Saturday, January 30, 2021

बैंक ऑफ़ इंडि़या ने अपने ग्राहकों के लिए वीज़ा सिग्नेचर इन्टरनैशनल कॉन्‍टैक्‍टलेस डेबिट कार्ड रोल आउट किया




जयपुर 30 जनवरी 2021 : बैंक ऑफ़ इंडि़या ने अपने ग्राहकों के लिए वीज़ा सिग्नेचर इन्टरनैशनल कॉन्‍टैक्‍टलेस डेबिट कार्ड रोल आउट किया है जो प्लास्टिक और मेटैलिक, दोनों स्वरूप में उपलब्ध है।

इस नए डेबिट कार्ड से, बीओआई ग्राहक प्रति दिन, पीओएस पर रु.5.00 लाख की बढ़ी हुई व्यय सीमा, ई-कॉमर्स संव्यवहारों के लिए रु. 2.00 लाख, एटीएम से रु. 1.00लाख का नकद आहरण तथा रु. 5,000/- का कॉन्‍टैक्‍टलेस संव्यवहार जैसी बेहतर सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे। इस कार्ड के साथ ग्राहकों को लॉन्ज एक्सेस, पीओएस एवं ई-कॉम उपयोग पर रिवॉर्ड पॉइंट्स, अनधिकृत संव्यवहार के लिए बीमा और यात्रा, रिटेल, डाइनिंग, लाइफस्टाइल, इंटरटेन्मेंट एवं लग्ज़री होटलों पर ऑफर जैसे अतिरिक्त कॉम्प्लिमेंट्री लाभ उपलब्ध होंगे।

यह कार्ड, अपने बचत एवं चालू खातों में रु. 10.00 लाख एवं उससे अधिक का औसत तिमाही शेष रखने वाले हाई-नेटवर्थ ग्राहकों को जारी किया जाता है।

देश अपनायें और प्रजा फाउंडेशन ने गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में अंतर-विद्यालयीय प्रतियोगिता ‘प्रजातंत्र’ का किया आयोजन

जयपुर 30 जनवरी 2021  –  देश अपनायें सहयोग फाउंडेशन और प्रजा फाउंडेशन ने भारत के 72वें गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में अंतर-विद्यालयीय प्रतियोगिता, ‘प्रजातंत्र’ का आयोजन किया।

ऑनलाइन आयोजित किये गये ग्रैंड फिनाले में चिल्ड्रेन्‍स एकेडमी, ठाकुर कॉम्पलेक्स, मुंबई 44 अंकों के सर्वोच्च स्कोर के साथ विजेता रहा। विजेता टीम के छात्रों में तान्‍वी कामत, राहिल गांधी, गौरी ठाकुर, पलाश जाधव, रिया गोडबोले, प्राप्ति जानी, अद्विक गोरे और सैली नारवेकर और उनकी नेतृत्वकर्ता शिक्षिका, जाह्नवी शांघवी शामिल रहे।

नालंदा पब्लिक स्कूल, मुलुंद, मुंबई 43 अंकों के साथ प्रथम उप-विजेता रहा। टीम के सदस्‍यों में अथर्व कार्णिक, आकाश बोर्जी, अमेया परब, सोहम डेंगरा, दिव्‍या गोपलानी, अद्वय बापट, सोहम थोराट, चार्वी याधव और उनकी नेतृत्वकर्ता शिक्षिका नेहा ओज़ा शामिल रहे।

दिल्ली प्राइवेट स्कूल, दुबई 38 अंकों के साथ द्वितीय उप-विजेता रहा। इसकी टीम के सदस्‍यों में आलिया अरोड़ा, तनीषा कनागरजेउ, दीवा राजपुरोहित, सना फातिमा, आशा लता साखामुरी, माइकेल बॉनी, अनुभव मिश्रा, हार्ड केतन कुमार भूत और टीचर अश्‍कर एम शामिल रहे।

पूरे भारत के 27 स्‍कूलों ने प्रतियोगिता के ज़ोनल राउंड्स में हिस्‍सा लिये। स्‍कूलों की टीमों ने कुछ मानकों के आधार पर भारत की दो अन्‍य देशों के साथ तुलना की और उनके साथ साझा किये गये सात सवालों के बारे में अपने विचार व दृष्टिकोण रखें। टीमों का मूल्‍यांकन, उनकी शोध, विश्‍लेषण एवं विचारों की गुणवत्‍ता, मुख्‍य अतिथि के सवालों का उनके द्वारा दिये गये उत्‍तर, और समय-सीमा के पालन जैसे मानकों पर किया गया।

एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्‍स के सह-संस्‍थापक व न्यासी और आईआईएम अहमदाबाद के प्रभारी निदेशक, श्री जगदीप छोकर बतौर मुख्‍य अतिथि उपस्थित थे। उन्होंने कहा, ”मुझे इस बात की खुशी हुई कि कंटेस्‍ट में भाग लेने वाले हर समूह ने लोकतंत्र को आकार देने में नागरिकों के योगदान के महत्‍व को रेखांकित किया। हमें इस बात को स्‍वीकार करना होगा कि देश में हमें जो कुछ भी गलत होते दिखता है उसके लिए हम जिम्‍मेवार हैं। हमें तय करना होगा कि हम हमारे राष्ट्र और समाज को बेहतर बनाने के लिए क्‍या कर सकते हैं। फिर हमें अपने आसपास के कुछ लोगों को नागरिकता की अवधारणा को गंभीरता से समझाने और उन्‍हें अधिक सक्रिय, सजग और जिम्‍मेदार नागरिक बनने के लिए प्रेरित करना होगा।”

देश अपनायें और एनाम सिक्योरिटीज के संस्थापक, श्री वल्‍लभ भंसाली ने कहा, ”हमारे सभी कार्यक्रमकों का उद्देश्य एक्टिजेन्‍स (ACTIZENS) – सतर्क (Alert), जानकार (Informed) और सक्रिय नागरिक (Active Citizens) तैयार करना है। हमें यह देखकर खुशी हो रही है कि छात्रों में प्रजातंत्र/लोकतंत्र के बारे में और अधिक जानने की जिज्ञासा है और उन्‍होंने यह दिखाया है कि वो नागरिक के रूप में  किस तरह से इसे मजबूत बनायेंगे।”

इस इवेंट को यूट्यूब https://youtu.be/LRiqDXxtMxE पर लाइव स्‍ट्रीम किया गया

देश अपनायें सहयोग फाउंडेशन के विषय में

एनाम सिक्योरिटीज के सह-संस्‍थापक व चेयरमैन, श्री वल्‍लभ भंसाली और उनके सहयोगियों ने मिलकर वर्ष 2015 में देश अपनायें की स्‍थापना की। देश अपनायें का उद्देश्य तीन विषयों को केंद्र में रखते हुए जवाबदेह नागरिकता और समाज का निर्माण करना है:  नागरिकता शिक्षा, स्वयंसेवी भाव और नेबरहूड एंगेजमेंट।

 देश अपनायें एक्टिजेन्‍स क्‍लब शुरू करने, मासिक गतिविधियों में शामिल होने और एक्टिजेन एजुकेशन कंटेंट हासिल करने के इच्‍छुक स्‍कूल्‍स info@deshapnayen.org  पर ईमेल कर सकते हैं या 8898890202 पर कॉल कर सकते हैं। स्‍कूलों को ये प्रोग्राम्‍स नि:शुल्क उपलब्‍ध कराये जाते हैं।

प्रजा फाउंडेशन के विषय में

प्रजा, एक निरपेक्ष संगठन है जो वर्ष 1997 से प्रशासन को जवाबदेह बनाने हेतु प्रयासरत है। इसका मानना है कि भारत का शहरी प्रशासन, भारत के शहरी क्षेत्रों के नागरिकों को सुशासन प्रदान करने में विफल रहा है, और इसका कारण शहरी भारत की शासकीय संरचना है। इसकी यह भी धारणा है कि जमीनी स्‍तर पर वास्‍तविक लोकतंत्र का अभाव है अर्थात् स्‍थानीय स्‍तर पर निर्वाचित प्रतिनिधि व स्‍थानीय सरकारों के पास पर्याप्त शक्ति नहीं है और वो नागरिकों के प्रति जवाबदेह नहीं हैं और शहरों में प्रभावी शासन की कमी का यह प्राथमिक कारण है।

प्रजा, आंकड़ा-आधारित शोध के जरिए शहरी प्रशासन की क्षमताओं को चिह्नित करता है, उनकी कार्य-प्रक्रियाओं की अक्षमताओं को मापता है और सर्वोत्‍तम पद्धतियों की पहचान करता है। फिर, यह इस जानकारी को शहरी प्रशासन के हिस्‍सेधारकों जैसे निर्वाचित प्रतिनिधियों, प्रशासन, नागरिकों, मीडिया और शिक्षा जगत को उपलब्‍ध कराता है; और अपने हिस्‍साधारकों से मिलकर काम करते हुए अक्षमताओं को चिह्नित करते हुए उनकी क्षमताओं को बढ़ाता है ताकि शहरी प्रशासन की कार्य प्रक्रियाएं बेहतर बनायी जा सकें।

ब्रूकफिल्ड इंडिया रियल इस्टेट ट्रस्ट का आईपीओ 03 फरवरी, 2021 को खुलेगा और 05 फरवरी, 2021 को बंद होगा

जयपुर 30 जनवरी 2021: ब्रूकफिल्‍ड इंडिया रियल इस्टेट ट्रस्ट (”ब्रूकफिल्ड आरईआईटी”), जो भारत का एकमात्र 100 प्रतिशत संस्‍थागत रूप से प्रबंधित पब्लिक कॉमर्शियल रियल इस्‍टेट व्‍हीकल है, यह आईपीओ 03 फरवरी, 2021 को खुलेगा। इस आईपीओ का प्राइस बैंड 274 रु. से 275 रु. प्रति यूनिट के बीच तय किया गया है। ब्रूकफिल्‍ड आरईआईटी, ₹38,000 मिलियन तक के यूनिट्स जारी कर रहा है (”इश्‍यू”)। यह आईपीओ, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (रियल इस्‍टेट इन्‍वेस्‍टमेंट ट्रस्‍ट्स) विनियमन, 2014 यथा संशोधित के अधिनियम 14(1) (”आरईआईटी विनियमन”) के अनुसार उपलब्‍ध कराया जा रहा है।

ब्रूकफिल्‍ड आरईआईटी की यूनिट्स, बीएसई लिमिटेड (”बीएसई”) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (”एनएसई”, बीएसई के साथ, ”स्‍टॉक एक्‍सचेंजेज”) पर सूचीबद्ध किये जाने हेतु प्रस्‍तावित हैं। ब्रूकफिल्‍ड आरईआईटी को दिनांक 2 नवंबर, 2020 और 5 नवंबर, 2020 के पत्रों के अनुसार हमारे यूनिट्स की लिस्टिंग के लिए क्रमश: बीएसई और एनएसई से इन-प्रिंसिपल स्‍वीकृतियां मिल चुकी हैं। इश्‍यू का विनिर्दिष्‍ट स्‍टॉक एक्‍सचेंज, बीएसई है।

इश्‍यू से होने वाली शुद्ध आय का उपयोग अग्रलिखित उद्देश्‍यों हेतु किया जायेगा: (1) एस्‍सेट एसपीवी की मौजूदा ऋणों के आंशिक या पूर्ण भुगतान या निर्धारित चुकौती (27 जनवरी, 2021 की तिथि के ऑफर डॉक्यूमेंट के पृष्ठ 219 पर ‘यूज ऑफ इश्‍यू प्रोसिड्स – रिक्‍वायरमेंट ऑफ फंड्स’ के तहत निर्धारित शुद्ध आय निर्देशों के उपयोग के अनुसार); और (2) सामान्‍य उद्देश्य।

यह इश्‍यू, आरईआईटी विनियमनों और सेबी दिशानिर्देशों (जैसा कि ऑफर दस्‍तावेज में उल्‍लेखित है) और बुक बिल्डिंग प्रक्रिया के अनुसार उपलब्‍ध कराया जा रहा है, जहां इश्‍यू का 75 प्रतिशत से अनधिक हिस्‍सा संस्थागत निवेशकों को आनुपातिक आधार पर आवंटन हेतु उपलब्‍ध होगा, हालांकि मैनेजर, लीड मैनेजर्स के परामर्श से संस्‍थागत निवेशक हिस्‍से का 60 प्रतिशत तक हिस्‍सा, आरईआईटी विनियमनों एवं सेबी दिशानिर्देशों के अनुसार विवेकानुसार एंकर निवेशकों को आवंटित कर सकते हैं।

