Saturday, January 16, 2021

एमएसएमई को प्रीपेड कार्ड जारी करने के लिए आईसीआईसीआई बैंक ने नियो के साथ किया समझौता

जयपुर 16 जनवरी 2021  – देश में निजी क्षेत्र के प्रमुख बैंक आईसीआईसीआई बैंक और नए दौर के फिनटेक नियो ने आज माइक्रो, स्माॅल और मीडियम उद्यमों (एमएसएमई) के श्रमिकों को प्रीपेड कार्ड जारी करने के लिए साझेदारी की घोषणा की। एमएसएमई अब अपने श्रमिकों के लिए वीजा द्वारा संचालित ‘आईसीआईसीआई बैंक नियो भारत पेरोल कार्ड’ हासिल करने में सक्षम होंगे। आम तौर पर इन श्रमिकों तक बैंकिंग सुविधाओं की पहुंच बहुत कम है। इसके साथ, एमएसएमई अपने श्रमिकों के वेतन को कार्ड पर अपलोड कर सकते हैं, जिसे श्रमिक अपनी आवश्यकता के अनुसार सहज तरीके से उपयोग कर सकते हैं। ‘आईसीआईसीआई बैंक नियो भारत पेरोल कार्ड’ किसी व्यक्ति को अपने कार्ड खाते में 1 लाख रुपए तक की धनराशि तक प्राप्त करने की अनुमति देता है। यह नियोक्ताओं को वेतन संवितरण से संबंधित अत्याधुनिक समाधान प्रदान करते हुए, फैक्टरी श्रमिकों को डिजिटल बैंकिंग की सुविधा और सुरक्षा प्रदान करता है।

आईसीआईसीआई बैंक के साथ यह साझेदारी भारत के फैक्टरी श्रमिकों के लिए बैंकिंग अनुभव में क्रांति लाने के लिए नियो के मिशन के अनुरूप है। इसके साथ, नियो ने अपने प्रमुख उत्पाद ‘नियो भारत’ के साथ अगले 5 वर्षों में 5 मिलियन ब्लू-कॉलर श्रमिकों तक पहुंचने के अपने लक्ष्य की घोषणा की है। ‘नियो भारत’ के  वर्तमान में 1.7 मिलियन से अधिक ग्राहक है और 7000 से अधिक कॉर्पोरेट्स के साथ इसके संबंध हैं और हर दिन लगभग 5000 ग्राहक जोड़े जा रहे हैं।

आईसीआईसीआई बैंक के हेड – अनसिक्योर एसेट्स श्री सुदीप्ता रॉय ने इस पहल के बारे में जानकारी देते हुए कहा, ‘‘आईसीआईसीआई बैंक में हम लगातार उन सुविधाओं को पेश करने का प्रयास करते है, जिनके सहयोग से वित्तीय समावेशन को बढ़ावा दिया जा सकता है और औपचारिक बैंकिंग ईकोसिस्टम की पहुंच का विस्तार करना संभव होता है। इसके अनुरूप, हम ‘आईसीआईसीआई बैंक नियो भारत पेरोल कार्ड’ के लिए नियो के साथ साझेदारी करते हुए खुशी का अनुभव कर रहे हैं। यह साझेदारी हमारी ओर से की गई  एक और पहल है ताकि उन लोगांे के लिए बैंकिंग उत्पादों को आसानी से उपलब्ध कराया जा सके, जिन लोगांे तक अभी बैंकिंग सुविधाओं की पहुंच बहुत कम है। हमारा मानना है कि इस कार्ड से लैस एमएसएमई के श्रमिक भी डिजिटल बैंकिंग की सुविधा और सुरक्षा का आनंद ले सकेंगे।’’

नियो के को-फाउंडर और सीईओ विनय बागड़ी ने कहा, ‘नियो भारत डिजिटल सैलरी सॉल्यूशन में लाखों मजदूरों और वेतनभोगी कर्मचारियों को औपचारिक अर्थव्यवस्था में लाने की क्षमता है और यह डिजिटल इंडिया के प्रति देश के सफल अभियान का समर्थन भी करता है। हमारा प्राथमिक उद्देश्य ब्लू-कॉलर सेगमेंट के लिए डिजिटल बैंकिंग समाधान प्रदान करना है ताकि न केवल वित्तीय समावेशन को बढ़ावा दिया जा सके, बल्कि श्रमिकों के बीच दीर्घकालिक बचत की आदत भी डाली जा सके।’’

प्रीपेड कार्ड का लाभ उठाने के लिए कोई भी एमएसएमई नियो के साथ गठजोड़ कर सकता है। टाई-अप के बाद, श्रमिकों को उनके कार्यस्थल पर ही कार्ड जारी किए जाते हैं, जबकि बायो-मीट्रिक डिवाइस का उपयोग करके एक साथ उनका केवाईसी सत्यापन किया जाता है। एक बार सक्रिय होने के बाद, श्रमिक कार्ड का उपयोग एटीएम में से धन निकालने, ई-कॉमर्स पोर्टल पर ऑनलाइन लेनदेन करने और प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) मशीनों पर कार्ड स्वाइप करके कर सकते हैं।

