Saturday, February 22, 2020

उत्तर से उगता  दक्षिण का सूरज कोचिंग हब से दे रहा युवाओं में नई दिशा

यूँ तो बजट में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कि कई घोषणाओं ने चौंकाया है लेकिन पहली बार प्रदेश में कोचिंग हब की घोषणा बजट में कर अशोक गहलोत ने कोचिंग को नई दिशा देने की अपनी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित किया है.


सूरत में कोचिंग अग्निकांड के बाद आनन फ़ानन में प्रशासन द्वारा जयपुर में स्थित सभी कोचिगों को बंद कराने के नीयत से जो कार्रवाई की गई थी उसे देखते हुए ऐसा लग रहा था की कोचिंग अब इतिहास बन कर रह जाएंगे लेकिन फिर अचानक कोचिंग में ऐक ऐसा नायक उभरा जिसने शहर में चल रहे कोचिंगों को बंद होने से बचाया ही नहीं अपितु कोचिंग हव को नई दिशा देने के लिए सरकार से कोचिंग हब के नाम से ज़मीन आवंटित करवाने में भी सफलता हासिल की,
  जी हाँ हम बात कर रहे हैं कांग्रेस पार्टी के शहर महासचिव अनीष कुमार की अनीष कुमार लंबे समय तक मीडिया के कार्यों से जुड़े रहे हैं और वहाँ भी इन्होंने कांग्रेस पार्टी को भरपूर समर्थन प्रदान किया उसी का परिणाम था कि सुप्रसिद्ध समाज सेवक जय सिंह सेठिया के संयोग से इन्होंने गांधी TV की स्थापना की जिसके उद्घाटन के लिए सुप्रसिद्ध गांधीवादी नेता डॉक्टर एस एन सुब्बाराव स्वयं पहुँचे लगभग 12 वर्ष पूर्व आए गांधी TV ने जयपुर शहर में ही नहीं पूरे प्रदेश में सुर्खियां बटोरी थी गांधी TV में चलने वाले कार्यक्रमों मैं से आज भी कई चैनलों में लगभग 12 प्रोग्राम हू बहू नाम से चलाए जाते हैं.
यही नहीं अनीष कुमार ने पत्रकारिता के दौरान ही कांग्रेस सरकार को आधार कार्ड की योजना को सफल बनाने में महत्वपूर्ण योगदान देकर अपनी दूरदर्शिता तथा कुशाग्र बुद्धि का परिचय दिया था यही कारण है कि आज केंद्र के बड़े कांग्रेसी नेता अनीष कुमार की कार्यप्रणाली की तारीफ़ करते हैं तथा उनके हर कार्य में भरपूर सहयोग भी प्रदान करते हैं.
विधान सभा तथा संसदीय चुनाव में अनीष कुमार की ही रणनीति के चलते भाजपा के पूर्व मंत्री सुरेन्द्र गोयल, राजकुमार रिणवा तथा सरस डेयरी के चेयरमैन ओम पूनिया को कांग्रेस के पाले में लाकर खड़ा करने में महती भूमिका निभाई थी,यही नहीं भाजपा छोड़ कांग्रेस में शामिल हुए जयपुर जिला प्रमुख मूलचंद मीणा के ख़िलाफ़ भाजपा द्वारा लाएं गये अविश्वास मत को ढहाने में भी अनीष कुमार की कार्यप्रणाली मीडिया तथा कांग्रेस के नेताओं में काफ़ी चर्चित रही है.हाल ही में भाजपा नेता किरोड़ी मल मीणा तथा जयपुर के ही कुछ कोचिंग संचालकों के संयोग से कांग्रेस सरकार के ख़िलाफ़ चलाएे गये फ़र्स्ट ग्रेड आंदोलन को समाप्त करने में भी अनीष कुमार की मदद ने कांग्रेस पार्टी में वरिष्ठ नेताओं के बीच सुर्खियां बटोरी थी.
    लंबे समय से गहलोत खेमे में शामिल रहे अनीष कुमार इन दिनों शहर कांग्रेस अध्यक्ष तथा परिवहन एवं सैनिक कल्याण मंत्री प्रतापसिंह ख़ाचरियावास के साथ शहर कांग्रेस मैं शहर महासचिव के रूप में कार्य कर रहे हैं
कोचिंग संचालकों की समस्या का निदान पाने के लिए उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को एक वर्ष  पहले ही कोचिंग हब के लिए भूमि उपलब्ध कराने के लिए पत्र लिखा था कोचिंग हब के द्वारा प्रदेश के युवाओं को अच्छा भविष्य देने की योजना को वे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सही तरीक़े से समझा पाए यही कारण है कि यह ऐतिहासिक योजना मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा प्रदेश में अमल में लाई जा रही है
कांग्रेस पार्टी दावा कर रही है कि कोचिंग हब कि उनकी योजना आने वाले समय में कोचिंग हब में आने वाले हर युवा बेरोज़गार को शत प्रतिशत रोज़गार उपलब्ध कराने में क़ामयाब रहेगी
कोचिंग हब के कार्यों को आगे बढ़ाते हुए प्रताप सिंह ख़ाचरियावास ने यह भी ऐलान कर दिया है कि जयपुर शहर को कोचिंग के क्षेत्र में देश का अग्रणी शहर बनाने में जो भी मदद संभव हो सके उनके द्वारा निस्संदेह उपलब्ध कराई जाएगी .
बहरहाल राजस्थान के कांग्रेस की राजनीति में दक्षिण के राज्य केरल के रहने वाले अनीष कुमार के द्वारा किये जा रे प्रयोगों को राजनीति के गलियारों में नि स्वार्थ भाव से पार्टी की सेवा करने के रूप में देखा जा रहा है


