Tuesday, January 19, 2021

एचएफसीएल ने 31 दिसंबर, 2020 को समाप्त तीसरी तिमाही और 9 माह के वित्तीय परिणाम घोषित किए

जयपुर 19 जनवरी 2021 – हाई-एंड टेलीकाम इक्विपमेंट, आप्टिकल फाइबर और आप्टिकल फाइबर केबल का निर्माण करने वाली कंपनी और दूरसंचार सेवा प्रदाताओं, रेलवे, रक्षा और स्मार्ट शहरों और निगरानी परियोजनाओं के लिए संचार नेटवर्क बनाने वाले भारत के प्रमुख टैक्नोलाॅजी एंटरप्राइज एचएफसीएल ने 31 दिसंबर, 2020 को समाप्त तीसरी तिमाही और 9 महीनों के लिए गैरलेखापरीक्षित वित्तीय परिणाम घोषित कर दिए हैं।

31 दिसंबर, 2020 को समाप्त हुए नौ महीनों के लिए, कंपनी ने ₹ 3,031.56 करोड़ का समेकित राजस्व,     ₹ 397.94 करोड़ रुपए का ईबीआईडीटीए, ₹ 218.62 करोड़ का पीबीटी और ₹ 159.77 करोड़ का पीएटी रिपोर्ट किया है।

समेकित वित्तीय हाईलाइट्सः-

ParticularsQ3 FY21

Rs in Crs

Q2 FY21

Rs in Crs

Change Q-o-Q
Revenue1,277.481,054.3221.2%
EBIDTA176.87137.8128.4%
EBIDTA Margin (%)13.80%13.02%78Bps
PAT85.1153.3259.7%
PAT Margin (%)6.64%5.04%160Bps

स्टैंडअलोन आधार पर, कंपनी का तिमाही राजस्व ₹ 1,188.89 करोड़, ईबीआईडीटीए ₹ 149.28 करोड़, पीबीटी ₹  97.29 करोड़, टैक्स ₹ 22.25 करोड़ और पीएटी ₹ 75.04 करोड़ रहा।

31 दिसंबर, 2020 को समाप्त हुए नौ महीनों के लिए स्टैंडअलोन आधार पर कंपनी ने ₹ 2,828.93 करोड़ का राजस्व, ₹ 336.68 करोड़ का ईबीआईडीटीए, ₹ 186.62 करोड़ का पीबीटी, ₹ 46.26 करोड़ का टैक्स और ₹ 140.36 करोड़ का राजस्व बताया।

कंपनी की परफाॅर्मेंस के बारे में टिप्पणी करते हुए एचएफसीएल के मैनेजिंग डायरेक्टर महेन्द्र नाहटा कहते हैं, ‘‘हम अपने निरंतर प्रयासों के साथ लगातार विकास की राह पर आगे बढ़ते हुए खुशी का अनुभव कर रहे हैं, जैसा कि टाॅपलाइन ग्रोथ में तेजी और निरंतर मार्जिन और लाभप्रदता में सुधार से भी नजर आता है। हमारी टीम के अनुसंधान और विकास से संबंधित निरंतर प्रयासों, महामारी की चुनौतियों के बीच विकास को आगे बढ़ाने के साहस और हमारे ग्राहकों के ठोस विश्वास के कारण हम कामयाबी को संभव बना सके हैं। हमारे पास आकर्षक योजनाओं के साथ  ₹ 7,313 करोड़ की एक मजबूत ऑर्डरबुक है, और हम दूरसंचार, रेलवे और रक्षा जैसे उद्योगों में अपने 100 प्रतिशत स्वदेशी रूप से डिजाइन और विकसित उत्पादों के लिए अच्छे अवसर देख रहे हैं।’’

