Wednesday, March 10, 2021

यूटीआई मास्‍टरशेयर यूनिट स्‍कीम फंड के शुरू में निवेश की गयी 10 लाख रु. की राशि बढ़कर 28 फरवरी, 2021 को 15.17 करोड़ रु. हो गई है

जयपुर 10 मार्च 2021  – यूटीआई मास्‍टरशेयर यूनिट स्‍कीम, भारत का पहला इक्विटी ओरियंटेड फंड है (अक्‍टूबर 1986 में लॉन्‍च किया गया था) और इसका पिछले 30 वर्षों में संपत्ति निर्माण का रिकॉर्ड है।

यूटीआई मास्‍टरशेयर यूनिट स्‍कीम, एक ओपन एंडेड इक्विटी स्‍कीम है जो प्रमुख रूप से ऐसी बड़ी पूंजीकरण वाली कंपनियों में निवेश का लक्ष्‍य रखती है जिन्‍हें उनके क्षेत्रों में प्रतिस्‍पर्द्धी लाभ प्राप्‍त है। यह स्‍टॉक के चुनाव में वाजिब कीमत पर वृद्धि (जीएआरपी) निवेश शैली को अपनाता है। इसका अर्थ है, कंपनी की कमाई में निहित वृद्धि के मद्देनजर, वह वाजिब कीमत कितनी है जिसमें निवेशक को पोर्टफोलियो में स्‍टॉक खरीदने के लिए भुगतान करना चाहिए।

यूटीआई मास्‍टरशेयर यूनिट स्‍कीम का उद्देश्‍य उन कंपनियों में निवेश करना है जिनके ऋण पर नियंत्रण के साथ मजबूत फंडामेंटल्‍स हैं, जिनके राजस्‍व में लगातार वृद्धि होती रही है, जो पूंजी की लागत के बजाये पूंजी पर अधिक रिटर्न एवं लाभदेयता पर जोर देती हैं और जिनका परिचालन नकद-प्रवाह लगातार है। इस तरह की कंपनियां भावी विस्‍तार के लिए फ्री कैश फ्लो दे सकती हैं और मौजूदा शेयर के डाइल्‍यूशन से बच सकती हैं।

जीएआरपी प्‍लस कंपीटिटिव फ्रेंचाइजी की इस संयुक्‍त एप्रोच के के चलते, यूटीआई मास्‍टरशेयर स्‍कीम उन कंपनियों में निवेश कर सकती है जहां,

  1. बाजार में काफी लंबी अवधि में वृद्धि को बनाये रखने या प्राइसिंग पावर के लाभ की कंपनी की क्षमता का वास्‍तविकता से कम आकलन हो।
  2. इंडस्‍ट्री की घटनाओं जैसे कि अनुकूल मांग चक्र, समेकन, विनियामक बाधाओं का समाशोधन या कंपनी के विशिष्‍ट कारकों जैसे कि लागत प्रतिस्‍पर्द्धा, समझदारीपूर्वक क्षमता विस्‍तार के जरिए ग्रोथ ट्रैजेक्‍टरी बेहतर हो रही है।
  3. बिजनेस, गहन पूंजी वाला है, लेकिन कंपनियां समझदारी से निवेश कर रही हैं और क्षमतापूर्ण तरीके से निष्‍पादन कर रही हैं
  4. कंपनियों के पास निवेशित पूंजी पर उच्‍च रिटर्न (आरओसीई) पर नकद प्रवाह के निवेश के लिए अवसर मौजूद हैं।
  5. सेक्‍टर में सापेक्षिक मूल्‍यांकन आकर्षक है।

इससे निवेशकों को गुणवत्‍तापूर्ण कंपनियों के पोर्टफोलियो में निवेश करके दीर्घकालिक संपत्ति निर्माण का अवसर मिलता है।

यूटीआई मास्‍टरशेयर यूनिट स्‍कीम, लार्ज कैप फंड के रूप में वर्गीकृत है, इस प्रकार, इसके पोर्टफोलियो में जानी-मानी कंपनियां शामिल हैं, जैसे कि इंफोसिस लिमिटेड, एचडीएफसी बैंक लिमिटेड, आईसीआईसीआई बैंक लिमिटेड, एचडीएफसी लिमिटेड, भारती एयरटेल लिमिटेड, टाटा कंसल्‍टेंसी सर्विसेज लिमिटेड, हिंदुस्‍तान यूनिलीवर लिमिटेड एक्सिस बैंक लिमिटेड, लार्सेन एंड टुब्रो लिमिटेड और श्री सीमेंट लिमिटेड आदि। लगभग 52 प्रतिशत पोर्टफोलियो, टॉप 10 स्‍टॉक्‍स के हैं। 28 फरवरी, 2021 के आंकड़ों के अनुसा, यह स्‍कीम वर्तमान में, फार्मा, टेलीकॉम, प्राइवेट सेक्‍टर बैंक्‍स एवं आईटी पर ओवरवेट है और मेटल्‍स, वित्‍तीय सेवाओं, पावर एवं तेल व गैस पर अंडरवेट है।

28 फरवरी, 2021 के आंकड़ों के अनुसार, फंड के पास 7,500 करोड़ रु. से अधिक की राशि है और इसमें 6 लाख से अधिक लाइव निवेशक खाते हैं। इस फंड का उद्देश्‍य दीर्घकालिक रूप से पूंजी वृद्धि / या आय वितरण हासिल करना है और यह निवेश के लिए अनुशासित एप्रोच को अपनाता है जिसके बारे में ऊपर बताया गया है। इसने अपने आरंभ के बाद से लगभग हर वर्ष वार्षिक लाभांश को बनाये रखा है। यूटीआई मास्‍टरेशेयर यूनिट स्‍कीम कुल 3,900 करोड़ रु. से अधिक का लाभांश बांट चुकी है।

इस स्‍कीम का पोर्टफोलियो चर्न निम्‍न है। यूटीआई मास्‍टरशेयर यूनिट स्‍कीम ने आरंभ के बाद से 28 फरवरी, 2021 तक एसएंडपी बीएसई 100 टीआरआई के 14.24 प्रतिशत बेंचमार्क रिटर्न के मुकाबले 15.72 प्रतिशत का रिटर्न (सीएजीआर) दिया है। आगे, इस फंड के शुरू में निवेश की गयी 10 लाख. रु. की राशि बढ़कर 15.17 करोड़ हो चुकी है, जबकि समान अवधि का एसएंडपी बीएसई 100 टीआरआई 9.71 करोड़ रु. है, अर्थात् इसने पिछले 34 वर्षों में 151 गुना रिटर्न दिया है।

 

No comments:

Post a Comment

जेईसीआरसी इनक्यूबेशन सेंटर ने किया वेंचर कैटेलिस्ट के साथ एमओयू साइन

स्टार्टअप कॉन्क्लेव इवेंट का हुआ आयोजन ,40+ स्टार्टअप ने लिया हिस्सा जयपुर। जेआईसी, जेईसीआरसी ने स्टार्टअपस और उभरते एंटरप्रेन्योरस के एक्सप...