आगे, इश्‍यू का 25 प्रतिशत से अनधिक हिस्‍सा, आरईआईटी विनियमनों एवं सेबी दिशानिर्देशों के अनुसार गैर-संस्‍थागत निवेशकों को आनुपातिक आधार पर आवंटित किये जाने हेतु उपलब्‍ध होगा, बशर्ते वैध बोलियां इश्‍यू मूल्‍य पर या इससे ऊपर प्राप्‍त हों। मैनेजर, लीड मैनेजर्स के परामर्श से आरईआईटी विनियमन और सेबी दिशानिर्देशों के अनुसार इश्‍यू के ओवरसब्‍सक्रिप्‍शन को बनाये रख सकता है।

एंकर निवेशकों को छोड़कर, सभी बोलीदाताओं को इस इश्‍यू में भाग लेने के लिए एप्लिकेशन सपोर्टेड बाय ब्‍लॉक्‍ड एमाउंट (”एएसबीए”) प्रक्रिया का अनिवार्य रूप से उपयोग करना होगा और उन्‍हें अपने-अपने बैंक खातों की जानकारी देनी होगी, जिसे सेल्‍फ सर्टिफाइड बैंक्‍स (”एससीएसबी”) द्वारा ब्‍लॉक कर दिया जायेगा।

एंकर निवेशकों द्वारा सब्‍सक्राइब किये जाने हेतु उपलब्‍ध यूनिट्स के अलावा, बोलदाताओं द्वारा न्‍यूनतम 200 यूनिट्स व उसके बाद 200 यूनिट्स के गुणकों में बोलियां लगायी जा सकती हैं।

एक्सिस ट्रस्‍टी सर्विसेज लिमिटेड, ट्रस्‍टी है, जबकि बीएसआरईपी इंडिया ऑफिस होल्डिंग्‍स वी प्राइवेट लिमिटेड, स्‍पॉन्‍सर है। ब्रूकप्रॉप मैनेजमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड, मैनेजर है।

इश्‍यू के ग्‍लोबल कोऑर्डिनेर्ट्स और बुक रनिंग लीड मैनेजर्स (”जीसीबीआरएलएम”) मॉर्गन स्‍टेनली इंडिया कंपनी प्राइवेट लिमिटेड, बोफा सिक्‍योरिटीज इंडिया लिमिटेड, सिटीग्रुप ग्‍लोबल मार्केट्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और एचएसबीसी सिक्‍योरिटीज एंड कैपिटल मार्केट्स (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड हैं। इश्‍यू के बुक रनिंग लीड मैनेजर्स (”बीआरएलएम”) एम्बिट प्राइवेट लिमिटेड, एक्सिस कैपिटल लिमिटेड, आईआईएफएल सिक्‍योरिटीज लिमिटेड, जेएम फाइनेंशियल लिमिटेड, जे.पी. मॉर्गन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी लिमिटेड और एसबीआई कैपिटल मार्केट्स लिमिटेड हैं।

 

  

पिडिलाइट इंडस्ट्रीज ने पिछले वर्ष की समान तिमाही की तुलना में बिक्री में 20 प्रतिशत की शुद्ध वृद्धि दर्ज की

जयपुर 30 जनवरी 2021 –  देश में एड्हेसिव, सीलेंट और निर्माण रसायन की अग्रणी निर्माता कंपनी पिडिलाइट इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने आज 31 दिसंबर, 2020 को समाप्त तिमाही और नौ महीने के अपने वित्तीय परिणामों की घोषणा की।

इस तिमाही के दौरान उपभोक्ता और बाजार (सीएंडबी) सेगमेंट में मात्रा और मूल्य के लिहाज से 20 प्रतिशत से अधिक बढ़ोतरी दर्ज की गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में मांग में निरंतर तेजी और मेट्रो सहित सभी शहरी इलाकों में मजबूत रिकवरी के कारण सभी वर्टिकल में जोरदार वृद्धि दर्ज की गई। औद्योगिक गतिविधि में पुनरुत्थान और बहाली की स्थिति को देखते हुए बिजनेस टू बिजनेस (बी 2 बी) सेगमेंट में भी अच्छी वृद्धि दर्ज की गई है।

विदेशी सहायक कंपनियों ने भी जोरदार प्रदर्शन किया है, जिससे दोहरे अंकों की निरंतर राजस्व वृद्धि के साथ-साथ आय में मजबूत वृद्धि हुई है।

एक तरफ सीएंडबी सेगमेंट में घरेलू सहायक कंपनियों ने भी विकास की बेहतर गति को बनाए रखा है, तो दूसरी तरफ बी 2 बी सेगमेंट में सहायक कंपनियों ने तिमाही के आखिरी हिस्से में रिकवरी के संकेत दिए हैं।

वित्तीय प्रदर्शन

समेकित प्रदर्शन

– पिछले वर्ष की इसी तिमाही की तुलना में शुद्ध बिक्री 2,290 करोड़ रुपये पर, 20 प्रतिशत वृद्धि (16 प्रतिशत पीएपीएल को छोड़कर)। नौ महीनों के लिए शुद्ध बिक्री 5,021 करोड़ रुपये रही और पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 12 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।

 

– पिछले वर्ष की इसी तिमाही की तुलना में गैर-परिचालन आय से पहले ईबीआईटीडीए 641 करोड़ रुपये पर, 38 प्रतिशत की बढ़ोतरी (33 प्रतिशत पीएपीएल को छोड़कर)। कम इनपुट लागत और ए एंड एसपी खर्च के कारण। नौ महीनों की अवधि के लिए ईबीआईटीडीए 1,223 करोड़ रुपये पर, पिछले साल की इसी अवधि की तुलना मंे 4 प्रतिशत की गिरावट।

– पिछले साल की समान तिमाही की तुलना में कर और असाधारण वस्तुओं के साथ प्रोफिट बिफोर टैक्स (पीबीटी) 601 करोड़ रुपये पर, 32 प्रतिशत की वृद्धि (27 प्रतिशत पीएपीएल को छोड़कर)। 9 माह की अवधि में पीबीटी 1,111 करोड़ रुपये, पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 12 प्रतिशत गिरावट।

– पिछले वर्ष की इसी तिमाही की तुलना में प्रोफिट आफ्टर टैक्स (पीएटी) 446 करोड़ रुपये पर, 29 प्रतिशत की वृद्धि (पीएपीएल 23 प्रतिशत छोड़कर)। 9 माह की अवधि के लिए पीएटी 819 करोड़ रुपये पर, पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 15 प्रतिशत की गिरावट, कारण- कॉर्पोरेट टैक्स दर में कमी के साथ पूर्व वर्ष में टैक्स रिवर्सल (लाइक टू लाइक आधार पर पीएटी में 13 प्रतिशत की गिरावट आई है)।

The Company acquired 100% stake in Pidilite Adhesives Pvt Ltd (PAPL) [Formerly known as Huntsman Advanced Materials Solutions Private Limited (HAMSPL)] on 3rd November 2020.

स्टैंडअलोन प्रदर्शन

– पिछले वर्ष की समान बिक्री मात्रा के साथ शुद्ध बिक्री 1,948 करोड़ रुपये की, 18 प्रतिशत की वृद्धि हुई, जो कि पिछले वर्ष की समान बिक्री मात्रा और 19 प्रतिशत की मिश्रित वृद्धि के साथ थी। सेल्स वाॅल्यूम में 22 प्रतिशत की वृद्धि और सीएंडबी मिश्रण के कारण यह संभव हुआ, साथ ही सेल्स वाॅल्यूम में 12 प्रतिशत की वृद्धि और बी2बी मिश्रण के कारण भी। 9 महीनों के लिए शुद्ध बिक्री 4,355 करोड़ रुपये रही, पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में इसमें 13 प्रतिशत की गिरावट रही।

– गैर-परिचालन आय से पहले ईबीआईटीडीए 572 करोड़ रुपये पर, पिछले साल की तुलना में 33 प्रतिशत बढ़ोतरी, कम आय इनपुट लागत और ए एंड एसपी खर्च के कारण। 9 माह की अवधि के लिए ईबीआईटीडीए 1,142 करोड़ रुपये पर, पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में 5 फीसदी की गिरावट।

– पिछले साल की समान तिमाही की तुलना में कर और असाधारण वस्तुओं के साथ प्रोफिट बिफोर टैक्स (पीबीटी) 549 करोड़ रुपये, 27 प्रतिशत की बढ़ोतरी। 9 माह की अवधि के लिए पीबीटी 1,081 करोड़ रुपये पर, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 12 प्रतिशत की गिरावट।

– पिछले वर्ष की इसी तिमाही की तुलना में प्रोफिट आफ्टर टैक्स (पीएटी) 409 करोड़ रुपये पर, 24 प्रतिशत की वृद्धि। 9 माह की अवधि के लिए पीएटी 805 करोड़ रुपए पर, पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 15 प्रतिशत की गिरावट, कारण- कॉर्पोरेट टैक्स दर में कमी के साथ पूर्व वर्ष में टैक्स रिवर्सल (लाइक टू लाइक आधार पर पीएटी में 12 प्रतिशत की गिरावट आई है)।

तिमाही की परफाॅर्मेंस पर टिप्पणी करते हुए, पिडिलाइट इंडस्ट्रीज लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री भरत पुरी ने कहा-

‘‘इस तिमाही में सभी व्यवसायों और भौगोलिक क्षेत्रों में व्यापक आधार पर विकास हुआ। एक तरफ उपभोक्ता और बाजार के कारोबार में 20 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई, बी 2 बी सेगमेंट ने भी दोहरे अंकों में वृद्धि के साथ वापसी की है। इनपुट लागत और कम विवेकाधीन खर्चों के लाभों के कारण लाभप्रदता अधिक थी। हालांकि, इनपुट लागत में महत्वपूर्ण बढ़ोतरी के कारण आने वाली तिमाहियों में मार्जिन दबाव में रहेगा। हमारा ध्यान अपने ब्रांड, बिक्री और वितरण के साथ-साथ उपभोक्ता के लिए उपयोगी और महत्वपूर्ण इनोवेशन में निवेश के माध्यम से वॉल्यूम विकास को बढ़ावा देने पर होगा। इसी गति से आगे बढ़ते हुए हम मांग से संबंधित मजबूत स्थितियों को जारी रखने के प्रति सतर्क हैं।’’

पिडिलाइट के बारे में पिडिलाइट इंडस्ट्रीज लिमिटेड एड्हेसिव और सीलेंट, निर्माण रसायन, कला और शिल्प उत्पादों, डीआईवाई (डू-इंट-यॉरसेल्फ) प्रॉडक्ट और पॉलिमर इमल्शन की एक अग्रणी निर्माता है। हमारे उत्पादों की शृंखला में पेंट रसायन, मोटर वाहन रसायन, कला सामग्री और स्टेशनरी, कपड़े की देखभाल, रखरखाव रसायन, इंडस्ट्री एड्हेसिव, इंडस्ट्री रेजिन और कार्बनिक पिगमेंट्स एंड प्रिपरेशन शामिल हैं। अधिकांश उत्पादों को मजबूत इन-हाउस आर एंड डी के माध्यम से विकसित किया गया है। हमारा ब्रांड नाम फेविकोल भारत में लाखों लोगों के लिए एड्हेसिव का पर्याय बन गया है और देश में सबसे भरोसेमंद ब्रांडों में से एक है। हमारे कुछ अन्य प्रमुख ब्रांड एम-सील, फेविक्विक, फेविस्टिक, रॉफ, डॉ. फिक्सिट, मोटोमैक्स, फेविक्रिल और हाॅबी आइडियाज हैं।

नेक्स्ट डिजिटल ने अपना वृद्धिशील प्रदर्शन जारी रखा

जयपुर 30 जनवरी 2021 – नेक्‍स्‍ट डिजिटल ने चालू वित्‍त वर्ष – जिसमें कोविड महामारी ने मीडिया और मनोरंजन इंडस्‍ट्री को बहुत अधिक प्रभावित किया – की तीसरी तिमाही और नौ महीने की अवधि के अपने वित्‍तीय परिणामों की आज घोषणा की।

समेकित आधार पर, 31 दिसंबर 2010 को समाप्‍त तिमाही का राजस्‍व 259.90 करोड़ रु. रहाजो कि पिछली तिमाही के 235.76 करोड़ रु. के राजस्‍व के मुकाबले 10.24 प्रतिशत अधिक रहा। तिमाही की ब्‍याज, कर मूल्‍य ह्रास और परिशोधन-पूर्व कमाई (एबिटडा) 62.48 करोड़ रु. रहीजो पिछली तिमाही के 51.69 करोड़ रु. के मुकाबले 20.85% अधिक रहीइस प्रकार, इसकी वृद्धि दर राजस्व से अधिक रही।

