Friday, March 19, 2021

केंद्रीय मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी ने वेदांता नंदघर टेलीमेडिसिन का शुभारंभ कर कहा, वेदांता भारतीय उद्योग जगत् के लिए प्रेरणा

जयपुर 19 मार्च 2021  – अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर, केंद्रीय मंत्री महिला एवं बाल विकास और कपड़ा स्मृति जुबिन ईरानी ने सोमवार को ग्रमीण भारत के घर घर तक पहुंचने वाली स्वास्थ्य सेवा को समर्पित वेदांता नंद घर के टेलीमेडिसिन कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

सरकार द्वारा कोविड 19 के उपरान्त स्वास्थ्य और कल्याण पर ध्यान केंद्रित करने के अनुरूप टेलीमेडिसिन स्वास्थ्य मॉडल एमबीबीएस चिकित्सकों, विशेषज्ञों ,पीडियाट्रीशियन और स्त्रीरोग विशेषज्ञ सहित, समुदाय के सदस्यों के साथ प्रौद्योगिकी और नवाचार के व्यापक उपयोग के साथ जुड़ेगा।

टेलीमेडिसिन कार्यक्रम अगले 3-4 हफ्तों में पुरे देश में 2,000 से अधिक नंद घरों के माध्यम से समुदाय के सदस्यों को निःशुल्क दवाईयां उपलब्ध कराने के साथ, गुणवत्ता स्वास्थ्य सेवा के लिए अंतिम छोर तक कनेक्टिविटी प्रदान करेगा।

इस अवसर पर कंपनी के कर्मचारियों और सहयोगियों को संबोधित करते हुए, केंद्रीय मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी ने वेदांता द्वारा बुनियादी स्तर पर किये जा रहे अग्रणी बदलाव की सराहना की। श्रीमती ईरानी ने कहा कि मैं सीएसआर गतिविधियों के लिए वेदांता के प्रति सहयोग और आभार व्यक्त करती हूं जो महिलाओं और बच्चों के लिए समर्पित हैं। उन्होंने कहा कि वेदांता द्वारा नंदघर टेलीमेडिसिन कार्यक्रम उनके द्वारा आंगनवाड़ी हेतु बुनियादी ढाँचे, शैक्षिक सहायता के लिए किये गये प्रयासों के साथ ही महिलाओं और बच्चों की स्वास्थ्य संबंधी आवश्यकताओं के प्रति भी सजगता को दर्शाता है।

वेदांता के चेयरमैन अनिल अग्रवाल द्वारा की गयी कल्पना के अनुसार टेलीमेडिसिन मॉडल, प्रत्येक नंद घर में हर पखवाड़े स्वास्थ्य शिविर आयोजित करेगा और स्वस्थ रहने के लिए रोकथाम और व्यवहार में परिवर्तन के बारे में समुदाय के सदस्यों में जागरूकता पर ध्यान केंद्रित करेगा। डॉकऑनलाइन, सेंटर फॉर हेल्थ रिसर्च एंड इनोवेशन (सीएचआरआई) और धनुष इस परियोजना में वेदांता के पार्टनर होंगे।
बुनियादी स्तर पर तत्काल समाधान करने का प्रयास वेदांता की योजनाओं का मुख्य आधार है और यह कॉर्पोरेट क्षेत्र के कई लोगों के लिए प्रेरणा है। यह प्रसन्नता का विषय है कि इसका नेतृत्व द्वारा किया गया है जो कि एक अच्छे व्यक्तित्व जिसने वेदंाता परिवार में हमेशा महिलाओं का समर्थन किया है, क्योंकि यदि वास्तव में महिलाओं को सशक्त बनाना हैं, तो बेहतर भविष्य की दिशा में उन्हें सक्षम करना महत्वपूर्ण है। ”
स्वच्छ भारत, जल जीवन मिशन, आयुष्मान भारत योजना सहित प्रधानमंत्री के प्रमुख कार्यक्रमों के बारे में बताते हुए, केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधान मंत्री ने एक नए भारत की बात की है, और यह एक स्वस्थ भारत है, जिसके लिए वेदांता का योगदान सराहनीय है मैं इसकी प्रशंसा और आभार व्यक्त करती हूं। ”