हमारा दृष्टिकोण बहुत ही आशावादी है, क्योंकि हम देख रहे हैं कि ऑप्टिकल फाइबर केबल और एफटीटीएच की डिमांड भारत में ही नहीं, बल्कि निर्यात के लिहाज से भी बढ़ रही है। भारतनेट के संयोजन के रूप में पीएम-वानी जैसी ट्रान्सफॉर्मल परियोजनाएं, और जल्द ही 5जी की शुरुआत होने से निश्चित तौर पर कंपनी की संभावनाओं को काफी बढ़ावा मिलेगा। क्यू3एफवाय21 में हैदराबाद में हमारी नवीनतम एफटीटीएच सुविधा शुरू होने के साथ, हम देश में सबसे बड़े एफटीटीएच केबल निर्माता बन गए हैं और वर्तमान में, हम अगली कुछ तिमाहियों में इस क्षमता का और विस्तार करने की तैयारी कर रहे हैं। हमारे उत्पाद पोर्टफोलियो के विस्तार और हमारी मेड इन इंडिया आॅफरिंग्स के निर्यात में वृद्धि पर ध्यान केंद्रित करने के साथ, हम निरंतर आगे बढ़ते हुए विकास की गति को बनाए रखने के बारे में उत्साहित हैं।’’

दूरसंचार उत्पादों के लिए कंपनी भारत को अगले नवाचार और विनिर्माण केंद्र के रूप में देखती है। देश में जल्द ही शुरू होने वाली 5जी सुविधा के साथ एचएफसीएल भारत और विदेशों में अगली पीढ़ी की संचार संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए पूरी तरह तैयार है।

एचएफसीएल के बारे में

एचएफसीएल लिमिटेड (पूर्व नाम- हिमाचल फ्यूचरस्टिक कम्युनिकेशन लिमिटेड) हाई-एंड टेलीकाम इक्विपमेंट, आप्टिकल फाइबर और आप्टिकल फाइबर केबल का निर्माण करने वाली एक अग्रणी कंपनी है, जो टेलीकाम सेवा प्रदाताओं, रेलवे, रक्षा, स्मार्ट सिटी और सर्विलांस प्रोजेक्ट्स के लिए आधुनिक कम्युनिकेशन नेटवर्क तैयार करने में विशेषज्ञता रखती है।

कम्पनी का स्वयं का सेंटर फाॅर एक्सीलेंस इन रिसर्च गुडगांव और बंगलुरू में स्थापित है। इसके अलावा कई आरएंडडी हाउसेस और भारत तथा विदेश में कई स्थानों पर साझेदारों के साथ मिल कर शोध व अनुसंधान का काम किया जाता है तथा टेक्नोलाॅजी उत्पादों व साॅल्युशंस की भविष्य की रेंज तैयार की जाती है। स्वयं के शोध व अनुसंधान केन्द्र में कम्पनी ने वाईफाई सिस्टम, अनलाईसेंस्ड बैंड रेडियो, क्लाउड मैनेजमेंट सिस्टम और वीडियो मैनेजमेंट सिस्टम तैयार किए हैं। इसके अलावा कई उत्पाद विकसित किए जा रहे है, जिनमें इलेक्ट्रिोनिक फ्यूज, इलेक्ट्रो आप्टिक डिवाइस, साफ्टवेयर डिफाइन्ड रेडियो, स्विच, राउटर, इंटेलिजेंट एंटेना सिस्टम और ग्राउंड सर्विलांस रडार शामिल हैं।

कम्पनी की अत्याधुनिक आॅप्टिकल फाइबर और आॅप्टिकल फाइबर केबल निर्माण यूनिट हैदराबाद में है आॅप्टिकल फाइबर केबल निर्माण प्लांट गोवा में और इसकी सब्सिडरी एचटीएल लिमिटेड चेन्न्ई में है। इसके अलावा एफआरपी राॅड निर्माण युनिट होसुर में है। इसके अलावा सोलन में एक टेलीकाॅम उपकरण निर्माण युनिट भी है।

कम्पनी पिछले 7 वर्ष से 27 प्रतिशत रेवेन्यू और 23 प्रतिशत लाभ का सीएजीआर बनाए हुए है।इसके अलावा वित्तीय वर्ष 2020 में आरओसीई 21.50 प्रतिशत था तथा डेट इक्विटी रेश्यो 0.43 था। वित्तीय वर्ष 2021 के 9 माह में कंपनी का समेकित राजस्व ₹ 3031.56 करोड़ और पीएटी ₹ 159.77 करोड़ दर्ज किया गया।

No comments:

Post a Comment

सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में अंबुजा के स्कूलों ने किया शानदार प्रदर्शन

मुंबई, 19 अगस्त, 2022- सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में अंबुजा के संयंत्रों के आसपास स्थित पांच अंबुजा स्कूलों के 739 छात्रो...