तिमाही का परिचालन एबिटडा मार्जिन 24.04 प्रतिशत रहाजबकि पिछली तिमाही में यह 21.93 प्रतिशत था और पिछले वर्ष की समान तिमाही में 17.00 प्रतिशत था (वन-टाइम राजस्‍व को छोड़कर)। कुल मिलाकरयह तिमाही पॉजिटिव प्रॉफिट आफ्टर टैक्‍स (पीएटी) के साथ दमदार रही।

समेकित आधार पर नौ महीने की अवधि मेंकंपनी ने 149.76 करोड़ रु. का बेहद स्‍वस्‍थ ऑपरेटिंग एबिटडा दर्ज करायाजो पिछले वर्ष की समान अवधि के 140.37 करोड़ रु. (वन-टाइम राजस्‍व को छोड़कर) के मुकाबले 6.69 प्रतिशत अधिक रहा। नौ महीने की अवधि का ऑपरेटिंग एबिटडा मार्जिन 20.90 प्रतिशत रहाजबकि पिछले वर्ष के समान नौ महीने (वन टाइम राजस्‍व को छोड़कर) का मार्जिन 18.50 प्रतिशत था।

प्रदर्शन के प्रेरक बल

नेक्‍स्‍टडिजिटल ने पिछली तिमाहियों में शुरू की गई अपनी कई पहलों के दम पर तिसरी तिमाही में अपना एकीकृत एप्रोच बनाये रखा और बदलते व्‍यावसायिक वातावरण एवं चुनौतियों के अनुरूप स्‍वयं को समायोजित किया। उक्‍त पहलों में निम्‍नलिखित शामिल रहीं…

  • एआरपीयू वृद्धि को गति देने हेतु नयी पैकेजिंग पर जोर। डीएएस बाजारों – जो नेक्स्ट डिजिटल के प्रमुख बाजारों में शामिल हैं – के एआरपीयू में वृद्धि, इन पहलों के असरदार होने का प्रमाण है, जिनके चलते पिछले वित्‍त वर्ष की तीसरी तिमाही एआरपीयू में लगभग 10 प्रतिशत की वृद्धि हुई।
  • ब्रॉडबैंड की पैठ बढ़ाने हेतु क्रॉस-सेलिंग पर अधिक जोर और सब्‍सक्राइबर आधार का उपयोग। तीसरी तिमाही में ब्रॉडबैंड के ग्राहक आधार में 500,000 से अधिक की वृद्धि हुई – जो दूसरी तिमाही के मुकाबले 26.2 प्रतिशत अधिक है और पिछले वर्ष की तीसरी तिमाही के मुकाबले जबरदस्‍त 71.1 प्रतिशत की वृद्धि है।
  • चुनौतीपूर्ण वातावरण के बावजूद, तीसरी तिमाही में प्रमुख प्रदर्शन सूचकों को बनाये रखना। ”90-दिन नेट चर्न” और ”ऑन-टाईम रिन्‍यूअल”, तीसरी तिमाही में क्रमश: 9% और 76.3% रहा। हालांकि, दोनों ही सूचकों ने पिछले वित्‍त वर्ष के क्रमश: 2.1% and 72.0% की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया।

तीसरी तिमाही के प्रदर्शन पर टिप्‍पणी करते हुए, नेक्‍स्‍ट डिजिटल के मीडिया ग्रुप मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी, विंस्‍ली फर्नांडीज ने कहा, कंपनी ने बीती तिमाही में कन्‍वर्ज्ड मीडिया रणनीति के क्रियान्‍वयन पर काफी जोर दिया। हमारी नजर हमारे ब्रॉडबैंड बिजनेस को बढ़ाने के लिए हमारे वीडियो सब्‍सक्राइबर आधार को उपयोग में लाने पर थीजबकि हमने क्रॉस-सेलिंग और प्रमुख शहरों में रणनीतिक एलायंस पार्टनरशिप्‍स जारी रखा। हमारी फ्रेंचाइजीज के साथ हमारे गहरे जुड़ाव और नयी पैकेजिंग उपलब्‍ध कराने पर जोर ने हमें विशेष तौर पर अर्द्धशहरी बाजारों जहां हमारी प्रमुख रूप से मौजूदगी हैमें विकास के रास्‍ते पर बनाये रखा है।

विकास की सोच

आज नेक्‍स्‍ट डिजिटल, 9,000 से अधिक एलसीओ द्वारा सेवा प्रदत्‍त अपने डिजिटल केबल टेलीविजन (सीएटीवी) और हेडएंड-इन-द-स्‍काई (हिट्स) प्‍लेटफॉर्म्‍स के जरिए भारत के 1500 से अधिक शहरों व नगरों के 5.52 मिलियन सब्‍सक्राइबर होम्‍स को जोड़ता है। यह वीडियो और ब्रॉडबैंड में अपने द्वारा सेवित उपभोक्‍ता आधार को सीधे तौर पर या अपने इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर शेयरिंग बिजनेस मॉडल के जरिए समेकित रूप से बढाते हुए उन पर जोर देता रहेगा। कंपनी ऐसे अन्‍य मल्‍टी-सिस्‍टम ऑपरेटर्स की सहायता हेतु तकनीक में अपने निवेश का प्रभावी तरीके से उपयोग करने पर जोर दे रहा है, जो न केवल बढ़ती कनेक्टिविटी लागत को पेयर करने बल्कि अपने सब्‍सक्राइबर्स के लिए सेवा की गुणवत्‍ता को बेहतर बनाने का भी प्रयास कर रहा है।

समानांतर रूप से, नेक्‍स्‍ट डिजिटल, फ्रेंचाइजी के अपने नेटवर्क के जरिए हाई-स्‍पीड-इंटरनेट और डिजिटल प्‍लेटफॉर्म सेवाओं के साथ अपने स्‍वयं के संभावनाशील विकास बाजारों को सक्षम बनाना जारी रखेगा, और उपभोक्‍ताओं को सिंगल वायर के जरिए डिजिटल सेवाओं की रेंज उपलब्‍ध करायेगा।

नेक्‍स्‍टडिजिटल लिमिटेड (www.nxtdigital.co.in) के विषय में

नेक्‍स्‍टडिजिटल लिमिटेड (NDL) एक अग्रणी डिजिटल मीडिया और संचार कंपनी है; और देश में उपग्रह, डिजिटल केबल और ब्रॉडबैंड को कवर करने वाला एकमात्र एकीकृत डिजिटल डिलीवरी प्लेटफॉर्म है। नेक्‍स्‍टडिजिटल देश में एकमात्र कंपनी है, जो पारंपरिक टेरेस्ट्रियल फाइबर रूट और भारत के एकमात्र हेडेंड-इन-स्काई (HITS) उपग्रह प्लेटफ़ॉर्म के तहत क्रमशः ब्रांड और इनडिजिटल और नेक्‍स्‍टडिजिटल प्लेटफार्मों के माध्यम से, 9,000 से अधिक केबल शहरों के माध्यम से 1,500 से अधिक शहरों और कस्बों में देश भर में लाखों ग्राहकों को पूरा करता है।

नेक्‍स्‍टडिजिटल लिमिटेड, ऑपरेशंस एंड इन्वेस्टमेंट, तीन सेगमेंट्स अर्थात् मीडिया एंड कम्युनिकेशन, रियल एस्टेट और ट्रेजरी एंड इन्वेस्टमेंट कंपनी का प्रमुख व्यावसायिक निवेश इंडसइंड मीडिया एंड कम्युनिकेशंस लिमिटेड में अपनी हिस्सेदारी के माध्यम से मीडिया और संचार में है जो देश में एकमात्र एकीकृत मीडिया कंपनी है जो उपग्रह, डिजिटल केबल और ब्रॉडबैंड को कवर करती है। मीडिया सेवाओं में एक अखिल भारतीय उपस्थिति है, और सेवाएं भारत के पूर्ण सामाजिक-आर्थिक स्तर पर हैं।

इंडसइंड मीडिया एंड कम्‍यूनिकेशंस लिमिटेड (“IMCL”) की स्थापना 1995 में हिंदुजा समूह द्वारा की गई थी, जिसने टेलीविज़न ब्रॉडकास्टिंग इंडस्ट्री में आगे बढ़ने वाले विशाल अवसर और विकास को मान्यता दी थी। इस दूरदर्शी कदम के परिणामस्वरूप आईएमसीएल आज शीर्ष 5 सबसे बड़े मल्टी-सिस्टम ऑपरेटरों में से एक है।

आईएमसीएल देश की एकमात्र कंपनी है, जो पारंपरिक टेरिस्ट्रियल फाइबर रूट और भारत के एकमात्र हेड-इन-द-स्काई (हिट्स) उपग्रह प्लेटफॉर्म के जरिए टीवी सिग्नल वितरित करती है, क्रमशः ब्रांड नाम इनडिजिटल और एनएक्‍सडिजिटल के तहत इन प्लेटफार्मों के माध्यम से, आईएमसीएल 9,000 से अधिक केबल ऑपरेटरों के माध्यम से 1,500 से अधिक शहरों और कस्बों में देश भर में 5 मिलियन से अधिक ग्राहकों को पूरा करता है। वनओटीटी इंटरटेनमेंट लिमिटेड (“OIL”), आईएमसीएल की एक सहायक कंपनी भारत के 40 शहरों में हाई-स्पीड ब्रॉडबैंड और इंटरनेट सेवाएं प्रदान करती है; 1000Mbps तक की स्पीड दे रहा है। ओआईएल को भारत के सबसे तेजी से बढ़ते आईएसपी और नवाचार और उत्कृष्टता के लिए कई पुरस्कारों में से एक माना जाता है।

उद्योग में एक सच्चा गेम-चेंजर, हिट्स प्लेटफ़ॉर्म कंपनी को एमएसओ के लिए एक प्रबंधित सेवा प्रदाता के रूप में कार्य करने में सक्षम बनाता है जो उन्हें एक अभूतपूर्व विकल्प प्रदान करता है। अपनी अत्याधुनिक हिट्स सुविधा के साथ, यह एकमात्र कंपनी है जो देश के किसी भी कोने में डायरेक्ट-टू-ऑपरेटर सेवाएं प्रदान कर सकती है।टेलीविज़न सेवाओं के अलावा, यह सहायक वनोट इंटरसेक्शन लिमिटेड (OIL) की 40 शहरों में ब्रॉडबैंड और इंटरनेट सेवाओं में मजबूत उपस्थिति है। ब्रांड “वन ब्रॉडबैंड” के तहत यह सेवाएं भारत में कई शहरों में उच्च गति के इंटरनेट और सेवाओं को प्रदान करके उपभोक्ताओं को वीडियो, डेटा और वॉयस की परिवर्तित सेवाएं प्रदान करती हैं। वन ब्रॉडबैंड नोकिया के जीपीओएन तकनीक का लाभ उठाता है, जो 1000Mbps ब्रॉडबैंड और घरेलू उपयोगकर्ताओं को कनेक्शन प्रदान करता है। भारत को भारत के सबसे तेजी से बढ़ते आईएसपी और नवाचार और उत्कृष्टता के लिए कई पुरस्कारों में से एक माना जाता है।

हिंदुजा ग्रुप के विषय में:

हिंदुजा ग्रुप, भारत का प्रीमियर विविधीकृत और अंतर्राष्ट्रीय समूह है। 38 देशों में मौजूदगी और लगभग 150,000 कर्मचारियों वाले इस समूह के पास कई बिलियन डॉलर का राजस्व है। इस समूह की स्थापना सौ वर्षों से अधिक पहले श्री पी.डी. हिंदुजा द्वारा की गई थी, जिनका यह सिद्धांत और विश्वास था – ‘‘काम करना मेरा कर्तव्य है, ताकि मैं योगदान दे सकूं’’।

इस समूह के कारोबार ऑटोमोटिव, इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, मीडिया, मनोरंजन एवं कम्यूनिकेशंस, बैंकिंग व वित्तीय सेवाएं, ढांचागत परियोजना विकास, तेल एवं गैस, विद्युत, रियल इस्टेट, ट्रेडिंग और हेल्थकेयर क्षेत्रों में हैं। यह हिंदुजा फाउंडेशन के जरिए दुनिया भर में परोपकारपूर्ण कार्यों को भी समर्थन देता है।

आईडीबीआई बैंक ने जारी रखी निरंतर बहाली की अपनी रफ्तार

जयपुर 30 जनवरी 2021 – वित्तीय वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही में बैंक का नेट प्राॅफिट रहा 378 करोड़ रुपए, जबकि वित्तीय वर्ष 2020 की तीसरी तिमाही में 5,763 करोड़ रुपए का नेट लाॅस था।

            वित्तीय वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही में बैंक का प्राॅफिट बिफोर टैक्स (पीबीटी) 843 करोड़ रुपए रहा, सालाना आधार पर 12 प्रतिशत की बढ़ोतरी