 


 



कोचिंग हब में रियायती भूमि देने की माँग को लेकर कोचिंग महासंघ की बैठक

कोचिंग हब में रियायती भूमि देने की माँग को लेकर कोचिंग महासंघ की बैठक

सरकार द्वारा पेश किए गिए बजट में कोचिंग हब की घोषणा से एक ओर जहाँ बड़े कोचिगों में ख़ुशी की लहर है वहीं कम छात्र पढ़ने वाले कोचिंगों में मायूसी छा गई है इस का कारण है कोचिंग हब की ज़मीन का अत्यधिक क़ीमती होना इसी के चलते कोचिंग संचालकों ने ऑल राजस्थान कोचिंग इंस्टीट्यूट महासंघ के बैनर तले सरकार से कोचिंग हब में कोचिंग संचालकों को रियायती दर पर भूमि उपलब्ध कराने की रणनीति पर विचार विमर्श करने के लिए मीटिंग आयोजित की गई है आल राजस्थान कोचिंग इंस्टिट्यूट महासंघ के संयोजक अनीष कुमार ने बताया कि कोचिंग हब में भूमि उपलब्ध कराने की उनकी माँग को मुख्यमंत्री ने मान ली है जिसकी उन्हें तथा कोचिंग व्यवसाय से जुड़े हर व्यक्ति को कुशी है लेकिन कोचिंग हब की भूमि की क़ीमत अधिक होने के कारण सभी कोचिंग संचालक इस भूमि को नहीं ख़रीद पाएंगे ऐसे में कोचिंग हब का लाभ गिने चुने बड़े कोचिंग संचालकों को ही मिल पाएगा कि जो इस व्यवसाय में संघर्ष कर रहे  युवा कोचिंग संचालकों के साथ अन्याय होगाआल राजस्थान कोचिंग इंस्टिट्यूट महासंघ ने आज रविवार को NIT जी कोचिंग संस्थान गोपालपुरा बाइपास पर आयोजित की है मीटिंग में आगे की रणनीति विचार आगे की रणनीति पर विचार विमर्श किया जाएगा एवं कांग्रेस के सभी विधायकों और मंत्रियों से कोचिंग हब में रियायती दर पर भूमि उपलब्ध कराने के लिए समर्थन माँगने की रणनीति पर आगे बढ़ा जाएगा

गल्फ ऑयल इंडिया ने इलेक्ट्रिक मोबिलिटी को सपोर्ट करने के लिए लॉन्च किए ‘ईवी फ्लुइड्स’

मुंबई ,  , 04  अक्टूबर , 2022 -  हिंदुजा समूह की कंपनी गल्फ ऑयल लुब्रिकेंट्स ने  ‘ ईवी फ्लुइड्स ’  की विशेष श्रेणी के लिए स्विच मोबिलिटी और ...