कार्डधारकों को और सुविधा देने के लिए, नियो एक बहुभाषी ऐप प्रदान करता है, जिसे ‘नियो भारत मोबाइल ऐप’ कहा जाता है। श्रमिक गूगल प्लेस्टोर से इस ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं और खुद को पंजीकृत कर सकते हैं। ऐप उन्हें धनराशि स्थानांतरित करने, बिलों का भुगतान करने या ऑनलाइन रिचार्ज करने में सक्षम करेगा। यह उन्हें कार्ड को ब्लॉक/अनब्लॉक करने की भी अनुमति देता है जो उन्हें उनकी कार्ड सुरक्षा का नियंत्रण प्रदान करता है। कार्डधारकों को मुफ्त आकस्मिक मृत्यु बीमा कवर भी मिलता है।

नियो की मजबूत 24बाई7 ग्राहक सेवा टीम एक बहुभाषी काॅल सेंटर के माध्यम से दिन के किसी भी समय उत्पन्न होने वाले मुद्दों को दूर करने का पूरा प्रयास करती है।

दर्पण शर्मा, बिजनेस हेड-नियो भारत ने कहा, ‘‘आईसीआईसीआई बैंक के साथ यह साझेदारी दरअसल ऐसे फैक्ट्री श्रमिकों को सर्वश्रेष्ठ सेवाएं प्रदान करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है, जिन्हें अभी बैंकिंग सुविधाएं पूरी तरह हासिल नहीं हैं।  यह साझेदारी देश के हर हिस्से में इस सेगमेंट में सभी बैंकिंग सेवाएं प्रदान करने का अवसर प्रदान करेगी।’’

पेरोल, कर्मचारी लाभ, कार्ड आधारित भुगतान, क्रेडिट और बचत के लिए टैक्नोलाॅजी का इस्तेमाल करते हुए नियो एक व्यापक कॉर्पोरेट पोर्टल द्वारा समर्थित भारत मोबाइल ऐप के साथ नियो एक डिजिटल खाता सहित एकीकृत समाधान प्रदान करता है। यह लाभ और भुगतान प्रक्रिया को डिजिटल बनाने में संगठनों की सहायता करता है। यह एक परेशानीरहित कर्मचारी अनुभव देने का प्रयास भी करता है।

आईसीआईसीआई बैंक लिमिटेड के बारे मेंः ‘आईसीआईसीआई बैंक लिमिटेड (एनवायएसईः आईबीएन) समेकित परिसंपत्तियों के आधार पर निजी क्षेत्र का भारत का सबसे बड़ा बैंक है। 30 सितंबर, 2020 को बैंक की समेकित कुल संपत्ति 14,76,014 करोड रुपए थी। आईसीआईसीआई बैंक की सहायक कंपनियों में भारत की अग्रणी निजी क्षेत्र बीमा, परिसंपत्ति प्रबंधन और प्रतिभूति ब्रोकरेज कंपनियां और देश की सबसे बड़ी निजी इक्विटी फर्में शामिल हैं। यह भारत सहित 15 देशों में मौजूद है।

नियो के बारे मेंः 2015 में परिकल्पित नियो एक डिजिटल बैंकिंग फिनटेक है जो वर्तमान में 4 प्रमुख बिजनेस लाइनों पर काम करता है- पहला- नियो भारत पेरोल, जो भारत के व्यापक कामगार वर्ग को आधुनिक वेतन खाते की सुविधाएं प्रदान करता है, दूसरा, नियो ग्लोबल कार्ड जो यात्रियों के लिए सर्वोत्तम बैंकिंग अनुभव और मूल्य प्रदान करता है। तीसरा, नियो मनी जो वैल्थ प्रोडक्ट्स का पावर पैक्ड सूट है और चैथा, जल्द ही लाॅन्च किया जाने वाला नियो एक्स है, जो मिलेनियल पीढ़ी को नए जमाने का सेविंग अकाउंट खोलने की सुविधा उपलब्ध कराएगा।

नियो बैंगलोर, मुंबई और दिल्ली में कॉरपोरेट कार्यालयों के माध्यम से काम करता है, और 20 से अधिक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में इसकी उपस्थिति है। वर्तमान में लगभग 2 मिलियन ग्राहकों और 7,000 कॉर्पोरेट्स के ग्राहक आधार को सेवाएं प्रदान कर रहा है। इसमें लगभग 800 लोग कार्यरत हैं।

No comments:

Post a Comment

सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में अंबुजा के स्कूलों ने किया शानदार प्रदर्शन

मुंबई, 19 अगस्त, 2022- सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में अंबुजा के संयंत्रों के आसपास स्थित पांच अंबुजा स्कूलों के 739 छात्रो...