            क्यू3 एफवाय 2021 के लिए परिचालन लाभ 1,639 करोड़ रुपए, 28 फीसदी की सालाना वृद्धि

            क्यू3 एफवाय 2021 के लिए एनआईआई 1,810 करोड़ रुपए, 18 प्रतिशत की सालाना वृद्धि

            क्यू3 एफवाय 2021 के लिए एनआईएम 2.87 प्रतिशत, सालाना 60 बीपीएस की बढ़ोतरी

            सीएएसए रेशियो 48.97 प्रतिशत पर, सालाना 131 बीपीएस की वृद्धि

            नेट एनपीए 1.94 प्रतिशत पर, 31 दिसंबर 2019 को यह 5.25 प्रतिशत था

            सीआरएआर 14.77 प्रतिशत पर, 31 दिसंबर 2019 को यह 12.56 प्रतिशत था

            पीसीआर 97.08 प्रतिशत पर, 31 दिसंबर 2019 को यह 92.41 प्रतिशत था

परिचालन संबंधी प्रदर्शन

ऽ              वित्तीय वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही के लिए शुद्ध लाभ 378 करोड़ रुपए, क्यू3 एफवाय 2020 में 5,763 करोड़ रुपए के नुकसान की तुलना में। क्यू3-2021 के लिए शुद्ध लाभ में 17 प्रतिशत का सुधार, क्यू2-2021 में यह राशि थी 324 करोड़ रुपए।

ऽ              क्यू3-2021 के लिए पीबीटी में 12 प्रतिशत सुधार, 843 करोड़ रुपए पर, क्यू3-2020 में 756 करोड़ रुपए की तुलना में। क्यू3-2021 के लिए पीबीटी में 27 प्रतिशत का सुधार, क्यू2-2021 में यह 665 करोड़ रुपए था।

ऽ              वित्तीय वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही के लिए परिचालन लाभ, 28 फीसदी सुधर कर 1,639 करोड़ रुपए हो गया, जो कि वित्तीय वर्ष 2020 की तीसरी तिमाही में 1,278 करोड़ रुपए था। क्यू2-2021में आॅपरेटिंग प्रोफिट 1246 करोड़ रुपए की तुलना में क्यू3-2021 के लिए 32 प्रतिशत सुधार

ऽ              शुद्ध ब्याज आय वित्तीय वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही के लिए 18 फीसदी सुधर कर 1,810 करोड़ रुपए हो गई जबकि वित्तीय वर्ष 2020 की तीसरी तिमाही के लिए यह 1,532 करोड़ रुपए थी। क्यू2-2021 की तुलना में 7 प्रतिशत का सुधार

ऽ              शुद्ध ब्याज मार्जिन वित्तीय वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही के लिए 60 बीपीएस सुधर कर 2.87 फीसदी हो गया, वित्तीय वर्ष 2020 की तीसरी तिमाही के 2.27 फीसदी की तुलना में, जबकि क्यू2-2021 में यह 2.70 प्रतिशत था

ऽ              काॅस्ट आॅफ डिपाॅजिट, वित्तीय वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही के लिए 84 बीपीएस सुधर कर 4.18 फीसदी हो गया, वित्तीय वर्ष 2020 की तीसरी तिमाही के लिए यह 5.02 फीसदी था और क्यू2-2021 में यह 4.41 प्रतिशत था

ऽ              काॅस्ट आॅफ फंड्स वित्तीय वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही के लिए 99 बीपीएस सुधर कर 4.39 प्रतिशत पर, क्यू3-2020 में यह 5.38 प्रतिशत और क्यू2-2021 में 4.73 प्रतिशत थी

कारोबार में वृद्धि

ऽ              31 दिसंबर 2020 के अनुसार सीएएसए बढ़कर 1,09,880 करोड़ रुपए की वृद्धि, 31 दिसंबर 2019 को यह 1,03,966 करोड़ रुपए और 30 सितंबर 2020 को 1,08,217 करोड़ रुपए था

ऽ              31 दिसंबर 2020 के अनुसार कुल डिपाॅजिट्स में सीएएसए का शेयर सुधरकर 48.97 फीसदी हुआ, जबकि 31 दिसंबर 2019 को यह 47.65 प्रतिशत और 30 सितंबर 2020 को यह 48.33 फीसदी था।

ऽ              एडवांस पोर्टफोलियो कॉर्पोरेट बनाम रिटेल की संरचना 31 दिसंबर 2020 को 40ः60 के अनुसार की गई, जबकि 31 दिसंबर 2019 तक यह 45ः55 थी।

एसेट क्वालिटी

ऽ              31 दिसंबर 2020 को सकल एनपीए का अनुपात 23.52 फीसदी था, जबकि 30 दिसंबर 2019 को 28.72 फीसदी और 30 सितंबर 2020 को 25.08 फीसदी था।

ऽ              नेट एनपीए अनुपात 31 दिसंबर, 2020 को सुधर कर 1.94 फीसदी हो गया, जबकि 31 दिसंबर 2019 को यह 5.25 फीसदी था और 30 सितंबर 2020 को यह 2.67 फीसदी था।

ऽ              प्रावधान कवरेज अनुपात (तकनीकी राइट-ऑफ सहित) 30 दिसंबर, 2020 को सुधर कर 97.08 फीसदी हो गया, 31 दिसंबर 2019 को यह 92.42 फीसदी था और 30 सितंबर, 2020 को यह 95.96 फीसदी था।

 

पूंजीगत स्थिति

ऽ              दिसंबर 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान, बैंक ने क्यूआईपी के माध्यम से इक्विटी केपिटल जुटाई और 10 रुपए प्रत्येक के फुली पेडअप 37,18,08,177 इक्विटी शेयर जारी किए। शेयर प्रीमियम 28.60 रुपए का, कुल 1435.18 करोड़ रुपए।

ऽ              टियर 1 पूंजी 31 दिसंबर, 2020 को सुधरकर 12.22 फीसदी थी, जबकि 31 दिसंबर, 2019 को यह 10.16 फीसदी थी। 30 सितंबर, 2020 को यह 11.06 प्रतिशत थी।

ऽ              31 दिसंबर, 2020 को सीआरएआर सुधरकर 14.77 प्रतिशत, जबकि 31 दिसंबर, 2019 को यह 12.56 फीसदी और 30 सितंबर, 2020 को 13.67 प्रतिशत थी।

ऽ              31 दिसंबर, 2020 को रिस्क वेटेड एसेट्स (आरडब्ल्यूए) 3.71 फीसदी घटकर 1,59,078 करोड़ की हो गई, जबकि 31 दिसंबर, 2019 को यह 1,65,213 करोड़ की थी। क्रेडिट रिस्क वेटेड एसेट्स 5 प्रतिशत घटकर 1,27,920 करोड़ रुपए पर, जबकि 31 दिसंबर 2019 को यह 1,34,510 करोड़ रुपए थी।

अन्य हाईलाइट्स

ऽ दिसंबर, 2020 में समाप्त तिमाही के दौरान, बैंक ने अपने संयुक्त उद्यम आईडीबीआई फेडरल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (अब एजिस फेडरल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड) की 48 प्रतिशत हिस्सेदारी में से 23 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच दी है। 31 दिसंबर, 2020 तक संयुक्त उद्यम में बिक्री के बाद की हिस्सेदारी 25 प्रतिशत है।

कोविड- 19 का प्रभाव

ऽ              आरबीआई के कोविड- 19 से संबंधित दिशा-निर्देशों के अनुसार, बैंक ने 31 दिसंबर, 2020 तक कोविड- 19 से संबंधित कुल प्रावधान 436 करोड़ रुपए के रखे। बैंक ने आरबीआई के दिशानिर्देशों मंे उल्लिखित न्यूनतम आवश्यक प्रावधानों से भी अधिक प्रावधान किए।

ऽ              बैंक ने तिमाही के दौरान 70 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है (30 सितंबर, 2020 तक 270 करोड़ रुपए का प्रावधान जारी रखा गया है), यह राशि रिजोल्यूशन फ्रेमवर्क के तहत मामलों के पुनर्गठन की आवश्यकता के प्रावधान के प्रति रखी गई है। 31 दिसंबर, 2020 तक संचयी प्रावधान 340 करोड़ रुपए है।

ऽ              माननीय सुप्रीम कोर्ट के 3 सितंबर, 2020 के अंतरिम आदेश में, गजेंद्र शर्मा बनाम यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और अन्य की पीआईएल मामले में, बैंक ने किसी भी उधारकर्ता के ऐसे खाते को एनपीए के रूप में वर्गीकृत नहीं किया है, जिसे 31 अगस्त, 2020 तक एनपीए के रूप में वर्गीकृत नहीं किया गया है।

ऽ              मामले के निपटान को लंबित करते हुए, बैंक ने, विवेकपूर्ण तरीके से, इन खातों के संबंध में, मानक संपत्तियों के लिए प्रावधान के तहत 284.69 करोड़ रुपए का अतिरिक्त संचयी प्रावधान बनाया और 31 दिसंबर, 2020 तक 84 करोड़ रुपए की सीमा तक अतिदेय ब्याज को उलट दिया।

ऽ              माननीय सुप्रीम कोर्ट के अंतिम आदेश के अनुसार खातों को मानक श्रेणी में बनाए रखते हुए प्रोफार्मा जीएनपीए, एनएनपीए और पीसीआर 31 दिसंबर को क्रमशः 24.33 फीसदी, 2.75 फीसदी और 95.90 फीसदी था।

ऽ              मुंबई, 28 जनवरी, 2021ः आईडीबीआई बैंक लिमिटेड (आईडीबीआई बैंक) के निदेशक मंडल ने आज मुंबई में बैठक की और 31 दिसंबर, 2020 को समाप्त तिमाही के वित्तीय परिणामों को मंजूरी दे दी।

Friday, January 29, 2021

नारायण सेवा संस्थान ने राम मंदिर के लिए भेंट किए 11 लाख रुपए

जयपुर 29 जनवरी 2021  – नारायण सेवा संस्थान ने उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए 11 लाख रुपए की सहायता राशि भेंटस्वरूप दी है। साथ में, नारायण सेवा संस्थान ने उत्तर प्रदेश के अयोध्या में दिव्यांग लोगों के लिए आश्रम बनाने का निर्णय किया है। इसका नाम नारायण दिव्यांग सहायता सेंटर होगा और इस आश्रम का निर्माण कार्य जल्द ही शुरू होगा।

नारायण सेवा संस्थान के अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल और निदेशक वंदना अग्रवाल ने 11 लाख रुपए की सहायता राशि का चेक राजस्थान विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता और प्रदेश के पूर्व गृहमंत्री श्री गुलाब चंद कटारिया को उदयपुर में सौंपा।

राजस्थान विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता और प्रदेश के पूर्व गृहमंत्री श्री गुलाब चंद कटारिया ने इस अवसर पर कहा, ‘‘हमें खुशी है कि नारायण सेवा संस्थान नेक काम के लिए आगे आया है और संस्थान ने रामजन्मभूमि मंदिर के लिए 11 लाख रुपए का योगदान किया। साथ ही, हमें इस बात की भी खुशी है कि यह नेक पहल नारायण दिव्यांग सहायता सेंटर के निर्माण के साथ भी जुड़ी है।’’

नारायण सेवा संस्थान के अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने कहा, ‘‘राम मंदिर के निर्माण में अपनी ओर से सहायता करना हम सभी के लिए खुशी का पल है। साथ ही हम यह आश्वस्त करना चाहते हैं कि अयोध्या में बनने वाला नारायण दिव्यांग सहायता सेंटर विभिन्न दिव्यांगों के कल्याण की दिशा में काम करेगा। इस केंद्र पर निशुल्क प्रोस्थेसिस और कौशल विकास केंद्र के साथ-साथ सुधारात्मक सर्जरी के लिए मरीजों को आवश्यक जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। हमने समाज के दिव्यांग वर्ग के लोगों को सशक्त बनाने और उन्हें स्थायी आजीविका उपलब्ध कराने का उद्देश्य सामने रखा है, ताकि वे समाज की मुख्यधारा में शामिल हो सकें।’’

नारायण सेवा संस्थान सामुदायिक जरूरतों के लिए काम कर रहा है और यह पहली बार नहीं है कि संस्थान ने एक नेक काम के लिए दान किया है। संगठन ने विभिन्न राज्यों में कोरोना महामारी के दौरान राशन किट उपलब्ध कराए हैं। संस्थान की ओर से प्रतिवर्ष दिव्यांगों के लिए सामूहिक विवाह समारोह आयोजित किए जाते हैं। संस्थान ने अब तक 4,21,250 सर्जरी की हैं और हाल ही दिसंबर महीने में संस्थान ने 35 वें सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन किया।

