Thursday, March 18, 2021

भारत के ई-कॉमर्स मार्केट को वर्ष 2024 तक 84% बढ़कर $111 बिलियन अमेरिकी डॉलर का होने का अनुमान, एफआईएस की नई रिपोर्ट का खुलासा

जयपुर 18 मार्च 2021 – कोविड-19 महामारी के चलतेभारत के ई-कॉमर्स मार्केट के बहुत अधिक बढ़ जाने का अनुमान है। वित्तीय प्रौद्योगिकी में अग्रणी एफआईएस® (NYSE: FIS) द्वारा आज जारी नयी रिपोर्ट के अनुसारवर्ष 2024 आने तक ई-कॉमर्स मार्केट के 84 प्रतिशत बढ़कर 111 बिलियन अमेरिकी डॉलर का होने का पूर्वानुमान है।

एफआईएस के वर्ल्डपे की 2021 ग्‍लोबल पेमेंट्स रिपोर्टजिसमें 41 देशों की वर्तमान एवं भविष्‍य की भुगतान प्रवृत्तियों पर गौर किया गया हैमें पाया गया कि महामारी के प्रकोप के चलते डिजिटल कॉमर्स का वैश्विक चलन तेजी से बढ़ा है। भारत सहित विभिन्‍न देशों में कोविड-19 के चलते उपभोक्‍ताओं के व्यवहार में परिवर्तन आया हैऔर भुगतान के नये तरीकों का चलन बढ़ रहा है।

ई-कॉमर्स पेमेंट ट्रेंड्स

भारत के ई-कॉमर्स मार्केट में वर्ष 2020 में काफी वृद्धि हुई है। एफआईएस की रिपोर्ट से पता चला कि:

  • भारत के ई-कॉमर्स मार्केट को अभी से लेकर वर्ष 2024 बीच 84 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान हैजिसमें मोबाइल शॉपिंग की बड़ी भूमिका होगी और इसमें अगले चार वर्षों में 21 प्रतिशत सालाना की गति से बढ़ने का अनुमान है।
  • वर्ष 2020 में डिजिटल वैलेट्स (40 प्रतिशत) और इसके बाद क्रेडिट कार्ड (15 प्रतिशत) और डेबिट कार्ड (15 प्रतिशत) सबसे लोकप्रिय भुगतान विधियां रहीं।
  • अभी खरीदेंबाद में भुगतान करें‘ (बाय नाउपे लैटर)ऑनलाइन भुगतान विधि का चलन भारत में तेजी से बढ़ रहा है। रिपोर्ट के विश्‍लेषण के आधार परवर्तमान में बाजार में अभी इसकी चलन मात्र 3 प्रतिशत है और वर्ष 2024 तक इसके बढ़कर 9 प्रतिशत होने का अनुमान है।
  • रिपोर्ट के आंकड़ों के अनुसारडिजिटल वैलेट्स से की जाने वाली खरीदारी की बाजार हिस्‍सेदारी वर्ष 2024 तक ऑनलाइन भुगतान का 47 प्रतिशत हो जाने का अनुमान है।

इन-स्टोर पेमेंट ट्रेंड्स

एफआईएस रिपोर्ट से पता चला कि:

  • रिपोर्ट के आंकड़ों के अनुसारभारत का पॉइंट ऑफ सेल (POS) मार्केट अभी से लेकर वर्ष 2024 के बीच 41 प्रतिशत बढ़कर 1,035 बिलियन अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान है।
  • इन-स्टोर भुगतान विधि के रूप में नकद भुगतान 34 प्रतिशत के साथ सबसे अधिक लोकप्रिय हैजिसके बाद डिजिटल वैलेट्स (22 प्रतिशत) और डेबिट कार्ड भुगतान (20 प्रतिशत) का स्‍थान है।
  • रिपोर्ट में यह पूर्वानुमान लगाया गया है कि वर्ष 2024 तक सबसे लोकप्रिय इन-स्टोर भुगतान विधि के रूप में डिजिटल वैलेट्सनकद भुगतान को पीछे छोड़ देगी और 33 प्रतिशत भुगतान डिजिटल वैलेट्स के जरिए किये जायेंगे।

एफआईएस के वर्ल्‍डपे के प्रबंध निदेशक – एशिया प्रशांत क्षेत्रमि. फिल पॉमफोर्ड ने बताया”भारतीय ई-कॉमर्स इंडस्‍ट्री, कोविड-19 के चलते बहुत अधिक बढ़ी है और भविष्‍य में इसके और भी अधिक बढ़ने की महत्‍वपूर्ण रूप से संभावना है। ई-कॉमर्स की क्षमता अब केवल कुछ परंपरागत वेबसाइट्स तक ही सीमित नहीं हैऔर फिजिकल रिटेलडिजिटल दुनिया में शामिल हो चुका है। अब शॉप फ्लोर आपकी मुट्ठी में है और उपभोक्‍ता चाहे ऐप्‍प के जरिए खरीदारी कर रहे होंया अपने सोशल फीड्स के जरिए या फिर स्टोर में जाकरवो एक ही जैसे आरामदायक एवं सुविधाजनक शॉपिंग अनुभव की अपेक्षा कर रहे हैं। ऐसे में मर्चेंट्स तभी सफल हो पायेंगेजब वो चेकआउट प्रक्रिया में प्रमुखता से उपभोक्‍ता अनुभव पर जोर देंगे। ऐसे मर्चेंट्स जिन्होंने स्वयं को डिजिटल क्षमताओं से सुसज्जित रखा हैवो ही भारत के रिटेल और ई-कॉमर्स मार्केट में विकास की इस नयी लहर का लाभ उठा सकेंगे।

No comments:

Post a Comment

जेईसीआरसी इनक्यूबेशन सेंटर ने किया वेंचर कैटेलिस्ट के साथ एमओयू साइन

स्टार्टअप कॉन्क्लेव इवेंट का हुआ आयोजन ,40+ स्टार्टअप ने लिया हिस्सा जयपुर। जेआईसी, जेईसीआरसी ने स्टार्टअपस और उभरते एंटरप्रेन्योरस के एक्सप...