स्वयं द्वारा अनुभव की गयी चुनौतियों के बारे में साझा करते हुए, श्रीमती ईरानी ने कहा कि “जब आपकी जेब में पैसा नहीं है, तो आपके पास सफल होने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। हमें महिलाओं को अपने करियर में अधिक सक्षम होने के लिए शिक्षित करने की आवश्यकता है। यह भी उतना ही महत्वपूर्ण है कि हम उन महिलाओं के प्रयासों को पहचानें जो अपने परिवारों के लिए घर पर रह कर सहयोग करती हैं। ”
वेदांता के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने कहा कि “यदि महिलाओं को विश्वास के साथ सही दिशा में कार्य करने की प्रेरणा मिल जाएं तों, वे अभूतपूर्व परिणाम ला सकती हैं। नंद घर प्रौद्योगिकी और नवाचार पर बहुत ध्यान केंद्रित कर रहा है। मुझे यकीन है कि आपके समर्थन से हम 2 करोड़ महिलाओं को मुख्यधारा में लाने में सक्षम होंगे। ”

उन्होंने कहा कि आप जैसा मंत्री मिलना सौभाग्यशाली हैं जो महिलाओं और बच्चों को सशक्त बनाने पर ध्यान केंद्रित करने के साथ ही जिनकी उपस्थिति विश्वभर में महसूस की जाती है। हम आपके साथ जुड़ने पर भाग्यशाली हैं जो आपकी दृष्टि के अनुरूप उसे पूर्ण कर सके।

वेदांता की निदेशक प्रिया अग्रवाल ने कहा कि ‘‘अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर स्मृति जुबिन का स्वागत करना पूरे वेदांता परिवार के लिए सम्मान की बात है जब संपूर्ण विश्व समानता का उत्सव आयोजित कर रही है। नंद घर परियोजना के प्रति आपके निरंतर सहयोग और मार्गदर्शन के लिए वेदांता परिवार हमेशा आभारी है। आपके मार्गदर्शन के फलस्वरूप ही हम 2,000 नंद घरों की क्रियान्विती में सफल रहे हैं। हम अपने गांवों में सकारात्मक बदलाव ला रहे हैं और देश भर में महिलाओं और बच्चों के लिए बेहतर परिणामों के लिए योगदान दे रहे हैं।

2015 में नंद घर यात्रा 8.5 करोड़ बच्चों और 2 करोड़ महिलाओं के जीवन में बदलाव के लिए 13.7 लाख आंगनवाड़ियों के साथ शुरू हुई। नंद घर वेदांता के चेयरमैन, अनिल अग्रवाल का एक ड्रीम प्रोजेक्ट मॉडल आंगनवाड़ियों का एक नेटवर्क है जहाँ बच्चों, महिलाओं और स्थानीय समुदायों के समावेशी विकास पर जोर दिया जाता है। नंद घर केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के सहयोग से स्थापित किए गए हैं।
2000 से अधिक केंद्रों के साथ, नंद घर परियोजना अब तक 10 राज्यों – राजस्थान, उत्तर प्रदेश, ओडिशा, झारखंड, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, पंजाब, असम, हिमांचल प्रदेश और मध्य प्रदेश में संचालित की जा रही है। परियोजना का लक्ष्य 4 मिलियन समुदाय के सदस्यों तक पहुंच कर लगभग 2 लाख बच्चों और 1.8 लाख महिलाओं को वार्षिक आधार पर लाभान्वित करना है।

नंद घर चैबिसों घण्टें बिजली, वाटर प्यूरीफायर, स्वच्छ शौचालय और स्मार्ट टेलीविजन सेट संचालन को सुनिश्चित करने के लिए सौर पैनल से लैस हैं, और स्थानीय समुदायों के लिए एक मॉडल संसाधन केंद्र बन गए हैं। प्री-स्कूल शिक्षा 3-6 वर्ष की आयु के बच्चों को प्रदान की जाती है। बच्चों, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए पौष्टिक भोजन और टेक-होम राशन प्रदान किया जा रहा है। नंद घर में गुणवत्ता वाली प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जाती है और महिलाओं को स्किलिंग, क्रेडिट लिंकेज और उद्यम विकास के माध्यम से सशक्त किया जाता है।

No comments:

Post a Comment

डब्लयूटीपी पर स्टूडेंटस का ऊर्जावान फ्लैश मॉब

जयपुर। जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट , जयपुर का 16 वां राष्ट्रीय युवा उत्सव ‘ अभ्युदय -2022’ आगामी 9-10 दिसंबर को होगा। इस ...