हिन्दी ई टूल्स पर तकनीकी कार्यशाला का आयोजन

जयपुर 29 जनवरी 2021 –  को राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार तथा पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड, नई दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में ऊर्जानिधि, पीएफ़सी मुख्यालय में कंठस्थ (मेमोरी आधारित अनुवाद सॉफ्टवेयर) तथा हिन्दी ई टूल्स पर एक तकनीकी कार्यशाला का आयोजन किया गया।

इस कार्यशाला का उदघाटन मुख्य अतिथि महोदय राजभाषा विभाग के सचिव (राजभाषा) डॉ. सुमीत जैरथ, आईएएस ने किया और इस अवसर पर संयुक्त सचिव (राजभाषा) डॉ. मीनाक्षी जौली, श्री बाबू लाल मीना, निदेशक (तकनीकी) तथा श्री राजेश श्रीवास्तव, उप निदेशक (राजभाषा एवं तकनीकी) श्री रविन्द्र सिंह ढिल्लों, सीएमडी, पीएफ़सी, श्री प्रवीण कुमार सिंह, निदेशक (वाणिज्यिक), श्रीमती प्रमिन्द्र चोपड़ा, निदेशक (वित्त) तथा श्री आर. मुराहरि, कार्यपालक निदेशक (राजभाषा) उपस्थित थे। इस कार्यशाला में श्री राजेश श्रीवास्तव ने कंठस्थ के महत्व पर तथा श्री केवल कृष्ण, वरिष्ठ परामर्शदाता, पीएफ़सी ने हिंदी ई – टूल्स पर महत्वपूर्ण व्याख्यान दिया। भारत सरकार के विभिन्न विभागों, उपक्रमों, बैंको तथा अर्धसैनिक बलों के लगभग 50 अधिकारियों ने इस तकनीकी कार्यशाला का लाभ उठाया।

आईआईएम उदयपुर के विद्यार्थियों ने एजिस्टिफाई इनोवेशन चैलेंज में हासिल किया दूसरा स्थान

उदयपुर, 29 जनवरी, 2021ः एजिस्टिफाई इनोवेशन चैलेंज- 2020 एडिशन टू में दूसरा स्थान हासिल करने पर आईआईएम उदयपुर ने 2020-22 के बैच की टीम डिजिट्रोन को बधाई दी है। अर्पित गुप्ता और अनुराग गुप्ता की इस टीम ने प्रतिस्पर्धा की रीयल-वल्र्ड प्राॅब्लम कैटेगरी और सब कैटेगरी डिजिटाइजेशन आॅफ साइट विजिट में हिस्सा लिया।

दुनियाभर में कॉर्पोरेट कंपनियां सप्लाई चेन और लाॅजिस्टिक्स इंडस्ट्री की प्रक्रिया को डिजिटल और सरल बनाने के लिए चुनौतियों का सामना कर रही हैं। इस प्रतियोगिता का उद्देश्य ऐसे प्रतिभावान नौजवानों, काम करने वाले पेशेवर लोगों और इच्छुक उद्यमियों को एक मंच प्रदान करना था, जो अपने अभिनव विचारों के साथ उद्योग में क्रांति ला सकते हैं।

प्रतियोगिता में सभी प्रतिभागियों की उच्च स्तर की प्रस्तुतियों ने अलग ही आकर्षण कायम किया। साथ ही लगभग 2000 लोगों ने इन प्रस्तुतियों का गवाह बनने के लिए अपना पंजीकरण कराया। लगभग 280 मान्यता प्राप्त इंजीनियरिंग और प्रबंधन कॉलेजों के प्रतिभाशाली विद्यार्थियों के साथ 460 टीमों ने इस स्पर्धा में भाग लिया।

इस उपलब्धि पर आईआईएम उदयपुर के डायरेक्टर प्रो. जनत शाह ने छात्रों को बधाई दी और आगे भी इसी तरह के अभिनव प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित किया।

छात्रों ने उद्योग के विशेषज्ञों और दिग्गजों की उपस्थिति में प्रदर्शन का अवसर दिए जाने पर आयोजकों का आभार व्यक्त किया।

एच जी इन्फ्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड ने विद्यासारथी के साथ की साझेदारी,काॅलेज विद्यार्थियों के लिए स्काॅलरशिप की शुरुआत

 जयपुर 29 जनवरी 2021 –  इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर की एक अग्रणी कंपनी एचजी इंफ्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड (एचजीआईईएल/एचजी इंफ्रा) ने एनएसडीएल ई-गवर्नेंस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के शिक्षा छात्रवृत्ति पोर्टल विद्यासारथी के साथ जुड़कर मेधावी विद्यार्थियों को स्कॉलरशिप प्रदान करने की पहल की है। डिप्लोमा, आईटीआई, बीई/बीटेक, नर्सिंग, मेडिकल, और अन्य स्नातक पाठ्यक्रमों में अध्ययन करने वाले प्रतिभावान छात्रों को इस छात्रवृत्ति से लाभान्वित किया जाएगा।

एचजी इंफ्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री हरेंद्र सिंह ने कहा, ‘‘हम इस बात को समझते हैं कि शिक्षा आज के दौर में बेहद जरूरी है, लेकिन बहुत सारे लोग ऐसे हैं, जिनके लिए शिक्षा हासिल करना एक मुश्किल काम है। हम विभिन्न समुदायों को एचजी इंफ्रा की सफलता में उनके योगदान के लिए कुछ सहयोग देना चाहते हैं। इस दिशा में हम एनएसडीएल ई-गवर्नेंस के साथ साझेदारी करने पर और विद्यासारथी पोर्टल पर हमारे छात्रवृत्ति कार्यक्रम को जारी करने पर खुशी का अनुभव कर रहे हैं। हमारा मानना है कि इससे छात्रों को उनकी शैक्षणिक जरूरतों को पूरा करने में मदद मिलेगी और इस तरह इन छात्रों को अपने सपनों को साकार करने में महत्वपूर्ण सहायता मिल सकेगी।’’

महामारी के बीच टियर-2 और टियर-3 शहरों के छात्रों के लिए अपनी पढ़ाई को जारी रखना मुश्किल होता जा रहा है, क्योंकि वे भारी-भरकम फीस को वहन करने की स्थिति में नहीं हैं। विद्यासारथी के साथ एचजी इंफ्रा का उद्देश्य इन छात्रों के लिए शिक्षा को और अधिक सुलभ बनाना है।

एचजी इन्फ्रा के सहयोगी के रूप में विद्यासारथी को स्कॉलरशिप से संबंधित समस्त जिम्मेदारियां सौंपी गई हैं, जिनमें शामिल हैं- एप्लीकेशन का वेलिडेशन, स्कॉलरशिप का चयन, छात्रवृत्ति का वितरण, इत्यादि।  शामिल हैं। नए छात्रवृत्ति कार्यक्रम में अब विभिन्न राज्यों के छात्रों को शामिल होने की अनुमति मिलेगी, जैसे राजस्थान, हरियाणा, आदि। इन राज्यों के विद्यार्थी अब निश्चिंत होकर अपनी पढ़ाई को आगे बढ़ा सकेंगे और इस तरह अपने सपनों को साकार करने की दिशा में एक कदम और आगे बढ़ जाएंगे।

विद्यासारथी एनएसडीएल ई-गवर्नेंस की एक टैक्नोलाजी आधारित पहल है, जो सुविधाओं से वंचित छात्रों को कॉर्पोरेट-वित्त पोषित छात्रवृत्ति के माध्यम से वित्तीय सहायता हासिल करने में सक्षम बनाती है। इसका उद्देश्य ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से देश में एजुकेशन फाइनेंस के क्षेत्र में व्याप्त अंतराल को दूर करना है। विद्यार्थी इस पोर्टल के माध्यम से योग्यता के आधार पर प्रदान की जाने वाली विभिन्न एजुकेशन फाइनेंस संबंधी योजनाओं को खोज सकते हैं और उनका लाभ उठा सकते हैं। वे फंड प्रदाताओं, उद्योगों और कॉर्पोरेट्स द्वारा उपलब्ध कराई जाने वाली छात्रवृत्ति योजनाओं की जानकारी हासिल कर सकते हैं।  विद्यासारथी वेब पोर्टल पर सूचीबद्ध छात्रवृत्ति योजनाओं के बारे में अधिक जानकारी के लिए छात्र विजिट कर सकते हैं- https://www.vidyasaarathi.co.in

अपनी स्थापना के बाद से ही विद्यासारथी को छात्र समुदाय की ओर से जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली है। विद्यासारथी पोर्टल पर अब तक 10 लाख से अधिक छात्रों ने पंजीकरण कराया है और 30 से अधिक कॉर्पोरेट्स ने अब तक सहयोग किया है। TATA Housing, ACC Trust, TransUnion CIBIL, Alkem Laboratories, Primavera Bosch, JSW Foundation, Claris Lifesciences जैसे कॉर्पोरेट जगत के जाने-माने नाम छात्र शिक्षा का समर्थन करने के लिए विद्यासारथी के साथ पहले से ही जुड़े हुए हैं।

एनएसडीएल ई-गवर्नेंस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के बारे में

एनएसडीएल ई-गवर्नेंस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एनएसडीएल ई-गव) को मूल रूप से 1996 में एक केंद्रीय प्रतिभूति डिपॉजिटरी के रूप में स्थापित किया गया था। यह वर्षों से अपनी निहित शक्तियों, परियोजना प्रबंधन क्षमताओं और प्रौद्योगिकी विशेषज्ञता का उपयोग करते हुए अपने अत्याधुनिक ई-गवर्नेंस सोल्यूशन्स प्रस्तुत करता आया है, ताकि सरकारें बाधाओं को पहचानने और उन्हें दूर करने, पारदर्शिता को बढ़ावा देने, सेवा वितरण लागत को कम करने और सार्वजनिक सेवाओं को कुशलतापूर्वक वितरित करने में कामयाब हो सकें। इनोवेशन मैनेजमेंट के लिए गोल्डन पीकॉक अवार्ड के प्राप्तकर्ता इस कंपनी को विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर अपने अभिनव उत्पादों और सेवाओं के लिए मान्यता दी गई है। एनएसडीएल ई-गवर्नेंस विविध प्रोजेक्ट्स को डिजाइन करने, उनका प्रबंधन और उन्हें कार्यान्वित करने के लिए विभिन्न सरकारी एजेंसियों के साथ मिलकर काम करता है। एनएसडीएल ई-गव ने देश भर में सर्विस सेंटर नेटवक्र्स भी स्थापित किए हैं, जो जनता के लिए एक्सेस पॉइंट्स के रूप में कार्य करते हैं और नागरिकों को अनुकूल और पारदर्शी तरीके से गुणवत्तापूर्ण सेवाएं प्रदान करने के लिए जिनका कुशलतापूर्वक उपयोग किया जाता है।

अधिक जानकारी के लिए विजिट करें- www.egov-nsdl.co.in

एचजी इंफ्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड के बारे में

एचजी इंफ्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड एक लिमिटेड कंपनी है जो बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक  एक्सचेंज में सूचीबद्ध है।

एचजी इंफ्रा भारत की अग्रणी रोड इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कंपनियों में से एक है, जो लगभग दो दशकों से एकीकृत डिजाइन, इंजीनियरिंग, खरीद और निर्माण सेवाएँ, सड़कों, पुलों, फ्लाईओवर और अन्य इन्फ्रास्ट्रक्चर अनुबंध कार्यों का रखरखाव करती है। कंपनी की देशभर में मौजूदगी है।

स्नैपडील पर हिंदी और तमिल सबसे ज़्यादा इस्तेमाल की जाने वाली भाषाएं

जयपुर 29 जनवरी 2021 – भारत के अग्रणी वैल्यू-फोकस्ड ई-काॅमर्स मार्केटप्लेस स्नैपडील ने आज बताया कि मौजूदा उपयोगकर्ताओं, खासतौर पर पहली बार खरीददारी करने वाले उपयोगकर्ताओं से मिली प्रतिक्रिया को देखते हुए यह अपने स्थानीय भाषा इंटरफेस को और अधिक बढ़ावा दे रहा है। पिछले चार महीनों में जुटाए गए आंकड़े दर्शाते हैं कि तकरीबन 35 फीसदी उपयोगकर्ता पहले से प्लेटफाॅर्म पर उपलब्ध स्थानीय भाषा विकल्पों का इस्तेमाल कर रहे हैं।

