Wednesday, March 3, 2021

एलएसएसी ग्‍लोबल ने भारत में शमनाद बशीर एक्‍सेस टू जस्टिस और टॉपर स्‍कॉलरशिप की घोषणा की

जयपुर 03 मार्च 2021  – भारत में कानूनी शिक्षा तक पहुंच बढ़ाने के अपने सतत प्रयास के क्रम मेंलॉ स्‍कूल एडमिशन काउंसिल-ग्‍लोबल (एलएसएसी ग्‍लोबल) ने घोषणा की है कि यह एलएसएटी-इंडिया 2021 की परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों को मेरिट स्‍कॉलरशिप्‍स देगा। एलएसएटी-इंडिया इस वर्ष मार्च और जून में होने वाला है।

एलएसएसी ग्‍लोबल लगातार तीसरे वर्ष टॉपर स्‍कॉलरशिप देने जा रहा है। इस वर्ष एलएसएटी-भारत में सर्वोच्‍च अंक हासिल करने वाले छात्र को यह छात्रवृत्ति दी जायेगी।

दूरदर्शी और प्रभावशाली अधिवक्‍ता, प्रोफेसर डॉ. शमनाद बशीर की स्‍मृति में, एलएसएसी ग्‍लोबल ने पिछले वर्ष शमनाद बशीर एक्‍सेस टू जस्टिस स्‍कॉलरशिप शुरू किया था। प्रोफेसर बशीर ने विधिक पेशा में विविधता बढ़ाने के लिए अभूतपूर्व प्रयास किये। उन्‍होंने इनक्रीजिंग डाइवर्सिटी बाय इनक्रीजिंग एक्‍सेस टू लीगल एजुकेशन (आईडीआईए) नामक अलाभकारी संगठन की स्‍थापना की, जो भारत के उपेक्षित एवं वंचित वर्गों को गुणवत्‍ता-युक्‍त विधिक शिक्षा उपलब्‍ध कराते हुए उन्‍हें समर्थ बनाता है।

एलएसएसी के वाइस प्रेसिडेंट – इमर्जिंग मार्केट्सयुसुफ अब्दुल-करीम ने कहा, एलएसएसी ग्‍लोबल (एलएसएजी) को उम्‍मीद है कि इन स्‍कॉलरशिप्‍स के जरिए भारत के होनहार छात्रों और विधिक शिक्षा के अभ्‍यर्थियों को अधिक अवसर उपलब्‍ध कराया जा सकेगा और इस प्रकारकानून की पढ़ाई में विविधतापहुंच एवं समानता को बढ़ाने के हमारे मिशन को आगे बढ़ाया जा सके।

शमनाद बशीर एक्‍सेस टू जस्टिस स्‍कॉलरशिप, एलएसएटी-इंडिया में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों की सरल प्रतियोगिता पर आधारित है। इस वर्ष का विषय है – कानूनी पेशे में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के समावेश से किस प्रकार से समाज में भेदभाव घट सकता हैन्‍याय अधिक सुलभ हो सकता हैऔर समाज में विविधता को बढ़ावा मिल सकता है” (How might the introduction of artificial intelligence in the legal profession mitigate bias, increase access to justice, and promote diversity in the society)। छात्रों को विषय के पक्ष और विपक्ष में लेख (निबंध) लिखना है और 15 जून, 2021 तक अपनी प्रविष्टि भेजनी है।

प्रत्येक लेख (निबंध) का मूल्यांकन, मौलिकता, विषय की प्रासंगिकता, समग्रता, संरचना, विश्‍लेषण, समझ, विवेचना, और कानून पेशे में विविधता से संबंधित निष्‍कर्षों पर किया जायेगा। निर्णायकों में लॉ प्रैक्टिसनर्स, विधि शिक्षा से जुड़े व्‍यक्ति और नीति निर्माता शामिल होंगे।

प्रत्‍येक छात्रवृत्ति के विजेताओं को ₹4 लाख तक पुरस्‍कार प्राप्‍त होगा, जिसमें किसी भी एलएसएसी ग्‍लोबल लॉ एलायंस कॉलेज में पांच-वर्षीय लॉ प्रोग्राम के पहले वर्ष का उनका ट्यूशन फीस और बोर्डिंग / हॉस्‍टल फीस शामिल होगा। प्रथम वर्ष की अप्रयुक्‍त राशि का उपयोग अगले वर्ष किया जा सकता है। इन स्‍कॉलरशिप्‍स के नियमों व शर्तों से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए, कृपया https://www.discoverlaw.in/scholarship-opportunities पर जाएं।

इन छात्रवृत्तियों के अलावा, एलएसएसी ग्‍लोबल लॉ एलायंस कॉलेजेज अपने यहां नामांकन कराने हेतु एलएसएटी-इंडिया की परीक्षा में शामिल होने वालों को विशेष स्‍कॉलरशिप्‍स उपलब्‍ध कराते हैं और इस प्रकार, कानून के क्षेत्र में कॅरियर बनाने वाले छात्रों को आर्थिक बोझ से राहत दिलाते हैं।

No comments:

Post a Comment

इस्कान मंदिर में गीता जयंती हर्षोल्लास से मनाई गई

जयपुर। इस्कॉन, श्री श्री गिरिधारी दाऊजी मन्दिर, मानसरोवर, जयपुर में 3 दिसंबर को गीता जयंती का कार्यक्रम बड़े हर्सोल्लास से मनाया गया। ओम प्र...