्रभावित करने में सक्षम होंगे। ये फिनटेक हमने विशेष रूप से व्यापारी समुदाय की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डिजाइन किए हैं।’’

देश ने पिछले एक साल में डिजिटल भुगतान की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि देखी है। एक साल की अवधि में यूपीआई लेनदेन दोगुना हो गए हैं। अप्रैल 2020 में यूपीआई भुगतान 1.0 बिलियन थे, जबकि  मार्च 2021 में 2.7 बिलियन तक पहुंच गए। मार्च 2021 टीपीवी 22 बिलियन अमेरिकी डॉलर से बढ़कर 72 बिलियन यूएस डॉलर हो गया। एसीआई वल्र्डवाइड और ग्लोबल डेटा की हालिया रिपोर्ट के अनुसार पी2पी और मर्चेन्ट पेमेंट्स के साथ भारत दुनिया का सबसे बड़ा रीयल-टाइम डिजिटल भुगतान बाजार बनने की दिशा में संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन से आगे निकल गया है। रिपोर्ट के अनुसार, यह उम्मीद की जाती है कि 2025 तक, भारत में डिजिटल भुगतान सामूहिक रूप से कुल भुगतान मात्रा के 70 प्रतिशत से अधिक होगा, जबकि 30 फीसदी भुगतान नकद और चेक के जरिये होेंगे। रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि वैश्विक रूप से, 2020 में 70 बिलियन से अधिक रीयल टाइम पेमेंट ट्रांजेक्शंस प्रोसेस किए गए और इस तरह पिछले वर्ष की तुलना में 41 प्रतिशत की वृद्धि हुई, क्योंकि कोविड -19 महामारी के दौरान लोगों ने नकदी और चेक की बजाय रीयल टाइम और डिजिटल भुगतान को अपनाया।

भारतपे छोटे व्यापारियों और किराने की दुकान मालिकों को अपना व्यवसाय बढ़ाने में मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है। इसमें व्यापारियों के लिए कई प्रकार के फिनटेक उत्पाद हैं- शून्य लेनदेन शुल्क, आकर्षक ब्याज दरों पर व्यवसाय ऋण और डेबिट और क्रेडिट कार्ड से भुगतान स्वीकार करने के लिए भारत की पहली जीरो रेंटल पीओएस मशीन। कंपनी ने हाल ही में अपने अभिनव ऋण देने वाले उत्पाद- डिस्ट्रीब्यूटर टू रिटेलर (डी2आर) फाइनेंस को लॉन्च किया है, जो विभिन्न उद्योगों में वितरकों, थोक विक्रेताओं, व्यापारियों और डीलरों को तत्काल लिक्विडिटी प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया है। इस उत्पाद के साथ भारतपे 7 दिनों से 30 दिनों की अवधि के लिए 50 लाख रुपये तक के कोलेटरल-फ्री लोन प्रदान करता है। कंपनी व्यापारियों के लिए एक डिजिटल बैंक बनने की इच्छा रखती है जो सभी व्यापारियों की जरूरतों के लिए वन-स्टॉप डेस्टिनेशन के रूप में काम कर सकती है और लेंडिंग बिजनेस इस यात्रा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। कंपनी ने मार्च 2023 तक अपने भुगतान कारोबार में 3 गुना की वृद्धि और 30 बिलियन टीपीवी का लक्ष्य रखा है।

भारतपे के बारे में

भारतपे की स्थापना फाइनेंशियल इनक्लूजन को भारतीय व्यापारियों के लिए एक वास्तविकता बनाने के उद्देश्य के साथ 2018 में अशनीर ग्रोवर और शाश्वत नकर्णी ने की थी। भारतपे ने देश का पहला यूपीआई इंटरऑपरेबल क्यूआर कोड, पहली जीरो एमडीआर भुगतान स्वीकृति सेवा और पहली यूपीआई भुगतान समर्थित मर्चेंट कैश एडवांस सेवा लॉन्च की। 2020 में कोविड के बाद भारतपे ने भारत का एकमात्र जीरो एमडीआर कार्ड स्वीकृति टर्मिनल – भारत स्वाइप भी लॉन्च किया। वर्तमान में 100 शहरों में 60 लाख से अधिक व्यापारियों को सेवा देने वाली यह कंपनी यूपीआई ऑफलाइन लेनदेन में अग्रणी है, जिसके पास प्रति माह 10 करोड़ से अधिक यूपीआई लेनदेन प्रोसेस होते हैं (वार्षिक लेन-देन प्रोसेस्ड वैल्यू 10 बिलियन अमेरिकी डाॅलर से अधिक)। लॉन्च के बाद से कंपनी पहले ही 1600 करोड़ रुपए से अधिक के डिस्बर्समेंट की सुविधा अपने कारोबारी साझेदारों को प्रदान कर चुकी है। लॉन्च के बाद के 5 महीनों में भारतपे का पीओएस कारोबार बढ़कर 2 बिलियन डाॅलर वार्षिक लेनदेन मूल्य हो गया। भारतपे ने अब तक इक्विटी और ऋण में 270 मिलियन डाॅलर के करीब वृद्धि की है। कंपनी के मार्की निवेशकों की सूची में कोएट्यू मैनेजमेंट, रिबबिट कैपिटल, इनसाइट पार्टनर्स, स्टीडव्यू कैपिटल, बीनेक्स्ट, एम्प्लो और सेक्विया कैपिटल शामिल हैं।

No comments:

Post a Comment

जेके सीमेंट लिमिटेड ने मध्य भारत में अपनी उत्पादन क्षमता का किया विस्तार - उज्जैन, मध्य प्रदेश में आगामी ग्राइंडिंग यूनिट की आधारशिला रखी

उज्जैन, 05 दिसम्बर 2022: जेके सीमेंट लिमिटेड भारत में ग्रे सीमेंट के अग्रणी निर्माताओं और दुनिया के सबसे बड़े व्हाइट सीमेंट निर्माताओं में स...