पिछले साल सितम्बर में लाॅन्च किया गया स्नैपडील ऐप और एम-साईट वर्तमान में कई स्थानीय भाषाओं जैसे हिंदी, तमिल, कन्नड, तेलुगु, गुजराती, पंजाबी और मराठी में उपलब्ध है। स्थानीय भाषा आधारित इंटरफेस की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए अब बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं तक इसका पैमाना बढ़ाया जा रहा है।
अंग्रेज़ी के बाद, हिंदी सबसे लोकप्रिय भाषा है, इसके बाद तमिल का सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है। गुजराती इंटरफेस का उपयोग भी तेज़ी से बढ़ रहा है। स्थानीय भाषा टेक को स्नैपडील द्वारा बड़े पैमाने पर इन-हाउस इंटरफेस के रूप में शामिल किया जा रहा है।
चेन्नई, कोयम्बटूर, मदुराई, सालेम, तिरूचिरापल्ली और वैल्लोर के खरीददार तो तमिल भाषा का इस्तेमाल करते ही हैं, वहीं कर्नाटक, केरल, दिल्ली, पुणे और मुंबई में भी प्लेटफाॅर्म पर ब्राउज़िंग के दौरान तमिल इंटरफेस का व्यापक उपयोग किया जाता है। हिंदी भाषा का सबसे ज़्यादा इस्तेमाल उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान, दिल्ली-एनसीआर और बिहार में किया जाता है।
प्लेटफाॅर्म पर स्थानीय भाषा इंटरफेस को शामिल करने से उपयोगकर्ताओं की सक्रियता बढ़ी है। औसतन, स्थानीय भाषा में ब्राउज़ करने वाले उपयोगकर्ता प्लेटफाॅर्म पर 20 फीसदी ज़्यादा समय बिताते हैं, और वे ज़्यादा समय तक प्लेटफाॅर्म पर प्रोडक्ट वीडियोज़, विभिन्न कंटेस्ट और गेमिंग विकल्पों का उपयोग करते हैं।
स्थानीय भाषा इंटरफेस की दिशा में किए गए प्रयासों से उत्साहित स्नैपडील वाॅइस-असिस्टेड शाॅपिंग पर भी प्रयोग कर रहा है, जिससे उपयोगकर्ता विभिन्न स्थानीय भाषाओं में सवाल पूछ सकेंगे। उन्हें विभिन्न भाषाओं में पहले से रिकाॅर्ड किए गए इंटेलीजेन्ट सलेक्शन द्वारा गाईड किया जाएगा जो उन्हें कई अन्य तरीकों से मदद करेगा जैसे कैसे सर्च करें, कैसे कार्ट में ऐड करें, इनपुट, भुगतान आदि पर वाॅइस प्राॅम्प्ट के ज़रिए सहायता प्रदान की जाएगी। यह फीचर वर्तमान में बीटा स्टेज में उपलब्ध है।

‘‘तकनीक की दिशा में किए गए हमारे ज़्यादातर प्रयास नए उपयोगर्ताओं को बेजोड़ अनुभव प्रदान करते हैं। अपनी खुद की भाषा में प्लेटफाॅर्म का इस्तेमाल करने से खरीददार के लिए खरीददारी आसान एवं मज़ेदार हो जाती है, खासतौर पर उन लोगों के लिए जो आॅनलाईन खरीददारी की शुरूआत कर रहे हैं।’’ स्नैपडील के प्रवक्ता ने बताया।’’

स्नैपडील के बारे मे
स्नैपडील भारत का सबसे बड़ा वैल्यू-फोकस्ड ई-काॅमर्स मार्केटप्लेस है। जिसके 500,000 से अधिक पंजीकृत विक्रेता हैं और इस प्लेटफाॅर्म पर और 220 मिलियन से अधिक लिस्टिंग्स हैं। स्नैपडील, खासतौर पर दूसरे और तीसरे स्तर के शहरों मंे भारत के ई-काॅमर्स सेक्टर के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। स्नैपडील बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं तक उचित कीमत के उत्पाद पहुंचाने के लिए ब्राण्डेड उत्पादों एवं शहरी उपभोक्ताओं के दायरे से बाहर जाकर ई-कामर्स के विस्तार के लिए प्रयासरत है।

वी के उपयोगकर्ता अब वूट सलेक्ट की कंटेंट लाइब्रेरी का लाभ उठा सकेंगे

 जयपुर 29 जनवरी 2021 –  देश भर में अपने उपभोक्ताओं को मनोरंजन का बेजोड़ अनुभव प्रदान करने के उद्देश्य से भारत के अग्रणी दूरसंचार सेवा प्रदाता वोडाफोन आइडिया लिमिटेड ने वायाकोम18 की प्रीमियम सब्सक्रिप्शन उन्मुख वीडियो आॅन डिमांड स्ट्रीमिंग सर्विस, वूट सलेक्ट के साथ सामरिक साझेदारी का ऐलान किया है। इसके तहत यह अपने डिजिटल प्लेटफाॅर्म-वी मुवीज़ एवं टीवी ऐप पर प्रीमियम कंटेंट उपलब्ध कराएगा। भारत में डिजिटल प्रणाली को बढ़ावा देने के उद्देश्य के साथ की गई इस साझेदारी के तहत वोडाफोन आइडिया के उपभोक्ता अब वूट सलेक्ट के उत्कृष्ट कंटेंट का लाभ उठा सकेंगे और अपने स्मार्टफोन पर व्युइंग का शानदान अनुभव पा सकेंगे।

डिजिटल प्लेटफाॅर्म-वी मुवीज़ एवं टीवी ऐप पर मौजूदा कंटेंट पेशकश को सशक्त बनाने के लिए यह साझेदारी उपभोक्ताओं को वूट सलेक्ट की ओर से एक्सक्लुज़िव कंटेंट का एक्सेस देगी, जिसमें बेहद सफल ओरिजिनत मिनी सीरीज़ द गोन गेम, हाई आॅक्टेन एस्पियोनेज सीरीज़ क्रैकडाउन और अन्य बहु-प्रशंसित सीरीज़ जैसे असुर, इललिगल और द रैकर केस आदि शामिल हैं। वी के उपभोक्ता अब कलर्स और एमटीवी के प्रीमियम हिंदी शोज़ जैसे बिग बाॅस सीज़न 14, रोडीज़ सीज़न 18 और स्प्लिट्सविला एवं खतरों के खिलाड़ी का लुत्फ़ उठा सकते हैं।
वी के उपभोक्ता कई अन्य एंटरटेनमेन्ट शोज़ जैसे शार्क टैंक, टाॅप गियर, द आॅफिस, टिन स्टार, नैनसी ड्रू, पिंक काॅलर क्राइम आदि का आनंद भी ले सकेंगे। निरंतर कंटेंट एडीशन के साथ उनपभोक्ता कंटेंट की रोचक लाइब्रेरी का लुत्फ़ उठा सकते हैं और 24/7 मनोंरजन का आनंद ले सकते हैं। वूट सलेक्ट, अपने शानदार कंटेंट के साथ भारत के दर्शकों को विविध अनुीाव प्रदान करता है।

इसके अलावा उपभोक्ता डेली सोप जैसे नागिन 5, नमक इश्क का, शक्ति, बैरिस्टर बाबू, राजा रानी ची गा जोड़ी, छोटी सरदारनी, जीव ज़ाला येदा पीसा और कन्नडार्थी का आनंद भी ले सकते हैं।

इस साझेदारी के बारे में बात करते हुए अवनीश खोसला, चीफ़ मार्केटिंग आॅफिसर, वी ने कहा, ‘‘वूट सलेक्ट के साथ साझेदारी करते हुए हमें बेहद खुशी का अनुभव हो रहा है, इसके माध्यम से हम अपने उपभोक्ताओं को अनूठे कंटेंट का बेजोड़ अनुभव प्रदान करेंगे। पिछले कुछ महीनों में डिजिटल कंटेंट की मांग तेज़ी से बढ़ी है, उपभोक्ता ओटीटी प्लेटफाॅम्र्स पर कंटेंट और मनोरंजन का लुत्फ़ उठाना चाहते हैं। वी एक ऐसा ब्राण्ड है जो बदलते दौर के साथ उपभोक्ताओं की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध रहा है। वूट सलेक्ट के साथ यह साझेदारी उपभोक्ताओं को आधुनिक एवं सर्वश्रेष्ठ सेवाएं उपलब्ध कराने की हमारी प्रतिबद्धता की पुष्टि करती है। वूट सलेक्ट लाइब्रेरी वर्तमान में एक्सक्लुज़िव रूप से वी पर उपलब्ध है और हमें खुशी है कि हम अपने उपभेाक्तओं के लिए कंटेंट की व्यापक रेंज लेकर आए हैं।’’

इस साझेदारी पर बात करते हुए फरज़ाद पालिया, हैड, वूट सलेक्ट, यूथ, म्युज़िक एण्ड इंग्लिश एंटरटेनमेन्ट, वायाकोम 18 ने कहा, ‘‘वूट सलेक्ट भारत की सबसे तेज़ी से विकसित होती प्रीमियम वीडियो स्ट्रीमिंग सर्विस के रूप में उभरा है। सबसे शक्तिशाली और विविध कंटेंट पेशकश के साथ हमें खुशी है कि अब हम वी मुवीज़ और टीवी प्लेटफाॅर्म पर वी के उपभोक्ताओं के लिए अपनी सेवाओं का विस्तार करने जा रहे हैं। हमारी ‘मेड फाॅर स्टोरीज़’ पेशकश निश्चित रूप से देश के दर्शकों को संतोषजनक सेवाएं प्रदान करेगी।’’

श्री अमित अरोड़ा, प्रेज़ीडेन्ट- भारत और दक्षिण एशिया, इंडिया कास्ट मीडिया डिस्ट्रीब्यूशन प्राइवेट लिमिटेड ने कहा, ‘‘हमें यह घोषणा करते हुए बेहद खुशी का अनुभव हो रहा है कि अब हमारे चैनल वोडाफोन आइडिया पर उपलब्ध हैं। देश भर के दर्शकों को उत्कृष्ट कंटेंट उपलब्ध कराने के लिए यह साझेदारी करते हुए हमें बेहद गर्व हो रहा है। हम विविध चैनलों के माध्यम से सभी पीढ़ियों के मनोरंजन के लिए प्रतिबद्ध हैं। इतने अग्रणी दूरंसचार सेवा प्रदाता के साथ जुड़ना, दर्शकों के हममें भरोसे को दर्शाता है। आने वाले समय में भी वोडाफोन आइडिया के साथ मिलकर उपभोक्ताओं को अपनी सेवाएं प्रदान करते रहेंगे।’’

कल्याण ज्वैलर्स का वैलेंटाइन डे स्पेशल ज्वैलरी एडिशन

जयपुर 29 जनवरी 2021 – वैलेंटाइन डे बस आने को है। इसी के साथ हर साल की तरह प्यार का मौसम लौट रहा है; हम शर्त लगा कर कह सकते हैं कि आप अपने प्रिय के लिए प्यार और स्नेह जताने को कोई उपहार तलाशने की जुगत में लगे हुए हैं। अगर आपको बेहतरीन उपहार तलाशने में कोई उलझन हो रही है तो हम आपको बताते हैं कि सबसे बेहतर विकल्प क्या हो सकता है; जाहिर है – आभूषण!

आभूषण को प्यार का बेहतरीन प्रतीक माना जाता है। प्यार से प्रेरित आभूषण न केवल आपकी बैटर-हाॅफ को अच्छा महसूस कराते हैं बल्कि यह उनके लुक को भी निखारते हैं। साथ ही वे और भी स्टाइलिश नजर आती हैं। इसके अलावा, एक आभूषण एक विचारशील उपहार भी है।

कल्याण ज्वैलर्स में हम आपके लिए कुछ सबसे पॉकेट फ्रेंडली और किफायती ज्वैलरी पेश करते हैं। जो गिफ्टिंग ट्रेंड्स को बहुत अच्छी तरह आगे बढ़ाती है। यह इस वेलेंटाइन डे को आपके और आपके पार्टनर के लिए खास बना देगा। प्यार के मौसम का जश्न मनाने के लिए, कल्याण ज्वैलर्स ने कुछ कालातीत और क्लासिक आभूषण के पीस का एक सीमित संस्करण संग्रह पेश किया। विशेष संस्करण में बढ़िया और उत्तम आभूषणों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है, जिसमें सोने और हीरे जड़ित पैंडेट के साथ-साथ बैंगल भी शामिल हैं। नवीनतम फैशन रुझानों को ध्यान में रखते हुए, संग्रह में विभिन्न प्रकार के आभूषण डिजाइन और विकल्प शामिल हैं।

प्यार के मौसम को और अधिक आनंदमय बनाने के लिए, कल्याण ज्वैलर्स ने हीरे के आभूषण के पीस पर फ्लैट 10 फीसदी छूट देने की घोषणा की है। कस्टमर्स 14 फरवरी, 2021 तक कल्याण ज्वैलर्स के शोरूम में विशेष छूट और ऑफर का लाभ उठा सकते हैं।

वेलेंटाइन डे के अवसर पर अपने प्रियजनों को उपहार देने के लिए बारीकी से तैयार किए गए आभूषणों पर डालें एक नजर

सच्चे प्यार के लिए सही वैलेंटाइन। कबूतरों का जोड़ा, एकरसता तोड़ते हुए जीवन के लिए सच्चे साथी का प्रतीक है। वे दुनिया के बीच प्रेम, पारगमन और संचार का भी प्रतीक हैं। निश्चित तौर पर यह साधारण हार असाधारण असर छोड़ेगा।

क्या आपकी पाटर्नर को प्रकृति से प्यार है? यह खूबसूरती से तैयार की गई प्रकृति से प्रेरित लव बर्ड्स पैंडेट आपकी बैटर-हाॅफ लिए एक आदर्श उपहार है। हीरे के साथ गोल लटकन, पत्तियों पर बैठे प्रेम पक्षियों के 3 डी प्रभाव के साथ, यह एक आदर्श रोमांटिक रूप देता है।

इसके अलावा दिल से प्रेरित लटकन एक अद्भुत विकल्प हो सकता है, खासकर यदि आप जिस महिला से प्यार करते हैं, उन्हें पेंडेंट से खास लगाव हो। डायमंड से सजे इस अद्भुत दिल के आकार के लॉकेट को उपहार में दें। इसे रोजमर्रा के जीवन में भी पहन सकते हैं और इसे नैकलेस के साथ भी जोड़ सकते हैं।

आज प्रपोज कर रहे हैं! आइए, उन्हें एक ऐसा ही उपहार दें जो उनकी तरह ही दमकने वाला हो!

पेश है कल्याण ज्वैलर्स की वेलेंटाइन डे विशेष ज्वेलरी से डायमंड के साथ विशेष लव पेंडेट। यह इस वेलेंटाइन के लिए आपके प्यार की एक आदर्श अभिव्यक्ति है।

आपकी प्रेमिका रोमांटिक टाइप की है, तो उन्हें दिल की थीम वाला आभूषण पसंद आएगा।

यह बेजोड़ दिल-में-दिल वाली डिजाइन इस पीस़ का एक प्रमुख आकर्षण है। इस नाजुक दिल के आकार वाले बैंगल को ले, जिस पर डायमंड जड़े हुए हैं और एक डायमंड सेंटर में लगा हुआ है। निश्चित रूप से यह कभी भी फैशन से बाहर नहीं होगा।

अगर आप बहुत सिंपल और सोबर उपहार की तलाश कर रहे हैं तो कल्याण ज्वैलर्स के विशेष वेलेंटाइन डे एडिशन से यह पतला कंगन चुने; यह एक यादगार वेलेंटाइन डे उपहार के लिए आदर्श विकल्प है।

तो चुन लीजिए, अपनी प्रेमिका या पत्नी के लिए आपके प्यार का बिलकुल सही प्रतीक।

यूपीएल लिमिटेड के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक, श्री रजनीकांत डी. श्रॉफ पद्म भूषण से विभूषित किये गये

जयपुर 29 जनवरी 2021  – भारत के 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व-संध्‍या परयूपीएल लिमिटेड – जो टिकाऊ कृषि समाधानों व उत्‍पादों का वैश्विक प्रदाता है – के संस्‍थापकश्री रजनीकांत देवीदासभाई श्रॉफ को भारत के सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मानों में से एकपद्म भूषण से सम्‍मानित किया गया। व्‍यापार और उद्योग के क्षेत्र में उनके योगदान हेतु उन्‍हें यह प्रतिष्ठित सम्‍मान दिया गया।

इस वर्षभारत के राष्‍ट्रपति ने 119 पद्म पुरस्‍कारों की संस्‍तुति की है और श्री श्रॉफ पद्म भूषण से सम्‍मानित किये जाने वाले एकमात्र उद्योगपति हैं।

वैज्ञानिक से उद्यमी बने और समान रूप से ऑपर्च्‍यूनिटी क्रूसेडरश्री श्रॉफसीएमडीयूपीएल लिमिटेड ने कहा, ”मैं सदैव से हृदय से एक दृढ़ राष्ट्रवादी रहा हूं और यह मेरा सौभाग्‍य है कि मुझे इस महान राष्‍ट्र के विकासऔर इसके मुख्‍य आधारअर्थात् कृषि क्षेत्र में अपना योगदान देने का अवसर मिला। इस प्रतिष्ठित पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया जाना मेरे और यूपीएल लिमिटेड ग्रुप के लिए बेहद गर्व और खुशी की बात है।

उन्‍होंने आगे कहा, ”मैंने 50 वर्षों से भी अधिक समय पहले इस इंडस्‍ट्री में काम करना शुरू किया, और यह सचमुच मेरे लिए असाधारण अनुभव रहा है। इन वर्षों में कंपनी ने जो हासिल किया हैउस पर मुझे बेहद गर्व है और कंपनी को प्राप्‍त होने वाली हर उपलब्धि यूपीएल लिमिटेड के 14000 कर्मचारियों का सम्‍मान है। मैं इस अवसर पर भारत सरकार को धन्‍यवाद देना चाहूंगा जिन्होंने इस महान पुरस्‍कार से मुझे सम्‍मानित कियाऔर मैं अपने पुरस्‍कृत साथियों को भी बधाई देना चाहूंगा और हमारे देश के लिए उनके द्वारा अलग-अलग क्षेत्रों में दिये गये योगदान के लिए उन्‍हें धन्‍यवाद देना चाहूंगा।”

50 वर्षों से भी अधिक समय के प्रोफेशनल कॅरियर वाले, श्री श्रॉफ को कृषि प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए कई अन्‍य पुरस्‍कार व सम्‍मान प्राप्‍त हो चुके हैं। अपने पेशे और अपने नेक कार्यों के प्रति उनका समर्पण अटल है और उन्‍हें प्राप्‍त अनेक पुरस्‍कार व सम्‍मान उनकी क्षमताओं व योग्‍यताओं के चंद प्रमाण हैं। उनकी निगरानी में, यूपीएल लिमिटेड – जिसे वर्ष 1969 में वापी (गुजरात) में मात्र 4 लाख रु. के सीड कैपिटल के साथ रेफ फॉस्‍फोरस के निर्माण हेतु जटिल रासायनिक प्रक्रियाओं वाले छोटे पैमाने की रासायनिक इकाई के रूप में शुरू किया गया – भारत की इकलौती ऐसी बहुर्राष्‍ट्रीय एवं बहुसांस्‍कृतिक कृषि-रसायन कंपनी बन चुकी है जिसका टर्नओवर 5 बिलियन अमेरिकी डॉलर है और दुनिया भर में इसके कर्मचारियों की संख्‍या 14000 है।

श्री श्रॉफ एक बड़े उद्देश्य को लेकर चल रहे हैं, अर्थात् वो भारत में कृषि क्षेत्र के औद्योगीकरण का विस्‍तार करने, भारतीय किसान के लिए किफायती दरों पर मानक गुणवत्‍ता वाले उत्‍पाद तैयार करके देश के लिए फॉरेन एक्‍सचेंज को बचाने के उद्देश्‍य से कार्य कर रहे हैं। उनका मानना है कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी का उद्देश्‍य तभी हासिल हो सकता है, जब उत्‍पाद छोटे किसानों की बजट में हो।

श्री श्रॉफ समाज के लिए योगदान देने के प्रबल समर्थक रहे हैं और वो मानव कल्‍याण हेतु कई न्‍यासों एवं संगठनों का संचालन करते हैं। श्री श्रॉफ के नेतृत्‍व में, यूपीएल लिमिटेड ने समाज हित में कई कदम उठाये हैं, जैसे उच्‍चानुशीलन संस्‍थानों (इंस्‍टीट्यूशंस ऑफ एक्‍सेलेंस) की स्‍थापना, निकटवर्ती किसानों के लिए टिकाऊ आजीविका प्रोग्राम्‍स का आयोजन और अपनी प्रक्रियाओं में प्रकृति संरक्षण पद्धतियों को अपनाना।

यह इस शख्सियत के लिए यथेष्‍ट सम्‍मान है जिनका इंडस्‍ट्री में ऐसा असाधारण रिकॉर्ड है, और जिन्‍होंने अपने राष्‍ट्र के प्रति काफी योगदान दिया है और इन सभी के साथ, जिन्‍होंने अपने कॉर्पोरेशन के सभी हिस्‍सेधारकों के लिए मूल्‍य का सृजन किया है।

यूपीएल लिमिटेड के विषय में

यूपीएल लिमिटेड (NSE: UPL & BSE: 512070) टिकाऊ कृषि उत्पादों और समाधानों का एक वैश्विक प्रदाता हैजिसका वार्षिक राजस्व 5 बिलियन से अधिक है। हम एक उद्देश्य के नेतृत्व वाली कंपनी है। ओपनएजी के माध्यम सेयूपीएल संपूर्ण कृषि मूल्य श्रृंखला के लिए प्रगति को सुविधाजनक बनाने पर केंद्रित है। हम एक ऐसे नेटवर्क का निर्माण कर रहे हैं जो एक पूरे उद्योग के सोचने और काम करने के तरीके को नए सिरे से परिभाषित करता है – हर एक खाद्य उत्पाद को अधिक टिकाऊ बनाने के लिए अपने मिशन की दिशा में नए विचारोंनए तरीकों और नए उत्तरों के साथ। दुनिया भर में सबसे बड़ी कृषि समाधान कंपनियों में से एक के रूप मेंहमारे मजबूत पोर्टफोलियो में 13,600 से अधिक पंजीकरण के साथ जैविक और पारंपरिक फसल संरक्षण समाधान शामिल हैं। हम 130 से अधिक देशों में मौजूद हैंविश्व स्तर पर 10,000 से अधिक सहयोगियों द्वारा प्रतिनिधित्व किया गया है। बीजोंपोस्ट-फ़सलसाथ ही भौतिक और डिजिटल सेवाओं सहित खाद्य मूल्य श्रृंखला में समाधानों के हमारे एकीकृत पोर्टफोलियो के बारे में अधिक जानकारी के लिएकृपया upl-ltd.com पर जाएं।

स्वामीनाथन जे और अश्विनी कुमार तिवारी ने एसबीआई के एमडी के रूप में कार्यभार संभाला

जयपुर 29 जनवरी 2021  – स्वामीनाथन जे और अश्विनी कुमार तिवारी ने देश के सबसे बड़े ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के प्रबंध निदेशक के रूप में कार्यभार संभाल लिया है। वे 3 साल तक इस पद पर रहेंगे।

एसबीआई के एमडी के रूप में अपनी नियुक्ति से पहले श्री स्वामीनाथन बैंक में डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर (फाइनेंस) थे, जहां वे बजट, पूंजीगत योजना, वित्तीय रिपोर्टिंग, कराधान, लेखा परीक्षा, आर्थिक अनुसंधान, निवेशकों से संबंध और सेक्रटेरियल कम्प्लायंस जैसे दायित्वों को संभाल रहे थे। भारतीय स्टेट बैंक के साथ अपने तीन दशक से अधिक लंबे करियर में श्री स्वामीनाथन कॉर्पोरेट और अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग, व्यापार वित्त, खुदरा और डिजिटल बैंकिंग, और शाखा प्रबंधन में विभिन्न कार्य कर चुके हैं। उन्होंने बैंक के मुख्य डिजिटल अधिकारी के रूप में भी काम किया है और इस भूमिका में उन्होंने डिजिटल और लेन-देन बैंकिंग के प्रमुख का दायित्व भी संभाला है। योनो एसबीआई के साथ श्री स्वामीनाथन ने बैंक में महत्वपूर्ण डिजिटल परिवर्तन को संभव बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इससे पहले, श्री स्वामीनाथन ने हैदराबाद सर्कल के सीजीएम के रूप में कार्य किया और एसबीआई के न्यूयॉर्क कार्यालय में भी काम किया। वह एक सर्टिफाइड एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग स्पेशलिस्ट (सीएएमएस) हैं और साथ ही सर्टिफाइड डॉक्यूमेंट्री क्रेडिट क्रेडिट स्पेशलिस्ट (सीडीसीएस) हंै।

श्री अश्विनी कुमार तिवारी एसबीआई के एमडी के रूप में नियुक्त होने से पहले एमडी और सीईओ के रूप में एसबीआई कार्ड में सेवाएं दे रहे थे। इस भूमिका में वे एसबीआई के कार्ड व्यवसाय के सभी पहलुओं को प्रबंधित करते रहे हैं। श्री तिवारी ने 1991 में एक प्रोबेशनरी आॅफिसर के रूप में एसबीआई के साथ अपना करियर शुरू किया। आज उन्हें एसबीआई में तीन दशकों से अधिक का गहरा और समृद्ध अनुभव है। वे भारत और विदेशों में विभिन्न स्थानों पर बैंक के लिए कई असाइनमेंट संभालते हैं।  कार्ड का व्यवसाय संभालने से पहले, श्री तिवारी तीन साल से अधिक समय तक एसबीआई के यूएस ऑपरेशंस के कंट्री हेड थे, जिसमें न्यूयॉर्क, शिकागो, लॉस एंजिल्स, वाशिंगटन डीसी और साओ पाउलो (ब्राजील) में इसके कार्यालय शामिल थे। उन्होंने हांगकांग से भी काम किया है जहां उन्होंने हांगकांग, चीन, जापान, कोरिया और पड़ोसी क्षेत्र में एसबीआई के व्यवसाय विकास और नियंत्रण का निरीक्षण किया है। श्री तिवारी एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर और भारतीय बैंकर संस्थान (सीएआईआईबी) के सर्टिफाइड एसोसिएट हैं। वह एक सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानर (सीएफपी) भी हैं और उन्होंने एक्सएलआरआई से मैनेजमेंट में सर्टिफिकेट कोर्स किया है।

अपनी हाइब्रिड स्कूल प्रणाली के साथ जयपुर के स्कूलों को 2021 में 100 फीसदी पूर्ण स्कूली शिक्षा देने के लिए सशक्त बनाने को तैयार है लीड स्कूल

जयपुर, 29 जनवरी, 2021ः वर्तमान महामारी के दौर में स्कूली शिक्षा की दुनिया मंे आए व्यवधानों ने विद्यार्थियों और शिक्षकों की जिंदगी को बहुत प्रभावित किया है। छात्रों और शिक्षकों के बीच आमने-सामने का संवाद पूरी तरह थम गया और लंच ब्रेक में स्कूलों में नजर आने वाली गहमा-गहमी और चंचल बच्चों की किलकारियों की गूंज भी शांत हो गई। ऐसे माहौल में ही ज्यादातर स्कूलों ने आॅनलाइन क्लास के जरिये स्कूली पाठ्यक्रम को पूरा करने का प्रयास किया। और अब जबकि राजस्थान सरकार के निर्देशों के बाद स्कूलों में सामान्य गतिविधियां फिर से शुरू होने लगी हैं, ऐसे में यह उम्मीद की जा सकती है कि विद्यार्थियों के लिए एक बार फिर से लर्निंग प्रक्रिया पहले की तरह ही शुरू हो जाएगी। इन्हीं स्थितियों के बीच छात्रों को लर्निंग के ‘न्यू नाॅर्मल’ के लिए तैयार करने के उद्देश्य से, मुंबई स्थित एडटेक कंपनी लीड स्कूली छात्रों को 2021 में 100 फीसदी पूर्ण स्कूली शिक्षा देने के लिए अपने हाइब्रिड स्कूल प्रणाली के साथ शहर के स्कूलों को सशक्त बनाने मदद कर रही है।

भारत का पहला और एकमात्र अनूठा समाधान- हाइब्रिड स्कूल सिस्टम स्कूलों को छात्र के प्रदर्शन की निगरानी करने की अनुमति देता है, स्कूल मोड (ऑफलाइन व ऑनलाइन, दोनों) के बीच स्विच करने का विकल्प देता है, स्कूलों को उन दिनों को तय करने देता है जिन पर छात्र ऑनलाइन कक्षा या फिजिकल स्कूल में भाग लेंगे, नए विषय जोड़ने से लेकर प्रति कक्षा में शिक्षकों को आवंटित करने तक, यह सभी में मददगार है। सभी 1500 से अधिक लीड पार्टनर स्कूलों ने हाइब्रिड स्कूल सिस्टम को अपनाया है और अपनी विश्व स्तरीय शिक्षण शिक्षाओं का उपयोग करते हुए, घर और स्कूल दोनों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान कर रहे हैं।
यह सुनिश्चित करने के लिए कि छात्र नए शैक्षणिक वर्ष में आत्मविश्वास के साथ कक्षा में जाएं, लीड स्कूल ने कक्षा 2 से 10 के लिए ब्रिज कोर्स प्रदान किया है। यह आगामी वर्ष में सीखने के परिणामों को प्राप्त करने के लिए आवश्यक कौशल और बुनियादी बातों से छात्रों को लैस करने के लिए है।
लीड स्कूल शिक्षकों को एक टीचर टैबलेट से भी लैस करेगा जो पाठ योजनाओं, ऑडियो-विजुअल संसाधनों और प्रशिक्षण संसाधनों के लिए वन-स्टॉप समाधान है। अब तक, लीड स्कूल ने अपने शिक्षक विकास कार्यशाला के तहत सैकड़ों शिक्षकों को सशक्त बनाया है, उन्हें 2021 में सीखने के नए तरीके के लिए तैयार किया है।
भारत में हर बच्चे के लिए उत्कृष्ट शिक्षण सुलभ और किफायती बनाने की अपनी प्रतिबद्धता के साथ, इसने कक्षा 1-8 के लिए एक शीर्ष कोडिंग और कम्प्यूटेशनल थिंकिंग स्किल्स (सीसीएस) कार्यक्रम भी पेश किया है। यह स्कूली बच्चों को आज की डिजिटल दुनिया में तकनीकी तौर से आगे रहने के लिए सक्षम बनाता है। कार्यक्रम के दौरान, छात्र उन परियोजनाओं पर काम करते हैं जो उन्हें वेबसाइटों का निर्माण करने और विभिन्न प्रकार के सॉफ्टवेयर अनुप्रयोगों को पब्लिश करने में मदद करते हैं। वे सॉफ्टवेयर जैसे कि ऐप, गेम और अन्य मल्टीमीडिया सामग्री में प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं जो उन्हें कल के तकनीकी विकास के लिए तैयार करेंगे।
यह स्कूलों और शिक्षकों को देश के सर्वश्रेष्ठ निजी स्कूलों के स्तर पर बदलने के लिए वन-स्टॉप पार्टनर है, जिससे भारत में किंडरगार्टन से लेकर कक्षा 12 के छात्रों के पढ़ाई का तरीका भी बदलता है।
लीड स्कूल की आॅफरिंग्स और इसके कस्टमाइज्ड लर्निंग पाठ्यक्रमों के बारे में और अधिक जानकारी के लिए ंकउपेेपवदे/समंकेबीववसण्पद पर रजिस्टर करें।
लीड स्कूल के बारे में
लीड स्कूल को भारत में सबसे तेजी से बढ़ती एडटेक कंपनियों में से एक लीडरशिप बोलवर्ड द्वारा प्रमोट किया गया है। यह शिक्षण और सीखने की एक एकीकृत प्रणाली में प्रौद्योगिकी, पाठ्यक्रम और शिक्षाशास्त्र को जोड़ता है, इस प्रकार देश भर के स्कूलों में छात्रों के सीखने और शिक्षकों की परफाॅर्मेंस में सुधार करता है। लीड स्कूल ने 1500 से अधिक स्कूलों के साथ भागीदारी की है। ये स्कूल देश के 20 राज्यों मंे टियर 2 से लेकर टियर 4 शहरों सहित 400 से अधिक शहरों में हैं जिनमें अनुमानित 6 लाख से अधिक छात्र शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं।

हिन्दी ई टूल्स पर तकनीकी कार्यशाला का आयोजन

जयपुर 29 जनवरी 2021 –  को राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार तथा पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड, नई दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में ऊर्जानिधि, पीएफ़सी मुख्यालय में कंठस्थ (मेमोरी आधारित अनुवाद सॉफ्टवेयर) तथा हिन्दी ई टूल्स पर एक तकनीकी कार्यशाला का आयोजन किया गया।

इस कार्यशाला का उदघाटन मुख्य अतिथि महोदय राजभाषा विभाग के सचिव (राजभाषा) डॉ. सुमीत जैरथ, आईएएस ने किया और इस अवसर पर संयुक्त सचिव (राजभाषा) डॉ. मीनाक्षी जौली, श्री बाबू लाल मीना, निदेशक (तकनीकी) तथा श्री राजेश श्रीवास्तव, उप निदेशक (राजभाषा एवं तकनीकी) श्री रविन्द्र सिंह ढिल्लों, सीएमडी, पीएफ़सी, श्री प्रवीण कुमार सिंह, निदेशक (वाणिज्यिक), श्रीमती प्रमिन्द्र चोपड़ा, निदेशक (वित्त) तथा श्री आर. मुराहरि, कार्यपालक निदेशक (राजभाषा) उपस्थित थे। इस कार्यशाला में श्री राजेश श्रीवास्तव ने कंठस्थ के महत्व पर तथा श्री केवल कृष्ण, वरिष्ठ परामर्शदाता, पीएफ़सी ने हिंदी ई – टूल्स पर महत्वपूर्ण व्याख्यान दिया। भारत सरकार के विभिन्न विभागों, उपक्रमों, बैंको तथा अर्धसैनिक बलों के लगभग 50 अधिकारियों ने इस तकनीकी कार्यशाला का लाभ उठाया।

Thursday, January 28, 2021

पीएफसी को श्रेष्ठ सीएसआर अभियान और कोविड-19 से संबंधित राहत कार्यों के लिए

जयपुर 28 जनवरी 2021 –  पावर सेक्टर में अग्रणी एनबीएफसी पावर फाइनेंस कारपोरेशन लिमिटेड (पीएफसी) को उसके कॉर्पोरेट सोशल रेस्पोंसिबिलिटी के तहत किये गए सामाजिक सरोकार के कार्यों और कोविड-19 महामारी के दौरान किये गए अनुकरणीय राहत कार्यों के लिए हरियाणा सरकार ने प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया है। राजीव चैक, गुरुग्राम के निकट स्थित ताऊ देवी लाल स्टेडियम में हुए गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम में हरियाणा के माननीय शिक्षा मंत्री श्री कँवर लाल ने पीएफसी को ‘सर्टिफिकेट ऑफ एप्रिसिऐशन’ से सम्मानित किया।

श्री पी.के. सिंह, डायरेक्टर (काॅमर्शियल) ने कंपनी की ओर से सर्टिफिकेट ऑफ एप्रिसिऐशन स्वीकार किया।

पीएफसी अपने सीएसआर अभियान के जरिये हरियाणा के कई वर्गों और समुदायों के उत्थान के लिए निरंतर प्रयास करता आ रहा है, जिसमें बेरोजगार युवाओं के सशक्तिकरण के लिए चलाये गए रोजगार उन्मुख स्किल ट्रेनिंग प्रोग्राम भी शामिल है। इसके अलावा, पीएफसी ने रोटरी अम्बाला कैंसर एंड जनरल हॉस्पिटल (आरएसीजीएच) में फुली इक्विप्ड मोड्यूलर ऑपरेशन  थिएटर स्थापित करने के लिए प्रोजेक्ट मंजूर किया है। साथ ही आर्मी वाइव्स वेलफेयर एसोसिएशन (एडब्ल्यूडब्ल्यूए) के सहयोग से संचालित और अम्बाला, हिसार और पंचकूला में स्थित 3 आशा स्कूलों को 5 केवी क्षमता वाले एसपीवी पावर प्लांट्स को स्थापित करने के लिए एक योजना को हरी झंडी दिखा दी है। अब तक पीएफसी ने अपनी सीएसआर योजनाओं के तहत देशभर में 1142 करोड़ रुपए मंजूर किए हैं।

पीएफसी ने कोविड-19 के फैलाव और महामारी के दौरान हुई मानवीय क्षति की रोकथाम के लिए प्रभावशाली प्रयास किए हैं। पीएम केयर्स फण्ड में 200 करोड़ का योगदान करने के अलावा, पीएफसी ने राम मनोहर लोहिया अस्पताल, नई दिल्ली को मेडिकल उपकरण और सेवाओं जैसे- हेल्थ मास्क, सेनिटाइजर्स, मैकेनिकल वेंटीलेटर्स, पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट (पीपीई), एम्बुलेंस और डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ के लिए राशन और फूड पैकेट्स के प्रबंधन और वितरण लिए 6.35 करोड़ की आर्थिक सहायता भी दी है।

पीएफसी ईको-फ्रेंडली तकनीकों, स्वच्छ जल और सेनिटेशन संबंधी सुविधाओं, बच्चों की शिक्षा और पोषण, महिला सशक्तिकरण और रोजगार उन्मुख स्किल डेवलपमेंट ट्रेनिंग को बढ़ावा देने और इनका लाभ उठाने के उद्देश्य के साथ सक्रिय रूप से देश भर में सीएसआर पहल का संचालन करता रहा है।

गल्फ ऑयल इंडिया ने इलेक्ट्रिक मोबिलिटी को सपोर्ट करने के लिए लॉन्च किए ‘ईवी फ्लुइड्स’

मुंबई ,  , 04  अक्टूबर , 2022 -  हिंदुजा समूह की कंपनी गल्फ ऑयल लुब्रिकेंट्स ने  ‘ ईवी फ्लुइड्स ’  की विशेष श्रेणी के लिए स्विच मोबिलिटी और ...